29/06/09

बूझॊ तो जाने ??

नमस्कार आप सब को , जी आयाणू, सत्श्री अकाल, सलाम
तो आप इस चित्र को ध्यान से देखे, ओर जितनी देर देखना चाहे देखे, फ़िर बताये कि इसे यह फ़ुलो की माला क्यो पहनाई  गई है, क्या यह कोई महान नेता की आत्मा है, या कोई खास कुत्ता है, ओर अगर यह कोई खास कुत्ता है तो इस का नाम भी होगा, ओर पहचान भी होगी , बस आप ने इस का नाम ओर इस की पहचान बतानी है, ओर यह विश्व मै या भारत मै किस जगह से है, तो बताईये यह महाश्य कोन है क्या नाम है, क्या पहचान है.

32 comments:

  1. इस रहस्य को समझ नहीं पा रहा हूँ .

    ReplyDelete
  2. Shivaji's Pet Dog Waghya

    AT

    Raigad Fort.


    Raigad Fort has a historical significance in India and Maharashtra. Also known as capital of Swarajya(Freedom), this fort was the capital of Chhatrapati Shivaji Maharaj, one of the great heros of India.

    ReplyDelete
  3. लाजवाब! आपकी पहेली तो ताऊ की पहेलियों से भी कठिन है.

    ReplyDelete
  4. यह अंतरिक्ष यात्री लाइका की प्रतिमा लगती है।

    ReplyDelete
  5. भाटिया जी ये तो शिवाजी के कुत्ते की मूर्ति है जो रायगढ़ किले मे लगाई गयी है इसका नाम वाघ्या था।

    ReplyDelete
  6. pet dog shivaji waghya raigad fort maharashtra india

    ReplyDelete
  7. थोड़ा पूछ-पाछ कर आता हूं फ़िर बताऊंगा।

    ReplyDelete
  8. यह छत्रपति महाराज शिवाजी के पालतू स्वामिभक्त कुत्ते--वाघ्या की murti है,जिसे फूल माला पहनाई हुई है.

    ReplyDelete
  9. Statue Of Shivaji's Pet Dog Waghya

    regards

    ReplyDelete
  10. Chhatrapati Shivaji had a pet dog called 'Waghya'. After Shivaji's death, the dog mourned and died soon after, hence his statue was put up on a pedestal next to Shivaji's

    regards

    ReplyDelete
  11. ये हमारा सैम है और अबकि बार चुनाव जीत गया है इसलिये इसको माला पहनाई गई है.और यह बात हम ली कई पोस्ट मे बता चुके हैं कि अब बीनू फ़िरंगी इसका सेकेरेटरी है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  12. यह शिवाजी का कुत्ता वाघ्या है... यह शिवाजी से बहुत प्यार करता था, जिस दिन शिवाजी ने दम तोडा इस कुत्ते ने भी उस के थोडी देर बाद ही प्राण त्याग दिए थे... जहाँ शिवाजी की समाधी है वहीँ इस कुत्ते की प्रतिमा लगाये गयी है...
    मीत

    ReplyDelete
  13. भाटिया जी, ये तो एक सैम्पल पीस है. भारत सरकार नें इसी तरह के कुल 543 बुत्त बनवाए हैं,जिन्हे प्रत्येक लोकसभा क्षेत्र में लगवाये जाने का विचार है। किन्तु पता चला है कि केन्द्र की देखा देखी राज्यों मे भी ये मांग उठने लगी है कि इस तरह के बुत्त(गधे,हाथी,कुत्ते,बिल्ली इत्यादि) उनके विधानसभा क्षेत्रों में भी लगाए जाएं!!!!
    "कुकर प्रदेश" मे तो इस अति महत्वाकांक्षी परियोजना पर काम भी शुरू हो चुका है।

    ReplyDelete
  14. Chhatrapati Shivaji had a pet dog called 'Waghya'. After Shivaji's death, the dog mourned and died soon after, hence his statue was put up on a pedestal next to Shivaji's.

    ReplyDelete
  15. कोई हिंट तो दो
    वैसे कहीं यह वही कुत्‍ता तो नहीं जिसने मरीन वार 1944 के दौरान अपने प्राण गंवाए थे और शायद यह किसी सेना का कुत्‍ता था इसने साहसिक कार्य किए इस लिए इसका बुत लगाया है

    ReplyDelete
  16. मोहन जी फ़िर से सारी टिपण्णीयां पढिये, इस कुत्ते का नाम साफ़ साफ़ लिखा है किसी एक टिपण्णी मै...यह आज का सब से बडा हिंट है...बस ध्यान से पढे, फ़िर जुट जाये गूगल महाराज मे उसे ढुंडने के लिये, सही जबाब आ चुके है, ओर इन ऊपर दी टिपण्णियो मै भी इस कुत्ते का नाम आ चुका है, कोशिश करे...

    ReplyDelete
  17. यह जो प्राणी चित्र में दिख रहा है इसका नाम मोती है ...

    यह मोती बनारस में रहने वाले राम खिलावन के पास था ! इस मोती ने राम खिलावन की सास को दो-तीन बार काटा ! जिसके कारण मोती का नाम दूर-दूर तक प्रसिद्ध हो गया ! मोती को खरीदने वालों की लम्बी लाईन लग गयी ...

    लेकिन राम खिलावन अत्यंत परोपकारी प्रकृति का था .. इसलिए उसने जनहित को ध्यान में रखते हुए इस मोती को किसी आदमी के हाथ बेचा नहीं ! राम खिलावन ने मोती के प्रतिदिन का किराया निर्धारित कर दिया !

    लोग आते मोती को एक दिन के लिए ले जाते और 2000 रुपये चुका जाते ! मोती ने अपनी अल्पकालिक आयु में लगभग 265 लोगों की सास को काटा .. जिसके कारण लोग आज भी मोती को नाम आँखों से याद करते हैं !

    जनता ने भी मोती के सुकर्मों को याद रखते हुए मोती की प्रतिमा स्थापित कर दी ! दुनिया के हर कोने से लोग आते हैं और मोती को श्रद्धांजलि अर्पित करते हुए फूल-माला चढाते हैं .. जैसा कि आप चित्र में देख रहे हैं !

    ReplyDelete
  18. ऐसा लगता है जैसे किसी नेता को आईने के सामने बैठा दिया गया हो.

    ReplyDelete
  19. ये तो ताऊ का सैम है ! जिसने अभी अभी अपनी मूर्तियों का पार्क बनवाया है :)

    ReplyDelete
  20. @दिनेश राय जी की बात सही लग रही है यह लाइका की प्रतिमा हो सकती है।

    ReplyDelete
  21. अरे ये तो अपना टॉमी है। आपको कहां मिला।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  22. शिवाजी के पालतू स्वामिभक्त कुत्ते--वाघ्या की मूर्ति है.
    इस लिंक में देखें:
    http://amitkulkarni.info/pics/raigad-fort/picture-gallery/Statue-of-Shivaji-pet-dog-Waghya.php

    ReplyDelete
  23. शिवाजी का पालतु कुत्ता "वाग्य" कहते है कि इसकी मॄत्यु शिवाजी की मृत्यु के कुछ समय बाद हो गई.. ये मुर्ती रायगढ़ के किले में शिवाजी की मुर्ती के बराबर में लगी है..

    ReplyDelete
  24. ओह! मैं इतनी देर से आया! उत्तर तो दे ही दिया है कई मित्रों ने। ये है शिवाजी के कुत्ते वाघ्या की मुर्त्ति है जो रायगढ़ किले में है।

    ReplyDelete
  25. भाटिया जी ..आपको सैम की फ़ोटो इस्तेमाल करने के कारण यह बता देते हैं की यह सैम के पुरखे शिवाजी के कुत्ते वाघ्या की मुर्त्ति है .

    अगर ना हो तो सैम जिम्मेदार है.:)

    ReplyDelete
  26. rah bhai yo to shivajee kaa kutta hai..aur ab to mujhe lag raha hai..achha hai jo murtee hai ..nahin to golu pandey se rampyari ke liye bhid jaataa..to badi mushkil ho jaatee..ye apne udantashtaree jee to upar antriksh mein baith kar doorbeen se jhat se pooree duniya dekh kar bata dete hain..rukiye kal hee apne kitchen mein se belan kee foto lagaataa hoon fir phoochtaa hoon unse..kaise bataate hain..raj bhai..aglee baar se jo udantashtaree kahein hamaaraa bhee wahee hai..amaa doorbeen kahaan hai hamaare paas.....?

    ReplyDelete
  27. पहले से पूछने वालों ने
    बाद में बतलाने वालों ने
    सबने इसको कुत्‍ता क्‍यों कहा
    यह समझ नहीं पाया हूं
    जब इसको हार पहनाया है
    तो समझ जाना चाहिए था
    कि हार पहनकर आया है
    तो क्रिकेट कप्‍तान धोनी ही होगा
    पर बिना धोये ही दिखलाया है
    इसलिए रंग कुछ काला आया है
    क्रिकेट खिलाडि़यों की अंतर्रात्‍मा के माफिक
    नेताओं के दिल की तरह
    और कोयला खदानों के रंग की तरह
    और दलाली करने वालों के मुखड़े ...
    पर इसमें इसका कोई दोष नहीं
    दोष तो इस पर पहेली बनाने
    और पूछने फिर बतलाने वालों का है
    कृपया वे कानूनी कार्यवाही की तरह
    तैयार रहें
    यदि इससे भी सहमत न हों सब
    तो जाने असली सच्‍चाई अब
    पर यह न कहना कि
    सच्‍चाई असली भी होती है
    जी हां, होती है
    यह बेनामी है
    जिसने हिन्‍दी ब्‍लॉगजगत में
    इतना हल्‍ला धमाल मचा रखा है
    बहुतों ने तो इसको
    अनामिका कह कर पहचान रखा है।

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।