07/09/08

कुछ हमारे आस पास के चित्र !!

नमस्कार आईये हम आप कॊ कुछ ऎसे चित्र दिखाते हे, जिन्हे हम सब देखते तो हमेशा हे, शायद हम भी इन चित्रो मे ही कही शामिल हो , आज आप मेरी नजर से देखे ! फ़िर बताईये केसे लगे ....
क्या इन सब के बिना भी यह चल सकता हे? क्या इस का कोई इलाज नही ? क्या हम सब मजबुर हे यह सब करने को? क्या किसी ने इस का कारण पता करने की कोशिश की हे? इन चित्रो को देख कर विदेश मे हमारे देश की क्या छवि होगी ?

जरुर सोचे!!!





ओर यह हॆ हमारे लालु जी की रेल गाडी

14 comments:

  1. वाह भाटिया जी कमाल का फोटो कलेक्‍शन है आपका नायाब आदभुत लेकिन आप की बात सोलह आने सच है ये हमारे लिए निंदनीय भी हैं

    ReplyDelete
  2. पहला चित्र भारत की जमीनी सच्चाई को प्रदर्शित करता है !!



    -- शास्त्री जे सी फिलिप

    -- हिन्दी चिट्ठाकारी के विकास के लिये जरूरी है कि हम सब अपनी टिप्पणियों से एक दूसरे को प्रोत्साहित करें

    ReplyDelete
  3. बहुत खतरनाक एवं डरावने चित्र हैं !
    साथ ही निंदनीय भी !

    ReplyDelete
  4. गजब फोटूऐं लाये हैं आप!!

    ReplyDelete
  5. पहली दो फोटो के बारे में क्या कहूं
    मगर तीसरी फोटो देख कर मज़ा आ गया हा हा हा
    वीनस केसरी

    ReplyDelete
  6. raaj ji mujhe shikayat hai aapne itne achhe photo is blog par dale hain ki is blog par baar baar aane ka man karta hai.

    ReplyDelete
  7. nice photos and also very interesting..aapki blog mujhe bahut hi rochak lagati hai hamesha.

    ReplyDelete
  8. bas itna hi kahunga ki
    azab-gazab

    ReplyDelete
  9. गजब के चित्र हैं। आपने इन्हें कहां से खोजा? लगता है गाडी अब गिरी, तब गिरी।

    ReplyDelete
  10. over loading is future too
    todat it is train bus
    next time it will be earth


    have a photo at your mail address
    in which earth is surrounded with crowd of satellite

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।