08/05/08

एक चिडियां की शिकायत अपने चिडे से

ध्यान से सुने इस दिवानी चिडियां की शिकायत, ओर खुद ही फ़ेसला दे, बेचारा चिडां....

5 comments:

  1. क्या बात है !!
    नसीहत भी है और फ़जीहत भी !!

    ReplyDelete
  2. कहानी के माध्यम से भली कही आपने।

    ReplyDelete
  3. घर जाकर सुनता हूँ यह शिकायत. :)

    ReplyDelete
  4. सभी का धन्यवाद मेरी होसला अफ़्जाईं का.

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।