19/06/09

नोटिस बोर्ड सुचना

Alpaca था पिछली पहेली का जबाब, ओर यह Alpaca है तो किसी भेड या ऊंट के ही परिवार का अंश, ओर इसी के परिवार से है लामा,ग्लामा,ksimbura,(सिम्बुरा ) शायद चाचा ताऊ के बच्चे होगे, इन से मिलते जुलते ओर भी बहुत से जानवर है , लामा की एक खासियत यह है कि जब वो किसी से नारज हो जाये तो झट्से मुंह पर थुक देता है.

सुचना:- सोम वार सुबह एक नयी पहेली बूझेगे ? जो भारत की किसी प्रसिद्ध इमारत, मस्जिद, मंदिर, मकबरे, या फ़िर किसी किले के एक हिस्से से ली गई होगी, फ़िर अगर समय ने साथ दिया तो किसी फ़िल्मी गीत से भी कोई पहेली बूझे गे, अगर आप किसी के पास कोई ऎसी जान कारी हो तो मुझे मेल कर के बताये,

हमारे
प्रकाश गोविन्द .

सभी बुझक्कड़ों को बधाई !

आदरणीय राज भाटिया जी पहेली का समय सुनिश्चित कीजिये या फिर नोटिस बोर्ड पे सूचना
दे दिया करिए ! मुझे कभी भी पता ही नहीं चल पाता .... कभी-कभी तो दो दिन बाद पता चलता है ! कभी फिल्म या संगीत से सम्बंधित सवाल भी पूछिए !

पहेली आयोजन हेतु आभार !

तो मिलते है सोमवार की सुबह....समय जब आप की आंख खुले पहेली आप की इंतजार कर रही होगी

13 comments:

  1. इस जानवर से परिचय कराने के लिए शुक्रिया !

    ReplyDelete
  2. बहुत -बहुत धन्यवाद जी .

    ReplyDelete
  3. सोमवार का इंतज़ार रहेगा।

    ReplyDelete
  4. गोविंद जी का सुझाव अच्‍छा है। अब लोग सोमवार की सुबह का इंतजार करेंगे। वैसे अगर टाइम भी दे दिया होता, तो और अच्‍छा होता।

    -Zakir Ali ‘Rajnish’
    { Secretary-TSALIIM & SBAI }

    ReplyDelete
  5. alpaca के बारे में जानकारी देने के लिये धन्यवाद
    सोमवार का इंतजार है
    नमस्कार स्वीकार करें

    ReplyDelete
  6. अल्पना जी बुरा नही मानते, उन्होने शायद मान से लिखा होगा, कोई बात नही.

    ReplyDelete
  7. धन्यवाद एवम नमस्कार जी.........
    हे प्रभु यह तेरापथ
    मुम्बई टाईगर

    ReplyDelete
  8. परिचय कराने के लिए शुक्रिया

    ReplyDelete
  9. आदरणीय राज जी

    आप पूर्णतयः निश्चिंत रहें !

    मैं ताऊ जी को सिर्फ ज़ुबानी तौर पर ताऊ जी नहीं कहता ...... मैं उन्हें अपने ताऊ के तौर पर ही देखता हूँ ! वो अगर चाहेंगे तो मेरा कान पकड़ के भी चुप करा देंगे ...... यह उनका अधिकार है !

    कुछ ही तो लोग हैं ब्लॉग जगत में जिनका मैं बेहद सम्मान करता हूँ ! उन्ही में एक अल्पना जी भी हैं जिन्होंने अपने गरिमापूर्ण आचरण से हम जैसे नए लोगों को सदैव प्रेरित किया है ...... मेरी आदर्श हैं अल्पना जी !

    मैं नादान नहीं हूँ ... समझ सकता हूँ इस तरह के आयोजन की दुश्वारियों को !

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।