15/07/08

आज हमारा शिकायत घर बन्द हे

लेकिन बाहर से देख कर वापिस मत जाये अन्दर तो गप्पे चल रही हे, आईये ओर आप भी गप्पे मारे या सुने अजी नही पढिये.....
"अच्छा, तो कल मिलने का वादा पक्का रहा" प्रेमिका ने विदा होते समय प्रेमी से कहा .
"बिल्कुल, 100% पक्का, प्रेमी ने ख़ुशी से उत्तर दिया .
"तो फिर तुम ठीक 8 बजे मेरे घर पर आ जाना प्रेमिका चहकी .
"ज़रूर, ज़रूर आ जाऊंगा मेरी जान प्रेमी की ख़ुशी का ठिकाना नही था .
"और हाँ, मैं फ़र्स्ट फ्लोर पर रहती हू, तुम ऐसा करना कि जब तुम आओ तो अपनी कोहनी से बेल बजा देना".
"कोहनी से क्यों ? हाथ से क्यों नही हैरान प्रेमी को कुछ समझ नही आया.
"तुम्हारे हाथ तो उन गिफ़्टों से भरे होंगे ना जो तुम मेरे लिए लाओगे प्रेमिका ने शंका निवारण किया.
**************************************************************
एक बार एक प्रेमी-प्रेमिका पार्क में मिले .
प्रेमी , जो कुछ परंपरावादी किस्म का था , प्रेमिका के तंग कपड़े देख कर भड़क उठा और ग़ुस्से से बोला
इतने छोटे कपड़े पहनते हुए तुम्हे शर्म नही आती , ये तुम्हारी मिनी स्कर्ट......उफ़ , बेशर्मी की हद है". आधुनिक तथा चतुर प्रेमिका तुरंत बोल उठी--"अरे , तुम नही जानते , इस मिनी स्कर्ट के बड़े फ़ायदे हैं , पता है , मिनी स्कर्ट पहने होने पर लड़की संकट आने पर तेज़ी से भाग सकती है ".
और मिनी स्कर्ट पहनने के कारण वो संकट कभी भी आ सकता है"-- प्रेमी ने ठंडी साँस भर के कहा.
******************************************************************
एक रूपगर्विता ज्योतिषी के पास पहुंची और हाथ दिखाकर बोली - ''महाराज, मैं बड़ी गंभीर समस्या में घिर गई हूं। मेरे दो मित्र हैं, मोहन और सुरेश। दोनों ही पैसेवाले और सुंदर हैं। दोनों ही मुझसे शादी करने के इच्छुक हैं। बताइए उनमें से कौन खुशकिस्मत होगा ?''
ज्योतिषी महोदय ने त्वरित उत्तर दिया - ''मोहन तुमसे शादी करेगा और सुरेश खुशकिस्मत होगा!'
****************************************************

2 comments:

  1. राज जी
    बहुत बढ़िया । दुनिया में हँसी बाँटने से बढ़िया और कोई काम नहीं। बाँटते रहिए। सस्नेह

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।