27/01/09

बूझॊ तो जाने?? जबाब

आप सभी को मेरा नमस्कार....
इस बार आप सभी ने बहुत इंतजार किया, लेकिन इस बार बहुत सही लगा, इस पहेली को बूझना, तो चलिये अब हम जबाब की ओर चलते है....
यह फ़ुल दाल चीनी (cinnamon ) का है.

ओर आज के प्रथम विजेता है हमारे डी के शर्मा"वत्स" जी के सपुत्र, ***दुष्यंत शर्मा***शर्मा जी के शब्द उन की जुबानी....भाटिया जी, वास्तव में आज आपकी इस पहेली का जवाब मैने नहीं मेरे बडे बेटे दुष्यंत ने दिया है,जो कि 11 साल का है.आज छुटी का दिन था, दोपहर से ही मेरा लैपटाप लेकर internet पर ढूंढने में लगा हुआ था.
ओर मेरी तरफ़ से इस बेटे दुष्यंत को बहुत बहुत बधाई.

अब आ रही है दुसरे स्थान को पाने वाली विजेता सीमा गुप्ता जी, इन्होने भी पुरे दावे के साथ सही जबाब दिया, आप को भी बधाई.

अब आ रहे है तीसरे स्थान पर आने वाले विजेता मीत जी, जिन्होने बडी सादगी से सही जबाब दिया, आप को भी बधाई.
ओर अब आ रही है चोथे स्थान पर आने वाली विजेता अल्पना वर्मा जी, मुझे लगता है इस बार आप सब ने बहुत मेहनत की, अल्पना जी आप को भी बहुत बहुत बधाई.
**************************************************************

यार आप लोग तालिया तो बजा दो... अरे थोडी जोर से... कल आप जीतो गे तो यह लोग भी तो खुब जोर से बजायेगे तालिया, तो एक बार फ़िर से तालियां
***************************************************************
अब बात करते है, उन लोगो की जिन्होने मेहनत की, कईयो ने इन्तजार किया नकल का... तो चले उस ओर जो आज नही तो कल के विजेता जरुर होगे....
सब से पहले आये विवेक सिंह जी, ओर साफ़ मुकर गये,अरे भाई क्यो?? चलिये अगली बार सही, लगता है बेटे का जन्म दिन मनाना था इस लिये, हम सब की ओर से आप ने बेटे को बहुत बहुत आशीर्वाद.
फ़िर आई संगीता पुरी जी, अजी क्यो समझ नही आ रहा?? आप रोजाना तो इस से सब्जी बनाती है (गरम मसाले मै यह होता है) चलिये अब कभी नही भुले गी.
फ़िर आये विष्णु भगवान जी... अरे कल युग मै आ कर घबरा गये ओर विवेक जी का सहारा ले कर नाव पार उतार ली, नारायण नारयण...
फ़िर आये मोहन वशिष्ठ जी ओर शुभकामनाऎं दे कर पतली गली से निकल लिये, अरे जनाब सम्भल के आगे सांड खडा है.
फ़िर आई वर्षा जी, लिजिये हम इसे फ़ूल ही रहने देगे, इसे कोई नाम नही देते, लेकिन यह दालचीनी का फ़ुल है जी.
विधू जी आप को भी गणतंत्र दिवस की शुभकामना, खुशबू तो हमे भी नही पता इस फ़ूल की, लेकिन दाल चीनी की खुशबू ओर स्वाद तो बहुत अच्छा है

दिनेशराय जी कहां मिठाई की याद दिला दी अरे मुंह मै बाढ आ गई.
महक जी लगता तो यह ककटुस का ही फ़ूल है, लेकिन है नही चलिये अगली बार सही.....

द्विजेन्द्र द्विज प्रस्तुति के लिए आभार

गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाओं सहित अरे जनाब जबाब तो दिया ही नही आप ने, चलिये आप के आने का धन्यवाद.

भाई अल्पना वर्मा जी की बात भी सुन लो....मुझे ऐसा लग रहा है इस चित्र को देख कर की 6 सर्विंग ओवेल कटोरियों में 'अंगूरी पेठे' रख दिए हैं और थोडी सी मोटी वाली बूंदी बिखेर दी है..बीच में मोमबत्ती लगा दी है और हम कहेंगे..गणतंत्र दिवस की शुभकामनायें और केसर वाले अंगूरी पेठे खा लेंगे...इस के अलावा और कुछ इस चित्र को देख कर नहीं आ रहा....
अरे अल्पना जी आप ने भी मिठाई याद दिला दी, ओर आप के यहां तो खजुर की बनी सुंदर ओर स्वादिष्ट मिठाई मिलती है, हम ने दो चार बार खाई है.
मुंह मिट्ठा कर के बाद मै मिर्ची डाल दी, राम राम.... हर्ष जी गुवारपाठा( एलोवेरा) बता रहे है, कोई बात नही इस का नम भी पुछेगे...

यह करलो बात मोहन जी मुफ़त मै ही वाह वाह करवाना चाहते है, मोहन जी मेहनत करे भाई....



शुभम आर्य जी यह मिठाई तो हमारी बीबी की पहली पंसद है भाई, लेकिन आप का जबाब मिठाई से भी मिट्ठा है लेकिन सही नही, चलिये अगली बार कोशिश करे.....


मोहन जी नै हम सब को ..गणतंत्र दिवस की आप सभी को ढेर सारी शुभकामनाएं

शशवत जी मेने तो सोचा था आसान सवाल है, भाई आप रोजाना तो सब्जी मै डाल कर इसे खाते है, लेकिन आप ने तुक्का थोडा जोर से मारा ओर वो सीधा जा कर केवडे के फ़ुल पर लगा, अजी धीरे से तुक्का मारे.....

तरुण भाई ने तुक्क खराब नही किया, शायद अगली पहेली मै चल जाये, बात ठीक है आप की तुक्के के लिये भी कोई लक्षय चहिये, अरे कोई बात नही अगली बार सही.....

सीमा जी आप ने फ़िर से परमल की मिठाई कह कर मेरी बीबी को ललचा दिया, शुक्र वो अभी पास नही बेठी, नही तो अभी कहती कब भारत चले?? कई साल हो गये है....ओर मेरा १०, १५ हजार का नुकसान...


यह लो ताऊ तो हल्दी राम की दुकान पर ही सीधा पहुच गया, ओर मिठाईयो के डेकोरेटिव पीस देख कर हमे ललचावा रहा है, अरे ताऊ कूछ खरीद भी ले डरो मत खा हम लेगे.....


अल्पना जी, यह क्या धोंस जी...सौंफ का फूल हो सकता है-इलाइची का फूल ऐसा नहीं होता.अगर यह भी ग़लत हो तो जिस का सही जवाब वोही मेरा भी- चलिये इस बार सही जबाब आप का ही....


महक जी जल्द ही हम इलायची के बारे भी पुछेगे, लेकिन यह इलायची का फ़ुल नही....अगली बार आप ट्राई करे जरुर कामयाव होगी......

अर्विंद जी यह ना तो लोंग का फ़ूल है ना इलायची का, लेकिन यह दोनो ही गर्म मसाले मै होती है, ओर सब्जी मै भी डलती है, चलिये अगली बार सही

अरे बवाल जी कहा आप ने बेलन की याद दिला दी..... है राम अभी तक पिछला दर्द गया नही ओर फ़िर से बेलन..... हा बेलन का फ़ूल तो होता है लेकिन लाल रंग का सूजा सूजा फ़िर नीला पड जाता है, इस बारे हमारे ताऊ को ज्यादा पता है, उन्होने बेलन से तरक्की कर के लठ्ठ के फ़ूल पंसद कर लिय्र है,अब परमल नही मिले बीबी को तो मुझे बेलन से कोन बचायेगा......

वाह प्रकाश जी आप बहुत बडे दिल के मालिक है,कितना त्याग किया आप ने पंजाबी मे एक कहावत है ***उथ हुन्दा नही फ़िटे मुंह गोडेया दा** चलिये अगली बार कोई बहाना नही, अभी से फ़लो को ध्यान से देख ले.


मीत जी जरुर....और हाँ राज जी इस बार मुझे अल्पना जी से बधाई चाहिए क्योंकि मैंने मोडरेशन ओन रहते जवाब दिया है....
ठीक है अल्पना जी...देंगी ना बधाई...
i m w8ing...
meet

राम चंद्र मिश्रा जी आप तो उस दिन वाली लडकी से पुछ लेते,मै बहुत हेरान हुआ था उस दिन जब उस ने फ़ोटो देखते ही जबाब दे दिया, डा साहब यह केसर का फ़ूल नही,भारत जाने से पहले आप से बात होगी.

अल्पना जी...Haan haan kyuon nahin??
Meet..to aap hain wo '11 saal ke bachchey'????

bahut bahut badhayee!ki aap bhagyashaali vijeta hain :)
--phir ye taveer jaise 'angoori kesaari pethey 'ya parwal ki mithayee 'khilayeeyega Jeetne ki khushi mein--
[yahan nahin miley kahin!]

--moderation on NAHIN hota to is baar main bhi aaap ka jawab copy karti...waise sab se majedaar jawab 'Bawaal' sahab ka hai---'BELAN KA PHOOL!!!!!!!!!!'
ha ha ha!! unhen bhi badahaayee---itna sundar phool unke khyal mein 'belan' ka ho sakta hai??????hamen to mithayee dikh rahi hai bhayee....!!!!!!!!!!!

मोहन जी अजी इलायाची या इलायची का फ़ुल नही है, अगली बार जरुर जीतेगे.

बवाल साहब अब आप का बेलन तो चल ही गया, अब चाहे खस खस लगाये या केसर दुध मे डाल कर पीलाये, या जाफ़रानी, लेकिन आप का बेलन अपना रंग दिखा गया.

जीतने वालो को बहुत बहुत बधाई, अप सब का बहुत बहुत धन्यवाद , आप किसी का नाम रह गया हो तो जरुर लिखे, अगर मेरी किसी बात से, किसी मजाक से किसी को कोई ठेस पहुची हो, बुरा लगा हो तो माफ़ी चाहुंगा, मिलते है अगली पहेली मै, इस बार आप भारतीया फ़लो को ध्यान से देख ले.....

फ़िर से आप सब का धन्यवाद

14 comments:

  1. आजकल शराफत से चुप रहने का जमाना नहीं रहा-नाम तक नहीं आया हमारा. अगली बार से हल्ला मचायेंगे, :)

    ReplyDelete
  2. अजी जनाब मेरा नाम भी नहीं दिया आपने. नहीं बताया तो क्या लेकिन आपकी सभी पहेलियाँ बुझाता तो था मैं.

    ReplyDelete
  3. समीर जी सही कह रहे हैं .:) हमारा नाम भी नही है जी यहां. वैसे विजेताओं को घणी बधाई.

    रामराम.

    ReplyDelete
  4. sabhi ko bahut badhai jo jeet aur jimhone bhag liya:)

    ReplyDelete
  5. दुष्यंत बेटे आप को जीत की बहुत बहुत बधाई ....मीत जी और अल्पना जी को भी मेरी तरफ से शुभकामनाये....
    और जिनका नाम नही आया वो निराश ना हो आप सभी आदरणीय जनो के लिए मेरी तरफ से जोरदार तालियान्यान्यान्याँ........."

    Regards

    ReplyDelete
  6. सभी विजेताओं को बधाई, विशेषकर प्रथम पुरस्कार विजेता दुष्यंत को!
    आज जब सभी शिकायत कर रहे हैं तो हम भी कहे देते हैं, "हमारा नाम भी नहीं आया"

    ReplyDelete
  7. सभी विजेताओं को बधाई, खासकर प्रथम पुरस्कार विजेता नन्‍हें दुष्यंत को ! उसे बहुत बहुत स्‍नेहाशीष !

    ReplyDelete
  8. इस बार तो आप की पहेली भी मजेदार थी और साथ ही जवाब भी एक से बढ़ कर एक!सभी विजेताओं को बधाई!
    मीत आप को भी स्पेशल बधाई!
    आप ने जवाबी पोस्ट भी इतनी रोचक लिखी है..यह सब दुष्यंत का कमाल है..दुष्यंत ने आते ही पहेली में जान फूँक दी और नन्हा बच्चा सब पर भारी पड़ गया!भाई वाह!पंडित जी को भी बधाई!शुभम क्या एक बच्चा कम था यहाँ हमें हराने को??लेकिन अच्छा लगा--बच्चे हमेशा प्रथम आते ही अच्छे लगते हैं.दुष्यंत आप की बहुत बहुत बधाई.ऐसे ही अपनी पढ़ाई में भी अव्वल रहना.
    राज सर,आप ने यह clapping ट्रैक तो बहुत ही जबरदस्त लगाया है!आप की आज की पोस्ट बहुत ही रोचक-मजेदार है--हंस रहे हैं इसे पढ़ कर-!बधाई!हां--यहाँ खजूर की मिठाई मिलती है आप के लिए जरुर भिजवाती हूँ अभी --जैसे आप हम सब को इनाम देते हैं न पहेलियों के ,,वैसे ही!

    [और ये क्या ??आप की पोस्ट के कमेंट्स में चेहरे देखिये!- 'ताऊ की तस्वीर जैसे एक और बन्धुवर है -मगर शहरी दीखता है-उस ने कोट टाई लगायी हुई है!'[मैं इष्ट देव जी की बात कर रही हूँ]

    ReplyDelete
  9. सभी को विजेताओं को ढेर सारी बधाई...
    और नन्हे-मुन्हे राही को भी खूब सारी बधाई और शुभकामनाएं...
    और अल्पना जी को शुक्रिया और बधाई एकसाथ...
    मीत

    ReplyDelete
  10. भाटिया जी,मेरी तरफ से आपको , सभी विजेताओं एवं भाग लेने वाले सभी मित्रजनों को बधाई.
    बच्चे सचमुच बच्चे ही होते हैं.किसी परीक्षा/प्रतियोगिता का परिणाम जानने की जो एक सहज उत्सुकता मन में होती है, वो मैं परसों से ही दुष्यंत के हावभाव मे अनुभव कर रहा था.वो थोडी थोडी देर बाद आता ओर नैट खोलकर देखने लगता कि शायद आपने उत्तर की घोषणा क‌र दी हो.
    आज सुबह स्कूल जाने से पूर्व ही उसने लैपटाप उठाया ओर लगा आपका चिट्ठा पढने.प्रथम विजेता के रूप में जब अपना नाम देखा तो उस समय उसके चेहरे पर बालसुलभ चंचलता के साथ साथ जीतने की खुशी भी स्पष्ट दिख‌लाई पड रही थी.
    दुष्यंत ने सभी वृ्ष्ठजनों को सादर चरणस्पर्श कहा है.कृ्प्या स्वीकार करें एवं अपन‌ा स्नेहाशीष बनाऎं रखें

    ReplyDelete
  11. भाटिया जी नमस्‍कार

    ये सब क्‍या है आप चाहते क्‍या हैं हां मुझे भी तो बताओ मुझे आपकी बात बुरी लगी है अबकी बार तो ठीक है अगली बार ऐसा नहीं होना चाहिए

    ReplyDelete
  12. चलो भाई मेरा प्रतियोगी तो मिला | :)
    अच्छा है, ये तो मुझसे भी आगे जायेगा |
    दुष्यंत को और बाकि सभी विजेताओ को ढेरो बधाइयाँ | :)

    ReplyDelete
  13. विजेताओं को हार्दिक बधाईयां

    भाटिया जी आपने पूछा ही नहीं कि मुझे आपकी क्‍या बात अच्‍छी नहीं लगी खैर कोई बात नहीं मैं खुद ही बता देता हूं


    इतने दिनों तक इंतजार करवाया आपने जवाब के लिए क्‍यूं

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।