29/11/09

अन्ताक्षरी 9 गीतो भरी

आप सबको राज भाटिया और अन्तर सोहिल की नमस्ते

आप सबके सहयोग और हमारा हौंसला बढाने के लिये हम आप सबका हार्दिक धन्यवाद करते हैं। इस पूरे सप्ताह आपने जिस तरह से अन्ताक्षरी में जोश से हिस्सा लिया है, हम आशा करते हैं कि आप को बहुत मजा रहा होगा। यह खेल एक-दो लोगों के लिये और एक-दो घंटे के लिये नहीं, बल्कि सब के लिये और पूरे बीस घंटे चलता है। जब भी आपको खाली वक्त मिले आप कमेंट पेज को रिफ्रेश या रिलोड कीजिये और दिये गये अंतिम अक्षर पर गाना गाईये।
इस खेल का उद्देश्य आपकी बोरियत दूर करके आपके होठों पर मुस्कुराहट लाना और हिन्दी में आपकी टंकण गति बढाना है।

जरूरी सूचना : कृप्या अपने गाये गाने का अंतिम अक्षर अलग से जरूर लिखें और केवल हिन्दी में ही टंकण (Type) करें।
अब आप ये दो गानों के बोल पढ लीजिये
1> दिल दिया है जां भी देंगें वतन तेरे लिये (लिए)
2> याद तेरी आयेगी मुझको बडा रुलायेगी

पहली तरह के गानों के बाद यदि अन्तिम अक्षर नही दिया गया है तो आप '' और '' किसी से भी गा सकते हैं।
दूसरी तरह के गानों में अंतिम अक्षर '' माना जायेगा, कुछ प्रतियोगी '' अक्षर देते हैं, यह गलत है।

ओर हमारे कल के विजेता है जी.के. अवधिया जी, तालियां, ओर हमारी टीम की तरफ़ से अवधिया जी ओ बहुत बहुत बधाई आप आप सब का बहुत धन्यवाद

आज की अन्ताक्षरी शुरू करते हैं इन पक्तियों से
"तुम्हें किसने बुलाया मयकशों से ये ना कह साकी
तबियत मिल गयी है वरना मयखाने बहुत से हैं"
"''"

18 comments:

  1. हमने तुझको प्यार किया है जितना
    कौन करेगा उतना

    'न'

    ReplyDelete
  2. कृपया यह भी स्पष्ट करें कि सिर्फ फिल्मी गीतों की अंताक्षरी है या इसमें कविताएँ, गीत, गज़ल, छंद जैसे कि दोहा, चौपाई आदि भी दे सकते हैं?

    ReplyDelete
  3. ना कोई उमंग है,
    ना कोई तरंग है,
    मेरी जिन्दगी भी क्या?
    एक कटी पतंग है!!

    "ह"

    ReplyDelete
  4. हमें तुमसे प्यार कितना ये हम नहीं जानते
    मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना

    'न'

    ReplyDelete
  5. न हम तुम्हें जानें
    न तुम हमें जानों
    मगर लगता है कुछ ऐसा
    मेरा हमदम मिल गया।
    "य"

    ReplyDelete
  6. ये दुनियाँ ये महफिल मेरे काम की नहीं

    'ह'

    ReplyDelete
  7. हम तुम एक कमरे में बंद हो और चाभी खो जाये

    ReplyDelete
  8. ये दिल न होता बेचारा
    कदम न होते आवारा
    तो खुबसूरत कोई अपना
    हमसफ़र होता

    ReplyDelete
  9. तुम कितनी खूबसूरत हो
    ये मैंने आज जाना है

    "ह"

    ReplyDelete
  10. तुम कितनी खूबसूरत हो
    ये मैंने आज जाना है

    "ह"

    ReplyDelete
  11. हुजुर इस कदर भी न इतरा के चलिए
    खुले आम आँचल न लहरा के चलिए
    "ए"

    ReplyDelete
  12. ए मेरे हमसफ़र इक जरा इंतजार

    "र"

    ReplyDelete
  13. राम करे ऐसा हो जाय, मोरी निंदिया तोहे मिल जाय,
    मैं जागूं तु सो जाय, मैं जागूं तु सो जाय। हो।
    "ह"

    ReplyDelete
  14. hame tumse pyar kitna ye hum nahi janate,magar ji nahi sakte tumhare bina..

    'न'

    ReplyDelete
  15. नीले नीले अंबर पर ,चांद जब आए , प्‍यार बरसाए , हमको तरसाए , ऐसा कोई साथी हो ऐसा कोई प्रेमी हो प्‍यास दिल की बुझा जाए !!

    ReplyDelete
  16. एक तो सूरत प्यारी और ऊपर से ये नाज़,
    दिल लेने के तौबा ये कैसे हैं अंदाज़
    "ज" आज सिर्फ़ फ़िल्मी गीत... चलिये अब आगे चलते है... "ज" से

    ReplyDelete
  17. जीवन के सफ़र में राही,
    जीते हैं बिछुड़ जाने को

    "क"

    ReplyDelete
  18. कनक-कनक ते सौ गुनी, मादकता अधिकाय
    या खाए बहुराए जग, वा पाए बहुराए।
    'क'

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।