18/08/08

प्यार

प्यार क्या हे? यह किसी की समझ मे नही आता , हर कोई इसे अपने अपने नज्रिये से देखता हे,मुझे भी पता नही प्यार क्या होता हे, शायद प्यार का एक रुप यह भी हो सकता हे,क्या इसे ही प्यार कह सकते हे,क्या प्यार सिर्फ़ अपनी जात, अपने धर्म, अपनी नस्ल से ही हो सकता हे? तो इसे देखे... फ़िर बाताये इन्सांयित किसे कहते हे

4 comments:

  1. kya kahe bhai sab bada kathin sawaal kiya hai aapne,ab to lagta hai insaaniyat kabhi-kabhi jaanwaron me hi nazar aati hai.achhi post achha sawaal

    ReplyDelete
  2. nice viadeo presentation added to your post

    thanks

    ReplyDelete
  3. पहली बार देखा ! विश्वास नही होता !
    बहुत जोरदार है ! धन्यवाद !

    ReplyDelete
  4. कुछ सीखें हम इंसान भी, काश!!

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।