18/08/08

कोई मेरी मदद करे e mail

बात यह हे की मेने अपने बांलग पर थोडी बहुत फ़ेर बदल की थी, शायद कही कुछ गलत सेंटिग हो गई हो, पता नही, अब जब भी कोई टिप्ण्णी आती हे तो उस की एक कापी मुझे g mail से मेरे e mail पर भी आती हे, जो थोडे दिन पहले ठीक ठाक आती थी लेकिन दो चार दिनो से ऎसे शव्द जो अजीब से हे , जेसे चिनिस या जापानसी हो, उन शब्दो की मेने यहा कापी की थी तो सब ठीक हो गये, ओर किसी भी मेल पर माउस ले जाउ वहा एक ही व्यक्त्ति का नाम आता हे, जब की मेल पर पता चल जाता हे यह किस की मेल हे, लगता हे मेरे से कही सेंटिग मे गलती हो गई हे, अगर आप मे से कोई मेरी मदद कर सके तो आप का धन्यवाद

10 comments:

  1. हो सके तो सैटिंग्स फिर से वैसी ही कर दी जिए ये ऑपशन उसमें हैं।

    ReplyDelete
  2. राज जी
    वैसे मैं बहुत कम जानती हूँ फिर भी आप एक बार सैटिंग पर जाकर टिप्पणियों को ठीक करने का ऑप्शन देख लें। वहाँ कभी -कभी कुछ गलत क्लिक हो जाता है। बाकी जानकार लोग सलाह देंगें। सस्नेह

    ReplyDelete
  3. [रामपुरिया का हरयाणवी ताऊनामा !] New comment on मैं शाद&#236

    भाटिया जी मेरे साथ ये हो रहा है !
    ये भी पिछले ४/५ दिनों से ! कुछ पता लगे
    तो ख़बर करना ! कही हरयानावियों के पीछे
    ही तो कोई नही लग गया ? क्योंकि मुझसे
    पहले टिपणी (नीतीश जी और शोभाजी को )
    करने वालों को शायद ये शिकायत नही है !

    ReplyDelete
  4. गुगल कुछ एडवान्समेंट कर रहा है तथा यह समस्या बहुतों को आ रही है, मुझे भी. जल्द ही स्वतः ठीक हो जायेगी. आप कुछ मत करिये. वैसे करना चाहें तो करिये, होयेगा-जायेगा कुछ नहीं. :)

    ReplyDelete
  5. ab sameer ji ne kah diya to vakai chinta na kare......

    ReplyDelete
  6. कृपया पंगा न ले :) यह समस्या अभी अभी मैंने सागर नाहर जी को लिख के भेजी थी बहुत से मेल के साथ यही हो रहा है सो अपने आप ठीक हो जायेगा ..

    ReplyDelete
  7. आप सब का धन्यवाद मेरा साथ देने के लिये ओर सही राय देने के लिये

    ReplyDelete
  8. होईहै वही जो गुगल रचि राखा
    :)

    जल्द ठीक हो जायगा, अभी गूगल कुछ न कुछ कर ही रहा होगा.....ज्यादातर मेल के साथ यही हो रहा है।

    ReplyDelete
  9. राज जी मुझे लगता है की आपने अपने ब्लॉग से कुछ ज़्यादा ही पंगा ले लिया है. आपके ब्लॉग की भाषा बदलकर शायद जर्मन या पोलिश हो गई है. जहाँ तक रही टिप्पणियों की बात, तो आपके ब्लॉग के डैशबोर्ड पर "settings" में "comments" पर जाइये. उस पन्ने पर सबसे नीचे होगा एक विकल्प जो की आपके ब्लॉग पर होने वाली नई टिप्पणियों को आपको ईमेल कर देता है. बस उसे हटा दें. आपको ऐसे ईमेल फिर नहीं आयेंगे. यदि आप ईमेल चाहते हैं, तो कुछ दिन तक अजीब-अजीब चरित्र दिखेंगे ईमेल के शीर्षक में - यह एक मुश्किल है जो गूगल के एक नए अपडेट से हुयी है. उम्मीद है जल्द ही ठीक कर ली जायेगी :)

    ReplyDelete
  10. अनिल जी आज कल मुझे छुट्टियां हे, ओर इस साल कही घुमने भी नही गये, इस लिये सारा दिन बलांग पर खोज बीन करते रहते हे,ओर ऎसी ऎसी जगह पर पहुच गये जहां से अगर एक ‘ बिन्दु भी हट जाये तो बेडा गरक, लेकिन मेरे बेटे ओर मे सारा दिन लगे रहते हे, इस बारे काफ़ी कुछ पता भी चल गया हे,बाप रे जिस ने बनाया होगा उस का कितना दिमाग होगा,
    आप सब का धन्यवाद

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।