17/11/09

बूझॊ तो जाने? जबाब

नमस्कार आप सब को, इस बार का सवाल तो बहुत आसन था, लेकिन फ़िर भी कुछ लोग चूक गये....
जबाब के संग आप सब कॊ सचिन के ओर भी ठेर सारे चित्र आप को दिखा रहा हुं, मै वेसे तो किर्केट को बिलकुल पसंद नही करता, लेकिन आप तो सब पसंद करते है, तो लिजिये सचिन के बाकी चित्र इस चटके के संग.
सभी साथियो को बधाई जिन्होने इस मे हिस्सा लिया, इस बार सभी को इनाम मै मेरी तरफ़ से लंच आप के साथ वाले गुरुदुवारे मै, मेरे नाम से वहा जा कर माथा टेके, ओर वाहे गुरु का नाम ले कर खुब भर पेट लंगर भी छके.

तो चलिये अब विजेतओ की चर्चा की जाये...
आज के पहले विजेता है... S R जी
दुसरे स्थान पर विजेता आये....neeshoo जी
तीसरे स्थान पर विजेता आये प्रकाश गोविन्दजी
फ़िर क्रमश: विजेता रहे...
सैयद | Syed,dhiru singh {धीरू सिंह},डॉ टी एस दराल,AlbelaKhatri.com,रंजन,ताऊ रामपुरिया,mehek,खुशदीप सहगल,अभिषेक ओझा,शिवम् मिश्रा,MANOJ KUMAR,Anil Pusadkar,अल्पना वर्मा,राजीव तनेजा,वाणी गीत,हिमांशु,शोभना चौरे,Ashish (Ashu),seema gupta, ओर सब के नाम के पीछे जी भी लगाना है जी, जिन्होके जबाब सही नही वो भी बाबा जी का लंगर खा सकते है,
फ़िर से आप सब का धन्यवाद,

एक दो दिन मै एक नया प्रोगराम ले कर आऊंगा, ओर कल उस की तारीख भी बता दुंगा,बिलकुल नया प्रोगराम जिस मै आप सब को खुब मजा आयेगा, जी लेकिन कल शाम को उस प्रोगराम की घोषणा करुंगा.
तब तक आप सब का साथ ओर प्यार चहिये... मै चला नहाने गर्मा गर्म पानी से......

21 comments:

  1. विजेताओं को बधाई और हारनेवालों को ढाढस :)

    ReplyDelete
  2. जय हो आपकी...........

    सबको विजयी बना दिया,,,,,,,,

    किसी को पराजित नहीं किया.........

    ऐसी पहेली के बारम्बार सदके.............

    आप नहा के निकलो उससे पहले मैं एक परांठा चेप लेता हूँ ,,,हा हा हा

    ReplyDelete
  3. धन्यवाद बड़े भाई ! बाकी कल का इंतज़ार रहेगा !

    ReplyDelete
  4. विजेताओं को बधाई और हम चले लंगर खाने। नये प्रोग्राम का इंतज़ार रहेगा, जल्दी खुलासा करें।

    ReplyDelete
  5. मैं बुझ तो नही पा रहा हूँ..पर बुझने वालों को ढेर सारी बधाई..

    ReplyDelete
  6. भाटिया जी आप महान है।बस आपके यंहा आकर ही जीत पाता हूं मैं।

    ReplyDelete
  7. ओह्ह... मैं यहाँ भी लेट हो गया... :(

    ReplyDelete
  8. भाटिया जी, आज तो आपके चक्कर में हम भूखे ही रह गये...
    आपके कहे अनुसार पडोस वाले गुरूद्वारे में जाकर हमने बोला कि "भाई! जल्दी से लंगर छकाओ । हमें राज भाटिया जी ने भेजा है "।
    वो बोले कि " महंगाई इतनी बड गई है कि अब बाबा जी ने मुफ्त में लंगर बाँटना बन्द कर दिया है "।

    ReplyDelete
  9. ये मजेदार रहा..लंगर कल छकेंगे.

    रामराम.

    ReplyDelete
  10. हा...हा...हा....हा...हो...हो....हा....हा...हा
    अरे राज जी, वत्स जी की बात सुनकर हंसी रोकना मुश्किल हो गया है ... ये वत्स जी भी कमाल के बन्दे हैं

    खैर ........सब लोग बधाई ले लो मैंने अपने हिस्से की पहले ही रख ली !

    राज जी ये सस्पेंस न फैलाया करिए ........ आई डोन्ट लाईक सस्पेंस !
    मैं सस्पेंस वाली किताब हमेशा पीछे से पढना शुरू करता हूँ
    सस्पेंस वाली फ़िल्म देखने जाता हूँ तो पहले सामने बैठे पान वाले से स्टोरी पूछ लेता हूँ !
    इसलिए आप प्रोग्राम का जल्दी से जल्दी खुलासा कीजिये .... बड़ी बेचैनी हो रही है !

    ReplyDelete
  11. हमें तो यही नहीं पता कि आपने पहेली बुझाई थी...हद हो गई!!

    ReplyDelete
  12. मजाक कर रहे हैं न भई..हम तो उसे आपकी बता आये थे. :)

    ReplyDelete
  13. दिलचस्प है ... आज का परिणाम ...पेश करने का अंदाज
    शाम को उस प्रोगराम की घोषणा करुंगा.... प्रतीक्षा है

    ReplyDelete
  14. विजेताओं को बधाई ।

    ReplyDelete
  15. वाकई में पहली बेहद ही रोचक थी, सभी विजेताओ को बधाई,...
    regards

    ReplyDelete
  16. भई भाटिया साहब यहाँ सब मजे कर रहे कोई लंगर में में मौज कर रहा है , कोई पराठा खा रहा है, अरे कम से कम चाय का प्याला तो हमें भी मिलना चाहिए, और आप ये जो पहेली पूछ रहे हैं कोई दिन तय किया हुआ है क्या ? क्योंकि मुझे जानकारी नहीं थी| अगली बार कब पूछने वाले हैं मैं भी अपनी किस्मत अजमा लेता हूँ !!! वो राजीव तनेजा की तरह कोई इनाम विनाम भी रखा है की नहीं "मरी हुई बिल्ली के दायें पैर का नाख़ून" वगेरह !

    ReplyDelete
  17. "मै वेसे तो किर्केट को बिलकुल पसंद नही करता"

    मैं भी नहीं करता जी! समय की बरबादी है ये खेल और इसके कारण हमारे राष्ट्रीय खेल हॉकी के प्रति लोगों की रुचि ही घट गई।

    ReplyDelete
  18. भाटिया जी,
    आपके नए प्रोग्राम का इंतज़ार है...

    रही बात लंगर की तो हमने भी नौकरी का एक बार एड निकाला था...सिर्फ आधे घंटे का काम...सुबह शाम खाना मुफ्त...बस करना ये है कि नौकरी करने वाले को लंगर पर जाकर खुद खाना खा लेना है और हमारा खाना बंधवा कर ले आना है....ज्यादातर का जवाब आया...स...आ.....ल....ए...कंगले...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  19. सभी विजेताओं को बधाई.नए कार्यक्रम की प्रतीक्षा.

    ReplyDelete
  20. नये प्रोग्राम का इंतजार है..

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।