03/01/09

बुझो तो जाने??? जबाब

नमस्कार, मुझे पिछले दो सप्ताह से छुट्टियां है, ओर सभी काम देर से हो रहे है, यानि जब कम समय हो तो सब कुछ सही समय से होता है, ओर जब समय ही समय हो तो कुछ भी नही होता.
यही हाल अब इस पहेली के जबाब के साथ हुआ, दो दिन से सोच रहा हुं, लेकिन आलस ओर बेकार इधर उधर नेट पर मटर गश्ती.

तो चलिये अब चलते है जबाब की ओर ....
यह मुम्बई का CST station..छत्रपति शिवाजी टर्मिनल है ही है. ओर विजेताओ के क्रमश:
पहले विजेता के स्थान पर आये रंजन जी.
दुसरे विजेता के स्थान पर आये सॊरभ कुदेशिया जी
तीसरे विजेता के स्थान पर आये शुभम आर्य जी.
चोथे विजेता के स्थान पर आये सुरेश चिपलुंकर जी
पांचवे विजेता के स्थान पर आये दिनेशराय द्विवेदी जी
छठे विजेता के स्थान पर आई अल्पना वर्मा जी
सातंवे विजेता के स्थान पर आई सीमा गुप्ता जी.
आठंवे विजेता के स्थान पर आये डी के शर्मा जी"वत्स"
नोवे विजेता के स्थान पर आये प्रवीण शर्मा जी
दंसवे विजेता के स्थान पर आये गिल्दुर जी
ग्यारवे विजेता के स्थान पर आये मोहन वशिष्ठ जी.
बारहवे विजेता के स्थान पर आये कोई नही जी
सभी विजेताओ को बधाई
ओर साथ देने ओर हमारा होसला बधाने आये साथी भी इस प्रकार है...
पी एन सुब्रमन्याम साह्ब जी ने कोशिश की, साथ मै नये साल की बधाई भी दी , फ़िर वर्षा जी आई ओर वो ज्यादा दुर नही गई बस लखनऊ जा कर रुक गई.फ़िर संजय जी आये नये साल की बधाई के साथ ही उन्होने कहा की उन्हे बायिं ओर लगाया "मुझे शिकायत है" अच्छा लगा.धन्यवाद, फ़िर महक जी आई ओर वो सीधी ताज मै चली गई, ना बाबा ना बहुत महगां है, मोहन जी ने बहुत ही सुंदर शब्दो मे नये साल की बधाई दी, धन्यवाद,अर्विन्द जी भी मेसूर पेलेस चले गये, अरे बाबा यह सब महंगे है,मोहन जी भी भटकते भटकटे ताज होटल मै पहुच गये, अजी खाओ पियो जब बिल आयेगा तो पता चलेगा,
अरे बोला ना अर्विन्द जी का जबाब गलत है , फ़िर भी तरुश्री शर्मा जी अर्विन्द जी की हां मे हां मिला कर अपना जबाब भी गलत कर बेठी,अरे मीत जी आप भी ना भाई ताज मंहगा है, अरे बहुत महंगा है, मत जायो,यह लो प्रवीण त्रिवेदी..प्राइमरी के मास्टर जी भी जा रहे है ताज मै ओर साथ मे अर्श जी भी
लगता है आज फ़्री मै खाना मिल रहा है, तो भाईयो ठहरो मै अपने साथ साथ प्रकाश बादल जी,मीत जी
ओर डा भावाना जी ओर विनय जी को भी ले आता हुं.
आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद, मेरा साथ देने का मिलते है अगली पहेली मै, आप सब को नये साल की शुभकामानऎ.
गलती से किसी का नाम रह गया हो तो माफ़ी चाहुगां, मुझे याद दिला दे, मै शा मिल कर दुगां

10 comments:

  1. जीतने वालों को बधाई, अब अगली पहेली फ़टाफ़ट पूछ डालिए! कहिए तो मैं एक चित्र दूँ :

    ज़रा इसपर गौर करें:http://picasaweb.google.com/lh/photo/mRX1xgzyDX4UWFztzBK-hw?authkey=SoErojEolN8&feat=directlink
    अथवा
    http://lh4.ggpht.com/_qOS6JBnOtBA/SV-22CdYYqI/AAAAAAAAAPU/b98pJ6gkIME/who-am-i.jpg
    हिन्ट: कालरा

    ReplyDelete
  2. --हाँ ,Raj Sir ji यह भी सही है--जब समय कम होता है तब ज्यादा अच्छे से कार्य योजनायें बन जाती हैं.

    --सभी विजेताओं को बधाई.

    --आप को और परिवार में सभी को नए साल की ढेर सारी शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  3. आप सही कहते हैं, अवकाश में नियमित दिनचर्या गड़बड़ा जाती है।

    ReplyDelete
  4. भाटिया जी, सुप्रभातम
    सभी विजाताओं को बधाई

    ReplyDelete
  5. विजेताओं को घणी बधाई जी. हमारे तो कमेन्ट ही नही जारहे थे आपके ब्लाग पर, वर्ना पहले विजेता तो हम ही होते. खैर अगली बार ट्राई मारते हैं.

    रामराम.

    ReplyDelete
  6. सभी विजेताओं को बधाई। वैसे भाटिया साहब माफ करना आलस्‍य की भी हद होती है दिन में ज्‍यादा नहीं तो हजारों बार ब्‍लाग पर आए अपना नाम विजेताओं में देखने के लिए खैर कोई बात नहीं अब अगली पहेली डाल ही दो और जो लिंक विनय जी बता रहे हैं वो ठीक है किसी को पता भी नहीं चलेगा हा हा हा

    ReplyDelete
  7. क्‍या भाटिया जी केसी केसी बात कर रहे हो क्‍या आपने समीर जी की पोस्‍ट नहीं पढी अरे उनसे गुर सीखो खाने पीने के बाद बिल भी ना चुकाओ दो झाड भी मारो और लेकर वेटर से मैनेजर तक हा‍थ जोडेंगे और सॉरी बोलेंगे


    कॉफी आई तो आम ठेलों की तरह हमारा हाथ स्वतः ही वेटर की तरफ बढ़ गया आदतानुसार कप लेने के लिए और वो उसके लिए शायद तैयार न रहा होगा तो कॉफी का कप गिर गया हमारे सफेद बेलबॉटम पर. वो बेचारा घबरा गया. सॉरी सॉरी करने लगा. जल्दी से गीला टॉवेल ला कर पौंछा और दूसरी कॉफी ले आया. हम तो घबरा ही गये कि एक तो पैर जल गया, बेलबॉटम अलग नाश गया और उस पर से दो कॉफी के पैसे. मन ही मन जोड़ लिए. सोचे कि टिप नहीं देंगे और पैदल ही चर्चगेट चले जायेंगे तो हिसाब बराबर हो जायेगा. अबकी बारी उसे टेबल पर कप रख लेने दिये, तब उसे उठाये.

    बाद में उसने फिर सॉरी कहा और बताया कि कॉफी इज ऑन द हाऊस. यानि बिल जीरो. आह!! मन में उस वेटर के प्रति श्रृद्धाभाव उमड़ पड़े. कोई और जगह होती तो पैर छू लेते मगर फाईव स्टार. टिप देने का सवाल नहीं था क्यूँकि नुकसान हुआ था सो अलग मगर जीरो का १०% भी तो जीरो ही हुआ. तब क्या दें?


    http://udantashtari.blogspot.com/2008/12/blog-post_11.html


    लो चुक गया बिल अब जाओ आराम से घर

    ReplyDelete
  8. सभी विजेतावों को बधाई के साथ नव वर्ष की मंगलकामना ...

    ReplyDelete
  9. विनय भाई चलिये भेज दो पुरी डिटेल के साथ, मेरे मेल के पते पर, फ़िर हम पुछ लेगे.

    हां अगर आप लोगो के पास ऎसे चित्र, या कोई अलग सा सवाल हो , जो पहेली के रुप मे पुछा जा सके तो मुझे मेरे इ मेल से भेज दे. धन्यवाद

    ReplyDelete
  10. सभी विजेताओ को बधाई
    regards

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।