13/05/08

मुझे शिकायत हे उन लोगो से जो....

आप ने भारत मे कोई भी ऎसी जगह नही देखी होगी जहां गन्दगी ना हो,कभी सोचा हे यह सब गन्दगी कहा से आती हे.....
मुझे शिकायत हे उन सभी लोगो से जो हर जगह ,अपने आस पास गन्दगी डालने से वाज नही आते, बाजार मे मुफ़ली खाई ओर छीलके हर तरफ़ फ़ेकं दिये, केला खाया ओर छिलका .. यानि हम कोई मोका नही खोना चाहते गदंगी ना डालने का, ओर फ़िर दोष सरकार को, मुनिस्पलटी को, ओर दुसरे लोगो को..
यह हमारा देश हे हमे यहां रहना हे तो क्यो ना इसे साफ़ रखे, गन्द इधर उधर ना डाल कर अपने पास एक थेली मे रखे ओर उसे उचित स्थान पर ही फ़ेके, घरो के गदंगी कॊ, कुडे को भी पहले घर के कुडे दान मे फ़िर जहां कुडा फ़ेका जाता हे वहां फ़ेके,आप को देख कर सभी एक दिन ऎसा ही करे गे फ़िर देखे कितना साफ़ होता हे हमारा देश, वेसे मे यह कर चुका हु, ओर मुझे देख कर ओर भी आसपडोस ने यही किया

5 comments:

  1. आपकी शिकायत जायज है. आपको शिकायत करने का पूरा अधिकार है. पर आप दूसरों के उस अधिकार को नजरअंदाज कर रहे हैं, जिस के अंतर्गत वह यह सब कर सकते हैं. यह अधिकार आता है उस सोच से जो कहता है - 'अरे यार यहाँ सब चलता है'.

    आप अपने सुझावों पर अमल कर चुके हैं यह जान कर बहुत अच्छा लगा. वरना लोग सिर्फ़ दूसरों की शिकायत करते हैं. ख़ुद की शिकायत कोई नहीं करता.

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल ठीक बात है.. हमारी कॉलोनी में साझा प्रयास से हमने इस समस्या से निजात पा ली है..

    ReplyDelete
  3. कुछ हद तक साझा प्रयास ने इस समस्या पर काबू पाया। लेकिन बाद में इस प्रयास की हत्या कर दी गई। वह लम्बी कहानी है। फिर कभी।

    ReplyDelete
  4. This comment has been removed by the author.

    ReplyDelete
  5. Log apne liye hi prasani paida karte hain. Hum chahakar bhi kai logon ki mansikta nahin badal sakte. Mobile post.

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।