06/08/10

फत्तू के कुंवारा रहने का कारण ताऊ जी और राज जी

श्री राज भाटिया जी ने कहा -  "अमित भाई बहुत सुंदर यादे याद दिला दी आप ने. लेकिन आप तो हम से काफ़ी बाद आये ओर यादे सारी हमारे वाली ही है, तख्ती का एक ओर भी लाभ था... कभी कभी उस से धुनाई भी करते ओर करवाते थे, आज तो कई बार पढी आप की पोस्ट. धन्यवाद "

आदरणीय राज भाटिया जी इसका मतलब है कि आपके पाठशाला के समय से मेरे समय यानि 1982-90 तक वही जमाना रहा। मैनें इन सबका इस्तेमाल किया है। हम सरकारी स्कूल में पढते थे। हमतो अपने बस्ते के साथ बैठने के लिये आसन (सीमेंट का खाली बोरा/कट्टा) भी ले जाते थे। और सर्दियों में कम्बल ओढ कर बैठते थे। कभी-कभी छोटी सी अंगीठी बनाते थे। 2 kg. की डालडा की खाली कनस्तरी/लोहे की पीपी को काटकर। उसमें बीच में छेद करके साईकिल के पहिये की तार डालते थे और सिगडी तैयार। एक थैली में जली हुई लकडी के कच्चे कोयले और अंगीठी ले जाते और विद्यालय में अपने पास जलाकर बैठते थे। 

श्री ताऊ रामपुरिया जी ने कहा  - "बहुत सही लिखा आपने. हमने और भाटिया जी ने तो इस तख्ती से कईयों के सर फ़ोडे थे. लठ्ठ से भी ज्यादा कारगर हथियार था. एक बार एक बडी क्लास के लडके से झगडा होगया. झगडे में सामने वाला ज्यादा ज्यादा तगडा था. भाटिया जी तख्ती लेके उस पर पिल पडे पर वो काबू में नही आरहा था. मैने अपना होल्डर बस्ते (स्कूल बैग कपडे वाला) से निकाला और उसकी निब की तरफ़ से उस छोरे के दे मारा...और आगे क्या हुआ होगा? ये बताने की नही सोचने की बात है...हमने तो इन सब चीजों का उपयोग हथियार के बतौर ही किया, बजाय लिखने पढने के. रामराम" 

ओह! तो वो आप दोनों थे। फत्तू चौधरी कई बार जब अपने बचपन के किस्से सुनाया करै तो इस बात का जिक्रा भी जरूर करा करै। ताऊ जी वा निब उसकी नाक म्है घुसगी थी और आज भी नाक पै छेद है अर जित उसके सिर पै राजजी की तख्ती लागी थी उडै तै टांट (सिर) आज भी गंजा है। :-)
आप दोनों की वजह से बेचारे का ब्याह भी ना होया। ये निशान देखकै कोये भी छोरी फत्तू तै ब्याह करण नै राजी ना होई।  

उपरोक्त पंक्तियां हल्के-फुल्के मूढ में मजाकिया तौर पर लिखी गई हैं। अगर आपको बुरा लगा है तो क्षमायाचना सहित हटा दी जायेंगीं।

11 comments:

  1. अरे इस लिए वो पुलिस वाला आपको और ताऊ को अभी तक खोज रहा है |

    ReplyDelete
  2. ताऊ और भाटिया जी से यही अपेक्षित था !हा-हा-हा-हा खाम-खा बेचारे फत्तू की टांड फोड़े दी !

    ReplyDelete
  3. ताऊ को तो कभी देखा नहीं , लेकिन भाटिया जी से ऐसी उम्मीद नहीं ओ सकती ।
    खैर फत्तू तो खामख्वाह पिट ग्या बेचारा ।

    ReplyDelete
  4. अरे भाई यो जाणकै बडा अफ़्सोस हुया कि फ़त्तू बिचारा कंवारा रह गया? पर इब के किया जा सकै सै? ताऊ और भाटिया जी से पंगा लेण की सजा तो मिअल्णी ही थी.

    रामराम

    ReplyDelete
  5. अमित जी , जो हम से पीट गया उसे शादी करनी ही नही चाहिये, क्योकि हम ही इकलोते है जो हमेशा पिटते है.... एक बार बचपन मै एक बालक को पीटा वो आज विधायक बने फ़िरते है.....
    लेकिन बहुत सुंदर लिखा, पढ कर मजा आ गया, अब फ़त्तू के लिये कोई गोरी ढुडते है.... बेचारे के हाथ पेर पीले हो जाये.
    राम राम

    ReplyDelete
  6. आपने बहुत ही बढ़िया पोस्ट लिखी है!
    --
    इसकी चर्चा तो चर्चा मंच पर भी है-
    http://charchamanch.blogspot.com/2010/08/238.html

    ReplyDelete
  7. उफ़्फ़... कहां-कहां घसीट कर ले जाते हो बचपन में ...simply nostalgic

    ReplyDelete
  8. तभी इन दोनों को कोई काम नहीं मिला आजतक ! राज भाटिया "पराये देश" में "छोटी छोटी बातें" सुनकर "मुझे शिकायत है" लेकर बैठे रहते हैं और ताऊ मदारी हैं वह तो शुक्र करो कि जमूरों कि लोकप्रियता से दूकान चल निकली और नकली मिलावटी तेल और फर्जी दवाएं बेचते रहते हैं !

    सो लोगों को सरे आम बेवकूफ बना कर किसी तरह गुज़ारा चल जाता है...

    आप इनसे सावधान रहना ...

    ReplyDelete
  9. मजेदार हा हा ..... बेचारा फत्तू...

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।