15/09/09

मेरी उलझण ? क्या मेरी यह उलझण सच है या एक वहम ?

चित्र को बडा करने के लिये चित्र पर कलिक करे

नमस्कार, यह मेल मुझे कई अलग अलग साथियो की तरफ़ से मिली, एक मित्र को मेने जब किसी बात के सिलसिले मै मेल किया ओर पुछा कि भाई यह मेल केसा ? तो मै उन का जबाब पढ कर हेरान रह गय, उन का कहना कि यह मेल तो आप ने मुझे भेजा था, तो साथियो मै किसी को ऎसा कोई मेल कभी नही भेजता, ओर यह मेल जरुर किसी तीसरे आदमी की शरारत है, इस लिये आप इस मेल को खोलने से पहले कम से कम दस बार सोचे, इसी मेल को नही, ऎसा कोई भी मेल आये तो उसे खोलने से पहले कई बार सोचे,
ओर मेने आज तक किसी को भी ऎसा कोई मेल नही किया, बस ओर्कुट ही किया था, पुजा से समबधित, या किसी को दस बीस मेल करो ऎसा मेल मुझे कई बार मिला लेकिन मै उसे ज्यादा तव्ज्जो नही देता, ओर ना ही उसे कभी आगे भेजता हू, आप सब साबधान हो जाये.
अगर किसी को इस मेल के बारे कोई जानकारी हो तो जरुर लिखे.

28 comments:

  1. सावधानी हटी तो दुर्घटना घटी

    ReplyDelete
  2. भाटिया जी ,

    प्रणाम |

    http://www.orkut.co.in/Main#Profile?rl=ls&uid=267086216023243207 यह मेरी ऑरकुट profile का लिंक है | कृपया add करे |
    आज कल spam mails बहुत आ रहे है और वो भी काफी पैमाने में सो हर मेल को बहुत सोच समझ कर खोलने में ही भलाई है !

    ReplyDelete
  3. म्मुझे भी मिला एक नही दो दो मेल पत्ते पर. एक को खोल भी दिया। भर भी दिया भेज भी दिया। अब यह पत्ता नही वो किसके घर के पत्ते पर पहूचा? लो राजभाई, आपके नाम के अन्धे भक्त, उतावलेपन मे सब कुछ हम कर गऐ। कोनो ही चिन्ता नही करे, हू ना!
    हम निपट लुगा,उस चोर उचके से।
    हे प्रभु यह तेरापन्थ

    ReplyDelete
  4. हो सकता है आपके पास इस तरह का कोई मेल आया हो .. और आपने उसे खोलकर कहीं पर क्लिक कर दिया हो .. अपना विज्ञापन करने के लिए उन्‍होने ऐसी व्‍यवस्‍था की होती है .. कि आपके सारे मित्रों को एक एक मेल चला जाता है .. ऐसे मेल आते हैं .. तो मैं उन्‍हे तुरंत डीलीट कर देती हूं !!

    ReplyDelete
  5. हम भी जान गये नहीं तो जाने अनजाने कई बार मेल खुल ही जाती है ।

    ReplyDelete
  6. हम तो पूरी तरह से सावधानी बरतते है जी ! अनजान मेल व अपनी पोस्ट का प्रचार करती मेल कभी खोलते ही नहीं |

    ReplyDelete
  7. एक उपाय..डिलिट. कई दिन से यही कर रहे हैं.

    ReplyDelete
  8. ऐसी ही मेल हमें भी मिली थी। पर हमें तो अब कोई चीज आश्चर्य नहीं लगती। सीता जी को सोने का हिरण आश्चर्य लगा था। उस का नतीजे में रामायण रच गई।
    कल तीन बार तो पाउण्डों और डालरों और यूरोज की लाटरियाँ खुलीं। हम ने सब को स्पेम कर दिया। अब पड़ी रहें वहाँ महिने भर तक फिर उन्हें मृत्युदंड। इन का इलाज यही है।

    ReplyDelete
  9. हमने तो सीख रखा है डिलीट करना.:)

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. हम तो अब सावधान हो गए, यदि कोई ऐसा मेल आयेगा तो तत्काल डिलीट कर देंगे।

    ReplyDelete
  11. राज की बात यह है कि
    सब कुछ संभव है
    असंभव कुछ नहीं

    ReplyDelete
  12. दिनों दिन ये स्पैम मेल बड़ते जा रहे हैं हम भी ताऊ जी की तरह बस सीधा डिलीट ही कर देते हैं, अब क्या है वाइरस भी हो सकता है....सावधान तो रहना ही होगा...
    regards

    ReplyDelete
  13. हमारे पास भी कल परसों यही मेल आया था......लेकिन शुक्र है कि हमने तो देखते ही डिलीट कर दिया!!!

    ReplyDelete
  14. aise mail delete karne mein hi samjhdari hai,yahi sikh gaye ab tak:)

    ReplyDelete
  15. श्रीमान जी सही कह रहे हैं इस तरह के मेल से सावधान रहना चाहिए . हो सके तो ऐसे मेल को तो डिलीट ही कर देना चाहिए .

    ReplyDelete
  16. aise mail se savdhan rahane ki jarurat hai..
    kahi par click na kare ye sab social networking ka faila hua jaal hai jo ek site se dusare site tak jata hai aur waha se id lekar invitation bhejeta hai..

    kripaya ignore kare aise mail ko..dhanywaad

    ReplyDelete
  17. अब हम भी डीलिट अस्त्र शस्त्र का प्रयोग करेगे......

    ReplyDelete
  18. समय पर चेताने का शुक्रिया...भाटिया जी
    नीरज

    ReplyDelete
  19. मेल से रहें सावधान
    यह तो फीमेल भी कहती हैं
    फिर भी मेल के साथ ही रहती हैं
    मेल से ही होता है खतरा
    और मेल से ही होती है मित्रता
    मेल मानव का स्‍वभाव है
    मेल ही खतरा जनाब है
    मेल की महिमा अपरंपार
    इतना ही लिखूंगा
    मैं इस बार
    मेल से ही बनती है रेल
    मेल से ही मिलती है जेल।

    ReplyDelete
  20. निरस्त अस्त्र का प्रयोग इन परिस्थितियों मे सर्वथा उचित है भाटिया जी । हम भी यही करते हैं ।

    ReplyDelete
  21. इस डिजिटल दुनिया में जरा बच के !

    ReplyDelete
  22. बहुत अच्छी सलाह है मेरे जैसों के लिये धन्यवाद्

    ReplyDelete
  23. अच्छा हुया आपने सावधान कर दिया धन्यवाद्

    ReplyDelete
  24. मै तो बस आपको धन्यवाद कहूँगा......

    ReplyDelete
  25. इस तरह की चीजों का कचरा पेटी का रास्तादिखाना ही सही रहता है।
    ( Treasurer-S. T. )

    ReplyDelete
  26. bhatiya jo aapke blog par likkhi soochna ko padhkar kuch uljhan me hoon. aap ne khulkar kuchh likha nahi ki aap kis dharm ki baat kar rahe hai.agar aap yah katax hiundu dharm ke un logo par kar rahe hai jo ki islaam va issaiyat ko galat bataate hai ,to aapki nigaah me guru nanak,swaami dayanad,swaami vivekaanand,guru govind singh,lala lajpat rai,bheem rav ambeddkar,veer sawarkar sabhi galat hai.

    ReplyDelete
  27. Raj ji,
    hamse pahile Naveen Ji ka comment ham to samjhey hi nahi...lagta hai galat jagah teep kar chale gaye hain u..
    Khair accha hua aapne bata diya nahi to 'aap kuch kahein aur ham na aayein aise to haalaat nahi' waala geet gate hue jawaab de hi dete ..
    bahut bahut shukriya aapka..

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।