18/03/10

बहुत दिन हो गये अन्ताक्षरी खेले हुये

बहुत दिन हो गये हैं ना अन्ताक्षरी खेले हुये, तो आईये आज फिर से खेलते हैं।  आप क्यो नही आते अन्ताक्षरी खेलने, एक बार आओ फ़िर देखे केसे आप बचपन मै लोट जाते है, हम सब को भी कभी कभी बच्चा बनना चाहिये, तभी तो हम अपने बच्चो के दोस्त बन पायेगे....
तो आईये ओर हम संग खेले ओर थोडी देर के लिये सब गम भुल जाये...
नये आने वाले मित्रों के लिये भी आज अन्ताक्षरी के कुछ नियम दोबारा बता देते हैं।
कृप्या अपने दिये हुए अक्षर पर खुद गाना ना गायें। अपना अक्षर देने के बाद कृप्या धैर्य रखें और 2-3 मिनट इंतजार करने के बाद कमेंट पन्ने को रिफ्रेश या रिलोड करें। F5 दबा कर, अपने दिये अक्षर के बाद गाये गानों को जरूर पढें, अगर कोई गलती करता है तो सबको सचेत करें। चेन को टूटने ना दें, अगर चेन टूटती है तो सबको बतायें और वहीं से शुरू करें जहां से चेन टूटी थी। अगर एक ही अक्षर पर दो टिप्पणियां आती हैं तो पहले पब्लिश हुई टिप्पणी के दिये अक्षर पर गाना लिखें। झुंझलायें नहीं और जल्दी से रिफ्रेश करके टिप्पणी लिखें। 
नोट - इस पेज को टैब में खुला रखिये और अपना गाना गाकर और अंतिम अक्षर " " के बीच में लिखकर टिप्पणी करके आप दूसरी टैब में ब्लाग्स और चिट्ठियां पढ सकते हैं, और दूसरे कार्य कर सकते हैं। फिर जब फ्री होते हैं तो एक बार फिर से पेज को रिफ्रेश या रिलोड करिये और फिर से खेलना शुरु कर दीजिये। जब आप जल्दबाजी में टाईप करते हैं या कोई गाना एकदम से याद आता है या दूसरे लोगों के गाये गानों को पढते हैं तो एकदम से आपके होठों पर जो मुस्कान आती है - "क्या आपने उसे महसूस किया है?" बताईयेगा जरूर। तो चले आज की आंतक्षरी की तरफ़.. 
होंठों में ऐसी बात मैं दबा के चली आई
खुल जाये वही बात तो दुहाई है दुहाई 
"ई" से

18 comments:

  1. ईश्वर अल्ला तेरो नाम सब को सन्मति दे भगवान

    "न" से

    ReplyDelete
  2. न न करते प्यार तुम्ही से कर बैठे
    करना था इनकार इकरार तुम्ही से कर बैठे


    ...'ठ'........

    ReplyDelete
  3. ठुमक चलत रामचन्द्र बाजत पैंजनिया...

    ReplyDelete
  4. यारी है ईमान मेरा
    यार मेरी जिन्दगी!
    "ग" के लिखिए-

    ReplyDelete
  5. गाता रहे मेरा दिल, तू ही मेरी मंज़िल,
    कहीं बीतें न ये रातें, कहीं बीतें न ये दिन
    "न" से

    ReplyDelete
  6. न कजरे की धार न मोतियों के हार

    न कोई किया श्रृंगार फिर भी कितनी सुन्दर हो

    तुम कितनी सुन्दर हो.......


    "ह" से

    ReplyDelete
  7. हमें तुम से प्यार कितना, ये हम नहीं जानते
    मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना
    "न" से

    ReplyDelete
  8. नीले-नीले अम्बर पर चांद जब आये
    चांद जब आये नेह बरसाये

    :य:

    ReplyDelete
  9. ये तो बहुत बढिया शुरूआत है।
    ...
    ये देश है वीर जवानों का,
    अलबेलों का, मस्तानों का,
    इस देश का यारों
    होये
    इस देश का यारों क्या कहना,
    ये देश है दुनिया का गहना
    "न" से

    ReplyDelete
  10. न जा कहीं अब न जा दिल के सिवा
    है यही दिल कूचा तेरा
    ऐ मेरे हम्दम मेरे दोस्त
    ना जा कहीं अब न जा
    "ज" से

    ReplyDelete
  11. जन गण मन अधिनायक जय हे...भारत भाग्य विधाता

    ReplyDelete
  12. तुम आ गए हो नूर आ गया है,
    वरना चिरागों से लौ जा रही थी

    ReplyDelete
  13. थोड़ा रुक जायेगी तो तेरा क्या जायेगा
    नैन भर के देख लेंगे चैन आ जायेगा
    "ग"

    ReplyDelete
  14. गाता रहे मेरा दिल
    तू ही मेरी मंज़िल

    ReplyDelete
  15. लो आ गयी उनकी याद वो नहीं आए।
    दिल उनको ढूंढता है गम का सिंगार करके
    आंखे भी थक गयी है अब इंतजार कर के।

    ReplyDelete
  16. क्या से क्या हो गया
    बेवफ़ा ऽऽऽ
    तेरे प्यार में
    चाहा क्या क्या मिला
    बेवफ़ा ऽऽऽ
    तेरे प्यार में
    "म"

    ReplyDelete
  17. bhatiya ji main kaise gaaun mujhe to bahut sharam aati hai gaana gaane me

    ReplyDelete
  18. मेरे दिल मे आज क्या है, तू कहे तो मै बता दू
    द से

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।