13/11/10

रोहतक का राज : मोबाईल पर

श्री राज भाटिया जी आज दिल्ली में हैं और कल सुबह अपने पैतृक घर रोहतक में होंगें। आप श्री राज भाटिया जी से 09560922699 पर बात कर सकते हैं। आप सबसे मिलने के लिये श्री राज भाटिया जी ने 21 नवम्बर, रविवार का कार्यक्रम रोहतक में रखा है।  कल की पोस्ट में आपको जगह और पूरा पता बता दिया जायेगा। जो मित्र आज दिल्ली में नुक्कड पर ब्लॉगर मीट करके आ रहे हैं या किसी कारणवश नहीं जा पाये हैं, वो सभी मित्र-बन्धु 21 नवम्बर, रविवार को रोहतक के लिये आरक्षित कर दें। श्री राज भाटिया जी और श्री समीरलाल जी के अलावा आपकी मुलाकात होगी, ब्लॉगजगत की कई नामचीन हस्तियों से 
बस-बस मैं अभी सबका नाम नहीं बताऊंगा। आपको रोहतक आना ही पडेगा। जल्दी से अपने आने की खुशखबरी टिप्पणी में या मेल द्वारा या फोन करके श्री राज भाटिया जी को 09560922699 या श्री ललित शर्मा जी को 09425514570 या अन्तर सोहिल (मुझे) को 09871287912 पर दीजिये।
अन्तर सोहिल का प्रणाम

9 comments:

  1. मैंने इस सम्‍मेलन में आने की कभी भी स्‍वीकृति नहीं दी थी, कारण है विवाह समारोह। सम्‍मेलन के लिए शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  2. सम्मेलन की सफलता के लिए शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  3. सम्मेलन की सफलता के लिए शुभकामनाएं...

    ReplyDelete
  4. क्या बात कर रहे हो? ताऊ भी आ रहे हैं।
    यकीन नहीं हो रहा।
    लेकिन अगर आ गये तो क्या कहने।

    ReplyDelete
  5. स्वागत है सभी ब्लागर बंधुओं का :)

    ReplyDelete
  6. बडी बेसब्री से इन्तजार है 21 तारीख का। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. बधाई!...अभी अभी श्री. राज भाटियाजी से बात हुई है!....इस समारोह में, मै शिरकत करने आ रही हूं!...बडी बडी हस्तिंयां जब एक जगह पर एकत्रित हो रही है तो उनसे मिलने,बतियाने का मोह तो है ही!...राज भाटियाजी के इस भगिरथ कार्य की सफलता के लिए ढेरों शुभ-कामनाएं!!

    ReplyDelete
  8. aap sabhi ka swagat hai Rohatak aane par main bhi aaunga aap sabhi ke darshan karne ke liye aap sabhi jarur pahunchna

    ReplyDelete
  9. @ अजीत गुप्ता जी

    मैं आपसे हाथ जोडकर माफी माँगता हूँ। ऐसा गलती से हो गया। श्री राज भाटिया जी ने मुझे आगंतुकों की सूचि मेल से भी भेजी थी। मेरी गलती की वजह से वह सूची मुझसे गुम गई। फिर जैसे-जैसे याद आता गया मैं पोस्ट में नाम लिखने लगा। पता नही कैसे आपका नाम भी जहन में आ गया और लिखा गया। आशा है आप मुझे इस मानवीय भूल के लिये क्षमा कर देंगी।
    देरी से प्रत्युत्तर के लिये भी क्षमा चाहता हूँ। अगर आप आते हैं तो सबको आपसे मिलकर बहुत खुशी होगी।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।