15/01/09

बूझो तो जाने??? जबाब

नमस्कार, तो लिजिये अब समय खत्म अब आप को इस का सही नाम भी बता देते है...

ओर जिन्होने सिर्फ़ आलू ही बताया वो भी विजेता है.
इस का पुरा नाम हर भाषा मै अलग अलग है, लेकिन Blue Potatoes बिलकुल सही नाम है, ओर यह स्वीडन से चला है अब तो धीरे धीरे पुरे विश्व्व मै फ़ेल रहा है, कई लोग इसे बेंगनी आलू के नाम से भी जानते है, हमारे यहां आलू बहुत सी जातियो मे मिलता है, ओर सब का स्वाद भी अलग अलग होता है,
आप इसे Schweden Blue Potatoe के नाम से भी पुकार सकते है , खाने मै एक दम पहले ना० पर.
तो देखे कोन किस स्थान पर आये.

आज पहले स्थान पर आये हमारे नये पाठक Tapashwani Anand जी, ओर एक दम से आलू कह कर मेरी हिम्मत बढाई,

दुसरे स्थान पर आयी वर्षा जी, जिन्होने इसे बेंगानी रंग का आलू कहा.
तीसरे स्थान पर आये हमारे मोहन जी, जबाब के साथ उन की टिपण्णी ...आलू अंग्रेजी में शायद पोटेटो करके कुछ बोलते हैं क्‍योंकि मैंने एक बार सुना था कि दुनिया के किसी भी कोने में चले जाओ आलू और सरदार हर जगह मिल जाएगा क्‍या मैं सही हूं ना तो बजाओ ताली.
चोथे स्थान पर आयी सीमा जी उन्होने भी इसे Purple Potato कहा , ओर ढेरो जानकारी भी उन्होने दी.
पांचवे स्थान पर आई अल्पना जी, उन्होने भी बिलकुल सही जबाब purple potato दिया, जेसा कि मेने पहले ही कहा है इस के बहुत से नाम है, ओर इतने सारे नाम तो मुझे भी नही पता था, बहुत से नाम तो सीमा जी ने भी बताये है.
छटे स्थान पर आये हमारे रामपुरिया ताऊ जी.
सातंवे स्थान पर आये हमारे शुभम आर्य जी, जिन्होने इसे purple potato बैगनी आलू बताया.
आठवे स्थान पर हमारे शशवत शेखर जी, अजी कहा लेट आप सही समय पर आये है, ओर धीरे से बहुत प्यार से बोले आलू है.
नोवें स्थान पर आये हमारे वकील साहब दिनेशराय जी, ओर नीला आलू यानी Blue Potato. बिलकुल सही जबाब.


दसवे स्थान पर आये हमारे शर्मा जी *अलग सा* कद-काठी से आलू लगता है।


ग्यारवे स्थान पर आये हमारे सुनील मंथन शर्मा जी, purple potato बिलकुल सही जबाब.
बारहवे स्थान पर आये हमारे पी टी डी के शर्मा जी "वत्स" जी


सभी विजेताओ को वधाई।

चलिये देखे बाकी सब ने कया कया कहा, लेकिन जो आज नही जीत पाये अगली पहेली मे जरुर जीते गे, वो पहेली इस से भी आसान होगी।

आज जब मेने सुबह नेट खोला तो .....

सब से पहले अल्पना जी का जबाब देख कर समझ गया आज मुश्किल है राह पनघट की,ओर अल्पना जी फ़ता फ़ट जामून खा रही है, थोडा आगे गया तो देखा शुभम आर्य जी भी जामुन है ब्लाक्क्बेर्री भज रहे है, चलिये मन मार कर थोडा ओर आगे गया तो रंजना भाटिया जी, पारुल जी,पुरुषोत्तम कुमार जी, सीमा जी, महक जी , ओर सीमा जी ने तो गिन गिन कर नाम गिनवाऎ, जेसे जेसे मै जामुन जामुन पढता जाता वेसे वेसे .... ? यह आगे बताऊ गां*

चलिये पहले विजेता जी ने आ कर थोडी ब्रेक मारी, फ़िर दुसरे विजेता जी ने मेरा धयान इस मुये जामुन से हटाया, फ़िर आये हिमाशंउ जी ओर .... उन्होने फ़िर से जामुन वोल दिया, कोई बात नही , लेकिन जब पढा कि बचे हुये तो सवर टुट गया, हिमाशुं जी आप सब को शायद यकीन ना हो मेने पिछले ३० साल से जामुन देखे तक नही, ओर मेरे बच्चो को पता भी नही जामुन क्या होते है, जब हम भारत आते है तो मिलते नही उन दिनो, लेकिन आज खुब खाये। भारत का कोई भी फ़ल यहां नही मिलता, ओर जो इधर उधर से आ जाता है उस का स्वाद अलग होता है

पिछले साल जब मै भारत आया तो वपिस आते समय अपने साथ २० आम लेता आया, ओर बच्चो ने पहली बार भारतीया आम खाये।

फ़िर आये उन्मुक्त जी चलिये वो थोडा आगे बडे ओर इसे बेंगन करार दिया, अरे मीत जी हमे ने भी बहुत तोड तोड कर खाये है आगरा के ताजमहल के अन्दर, ओर दिल्ली मे त्रिमुरती मार्ग पर, अब तो पता नही यह सब पेड है या नही। ओर कपडे भी बहुत रंगे, इन जामुनो से।

ममता जी भी इसे जामुन ही बता रही है, अब मुझे भी शक होने लगा, अरे बाबा जल्दी से चेक कर लो... ओर फ़िर हमने जलदी जल्दी देख ओर तसल्ली हुयी , फ़िर आये बवाल सहाब जी ओर हिम्म्त देकर, सलाम दुआ कर के रुखसत हुये, लो करलो बात अब लगने लगा आलू बेंगन की सब्जी के लिये अल्पना जी तडका लगाने के लिये प्याज भी ले आई, अजी अदरक ओर लहसुन भी चाहिये।मोहन जी आये राम राम की ताऊ के बंदर से गले मिले फ़िर चले गये।

विनय जी आये मेरे दिल की बात यु कुछ इस रुप मे कह कर चलते बने....

बारिश आयी नहीं घटा छायी नहीं और साहब मुझे जामुन दिखाकर ललचाते ही


फ़िर आये ताऊ जी असल मे लेने तो आये थे अपना बंदर, अब बंदर तो साथ गया नही ताऊ हरियाण्वी मे कुछ कहते कहते चले गये, मुझे तो गोटु सुनार ही समझ मै आया या फ़िर तिवारी तिवारी बोल रहे थे, राम जाने क्या बात है ।

अभिषेक ओझा जी आप भी ना, चलिये अगली बार जब आप यहां आये तो दो किलो जामुन आप को जुर्माना, साथ मे लेते आये।


अजी मीत जी नही इस बार नही , जब परिणाम के पास होऊ यानि मेने परिणाम तेयार कर लिया हो तो कुछ समय पहले तो एक बार बहकाया था, क्योकि उस बार सभी जबाब सही थे, लेकिन हर बार नही,

अरे अमित जी, अब केसे कहुं यह जामुन नही, मोहन जी धन्यवाद जलेबी के लिये लगता है घंटा घर से बंगाली कि दुकान से ताजा ताजा लाये है, धन्यवाद।


अरे पिंटू भाई, जब हम बेंगन के बारे पुछेगे तो लोग उसे भी बेंगन ही कहेगे, कोई गल नही पुतर, अगली बार सही, अरे जब हारेगे तभी तो जीतेगे,

आप सभी का धन्यवाद मिलते है अगली पहेली मै, जो कल सुबह बूझेगे, उस से पहले आप आज किचन मै जा कर सभी साग सब्जियां ध्यान से देख ले।

अगर किसी का नाम भुल वंश रह गया हो तो मेरा ध्यान इस गलती की ओर दिलाये, शनिवार की सुबह नयी पहेली आप के नाम।

फ़िर से आप सभी का बहुत बहुत धन्यवाद, यहां रात के साढे बारह बज चुके है, मे सोने की तेयारी कर रहा हूं ओर आप लोग oothane की, शुभ दिन

22 comments:

  1. हम बाज़ार में जाकर खोजेंगे, जीतने वालों को बधाई!

    ---मेरा पृष्ठ
    गुलाबी कोंपलें

    आप भारतीय हैं तो अपने ब्लॉग पर तिरंगा लगाना अवश्य पसंद करेगे, जाने कैसे?
    तकनीक दृष्टा/Tech Prevue

    ReplyDelete
  2. बहुत अफ़सोस कि आप ने जामुन नहीं खाये.
    विजेताओं को बधाई.

    ReplyDelete
  3. भाटिया जी, बताया तो हमने भी आलू ही था, मगर हमारा जवाब शायद सर्दी में जम गया था. कोई बात नहीं, अगली पहेली में जब आप जामुन का चित्र दिखाएँगे तो पहला सही जवाब हमारा ही रखियेगा.

    ReplyDelete
  4. बहुत बढिया जी . हम भी जीत तो गये ही है. सभी विजेताओ को बढाई और किसी ने गोटू सुनार को देखा हो तो पता बताये, उचित इनाम भी दिया जायेगा. :)

    रामराम.

    ReplyDelete
  5. समझ में नही आ रहा है कि हम कहाँ चले गए थे.

    ReplyDelete
  6. शामं को अदालत से लौटने पर पहेली मिली थी। उस की सजा यह कि बिलकुल सही जवाब नवें नम्बर पर?
    पर आज खुश हैं कि तीन बार से आप की प्रतियोगिता से बाहर हुए आज अंदर तो आए।

    ReplyDelete
  7. "सभी विजेताओं को बधाई ..जो भी हो पहेली बहुत रोचक थी.."

    regards

    ReplyDelete
  8. विजेताओं को बधाई....पहली ही नजर में मुझे भी आलू ही महसूस हुआ था.....पर रंग की वजह से हिम्‍मत नहीं जुटा पायी थी जवाब देने की।

    ReplyDelete
  9. ओह्ह जामुन आलू बन गया :) बधाई जीतने वालों को

    ReplyDelete
  10. bahut bahut badhaai vijetaoo ko...

    ReplyDelete
  11. congratulations to all winner!!!
    ---MeeT

    ReplyDelete
  12. सभी विजेताओं को बधाई.ज्ञान बढ़ा और नया आलू देखा..सोच रही हूँ इस के फ्रेंच फ्राय बन कर बैंगनी -बैंगनी कितने अच्छे लगेंगे. पहले होली पर आलू की चिप्स घरों में बनते थे तो उन पर रंग चढाते थे,ऐसे आलू मिलें तो रंगने की जरुरत न पडे.
    अमेरिका में jamun नहीं मिलते?UAE में यह अच्छी बात है की जिस देश की सब्जी -फल चाहो सब मिलता है--आम की कई वरायटी मिलती हैं--खरबूज -आम -तरबूज पूरे साल मिलता है--नयी नयी तरह के फल -सब्जी भी यहाँ देखे हैं-.आप नाम लिजीये-किसी भी चीज का नाम लें -कहीं न कहीं मिल ही जायेगी.
    बहुत ही ज्ञानवर्धक लेख.

    ReplyDelete
  13. जामुन का जुर्माना सर आँखों पर. क्या करें हमें तो आलू कहीं से नहीं लगा. और जामुन प्रिय है, हर एंगल से जामुन ही लग रहा था :-)

    ReplyDelete
  14. चलिए आख़िर जीत ही गए| अब इन्तेजार है अगली पहेली का, एक नम्बर जो आना है| सभी विजेताओं को बधाई और आपकी इस ज्ञानवर्धक पहेली के लिए आपको धन्यवाद|
    सादर

    ReplyDelete
  15. रोचक पहेली के विजेताओं खासकर मुझे हार्दिक बधाई भाटिया जी को शुभकामनाएं और निंरतर जीतने वालों को बहुत बहुत बधाई

    ReplyDelete
  16. koi bat nahi! mai haar gya to kya hua! kabhi to mai bhi vijeta bnuga!
    sabhi vijetao ko shubhkamnaye!

    ReplyDelete
  17. सभी विजेताओं को बधाई और जो पहेली नही बूझ सके (हमारे जैसे )उन्हें शुभकामनाएं । :)

    ReplyDelete
  18. मैने तो आपकी पोस्ट ऊपर से नीचे ओर नीचे से ऊपर दो बार पढ ली, लेकिन अपना नाम कहीं दिखाई नहीं दिया.
    भाटिया जी! एक बार जरा चैक कर लीजिए, शायद किसी कोने मे रक्खा रह गया हो.

    ReplyDelete
  19. पहली बार पहेली विजेता बनने का गौरव हासिल हुआ, दूसरे नंबर पर ही सही।

    ReplyDelete
  20. "सभी विजेताओं को बधाई .

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।