15/08/08

बदला

बदला,
यह शव्द सुन कर हम सब के कान खडे हो जाते हे, फ़िर लगता हे अब लडाई जरुर होगी,या फ़िर बहस,अगर आप ब्लोगिंग करते हे, तो आप की किसी गलत बात पर लडाई, आप ने नारी के शरीर पर लिख दिया फ़िर लडाई, नही लिखा तो भी लडाई,
अजी हम लडने के लिये ही तो पेदा हुये हे,बचपन मे साथ के बच्चो से, स्कुल मे हम उम्र बच्चो से कालिज मे भी,शादी के बाद घर मे, अगर आप महिला हे तो सास, ननद से ओर देवरानी, जेठानी से,अजी यहां दाल ना गले तो पडोसी किस दिन काम आयेगे? क्या कहा!अच्छा आप के पडोसी नही हे, तो फ़िर आप बलांग पर ही सही, अजी बदला ही लेना हे ना फ़िर अनामी.सुनामी बन कर क्यो, हम से नये तरीके सिखे बदला लेने के..आज से शुरु... तो आज का पहला पाठ साथ वाले विडियो पर देखे फ़िर आजमाये,अगर आप कामजाब हुये इस **बदला** मिशन मे तो दुसरा पाठ उस के बाद ही मिलेगा... तो अब दबा कर देखे

12 comments:

  1. वंदे मातरम् !

    भई पहलम तो लाग्या के कुम्हार कुम्हारी नै जीते कोनी तो गधे के कान उमेठे ! पर बाद मै दिखया की यो तो दोनूं कुम्हार नुरा कुश्ती करके बिचारी दोनु कुम्हारियाँ नै ही ठोक डाली ! पहले बार देखा !

    ReplyDelete
  2. बहूत ही झन्नाटेदार रहा, बहूत खूब।

    ReplyDelete
  3. हा हा हा राज जी ये तो चलता ही रहेगा क्योंकि इसी में जीवन का आनन्द है। कहावत है ना- लड़नी रात हो बिछुड़नी ना हो। सस्नेह

    ReplyDelete
  4. स्वतंत्रता दिवस की बहुत बधाई एवं शुभकामनाऐं.

    ReplyDelete
  5. राजनीतिबाज लगते हैं. झगड़ा मर्दों का, पिट गई बेचारी औरतें.
    मुझे शिकायत हैं उन से जो बदले को अभी भूल नहीं सके.

    ReplyDelete
  6. बहुत खूब। एक बार फिर 15 अगस्‍त की शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  7. बदला-बदला सा "बदला" देख मजा आ गया।
    पंजाबी मे एक कहावत है कि - आटा गूंधते समय हिलती क्यों है। यानि मन तो बनाईए बहाने हजार मिलेंगे लडने के।

    ReplyDelete
  8. भाटिया साहब ,अब जाने भी दीजिये .....ये वीडियो निश्चित ही रील लाईफ है का है ना ?यह रीयल लाईफ में न तब्दील हो इसी शुभकामना के साथ स्वतंत्रता दिवस की बधाई !

    ReplyDelete
  9. आप सभी का धन्यवाद

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।