24/08/08

करवा चौथ

करवा चौथ

एक दिन लक्ष्मी जी से आकर,
बोले उल्लूराज
दुनियाँ पूजे तुमको सारी,
मुझको पुजवाओ आज...

मै वाहन तेरा हूँ माता,
कभी न पूजा जाता
कोई घर में टिकने न देता,
जब भी रहने जाना...

कोई ऎसा उपाय करो माँ,
जो मै भी पूजा जाऊँ
ज्यादा नही बस एक दिन तो,
उल्लू से देव कहलाऊँ...

सुन कर उल्लू जी कि बातें,
लक्ष्मी जी यों बोली
मेरे प्यारे उल्लू राजा,
बहुत हुई अब ठिठौली...

तेरा नाम सारे जग में
मुझसे भी ज्यादा आता है
कभी-२ तो अच्छे से अच्छा
उल्लू का पट्ठा कहलाता है

बात करो मत पूजन की,
तुमको एक दिन तो पूजा जाता है
दिवाली के ग्यारह दिन पहले,
दिन उल्लू पूजन का आता है...

करवा चौथ का दिन होता है
एसा महान प्यारे
इस दिन पूजे जाते हैं
दुनियाँ भर के उल्लू सारे...

22 comments:

  1. सारें जहाँ की समस्याओं से भाग कर अगर आनंद लेना हो तो सबसे अच्छी जगह आपके पास आना है !

    ReplyDelete
  2. जन्माष्टमी पर्व की आपको , आपके परिवार को एवं मित्र मंडली को हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    आपने ताऊओ की ऎसी तैसी करवाने का ठेका ले रखा है क्या ? ये बिचारे ताऊ सारे साल में एक दिन तो ताईयों पर भारी पड़ते हैं ! वरना सारी साल लट्ठ ही खाते हैं ! आप ताईयों को बहका
    रहे हो की इस दिन भी ताउओं की पूजा नही इनको लट्ठ खिलावो ! ये ग़लत बात है ! मैं एक ताऊ यूनियन बनाने की सोच रहा हूँ ! अब आपसे इस षडयंत्र में शामिल होने की कैफियत ताऊ यूनियन ही मांगेगी ! जिस ताऊ को भी यूनियन में शामिल होना हो वह संपर्क कर सकता है ! :)

    ताऊ यूनियन कार्यालय का पता इस प्रकार है :-
    केयर आफ : मुझे शिकायत है वाले राज भाटिया जी
    हाल मुकाम : जर्मनी
    पक्का पता : रोहतक (हरयाना )

    ReplyDelete
  3. bahut sundar, is din sachmuch ullu(sorry) pooje jaate hain. maza aagaya ye kavita padh kar, bada different sa vishay chuna aapne. badhyi.

    ReplyDelete
  4. अंग्रेजी में म्हारे को ये जोक म्हारी बीवी ने उसी दिन सुनाया था पहली साल को ही। तब से बोले है जितना चाहे पूजा करानी है करा लो उल्लू जी। वैसे
    कृष्ण जन्मोतस्व पर बधाई आपको।

    ReplyDelete
  5. भाई जी,
    सच उतना ही बोलो जिससे ठेस लगे। पूजे तो हम भी जा चुके हैं। शीशा तो मत दिखाईए।

    ReplyDelete
  6. वाह वाह ! मजा आ गया ये पढ़ कर तो !

    ReplyDelete
  7. "जिगर इत्ता बडा देना, हे देवी माँ ,
    कि, जब भी हँसूँ , खुद पर पहले "
    - लावण्या

    ReplyDelete
  8. सचमुच मजेदार लगी आपकी ये उल्लू पूजन की कविता

    ReplyDelete
  9. सतीश सक्सेना जी जब चाहो आओ आप का दिल से स्वागत होगा.
    आप सभी का धन्यवाद,

    ReplyDelete
  10. vishay bahut alag sa hai aur us par aapne achha likha hai... :)

    ReplyDelete
  11. grih lakshi ke bhaag bade
    jo ullu rahte sang
    jo ullu rahe kuwara
    karte usko tang
    gadha kah bulaate usko
    kahte murakhraj
    jindgi bhi kitntni badli
    ab tumhi bataao "raj"

    ReplyDelete
  12. bahut hi badhiya kavita hai...
    ullu ke jazbaton ko bahut ache se bahar nikal ke rakh diya

    ReplyDelete
  13. bahut khub. ullu poojan ki ye kavita padkar bahut mazaa aaya

    ReplyDelete
  14. बेहतरीन लिखा है आपने

    ReplyDelete
  15. उल्लूओ को पूजती ऊलूकियां -एक फोटो भी होता तो मजा आ जाता -कविताई भी अच्छी है !

    ReplyDelete
  16. जन्माष्टमी पर्व की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं.der se aayi kahin vyasat thi...bahut achchha likha Raj jee..hans hans ke haal bura hai :-)

    ReplyDelete
  17. ullu-puran der se padh raha hun 4 din chhuti mana kar lauta hun aur lautate hi aapne dil khush kar diya,jay ho sare ulluon ki,kyonki apan abhi tak pooje hi nahi gaye hain

    ReplyDelete
  18. बहुत खूब। घबराइए नहीं, जल्दी ही आने वाला है उल्लू पूजन पर्व।
    जाकिर अली "रजनीश"

    ReplyDelete
  19. wah sir wah... vyang mein bhi ek alag andaaz... bahut maza aya padhkar... agli post ka intzar rahega ...:)

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।