06/06/10

बूझॊ तो जाने?????


चलिये आज एक आसान सी पहेली आप  के सामने है, आप इसे ध्यान से देख कर बताये कि यह कोन सी जगह है, क्या एक मंदिर है? या फ़िर मस्जिद? या फ़िर गिर्जाघर?या कोई एक इमारत महल नमुना, चलिय्र जो कुछ भी है इस बारे आप बताये कि यह किस जगह है? ओर इस का क्या नाम है, ओर यह असल मै क्या है??

23 comments:

  1. यह तो हमारा लखनऊ यूनिवर्सिटी लग रहा है.... ऐडमिनिस्ट्रीटिव बिल्डिंग ऐसी ही है कुछ कुछ देखने में.... अब लखनऊ यूनिवर्सिटी भी तो आख़िर नवाब वाजिद अली शाह का महल रहा है.....

    ReplyDelete
  2. सादर !
    नहीं ये मेरा नहीं है ! और जब मेरा नहीं है तो कहाँ है? क्या है? नाम क्या है? क्या पता ?
    कुलमिलाकर जी जानकारी नहीं है | और आपने मेरे अन्ताक्षरी वाले आग्रह का जबाब नहीं दिया| मैंने सोचा जब आप नहीं जबाब
    नहीं देते तो मै क्यों दूँ ...हा....हा...
    रत्नेश त्रिपाठी

    ReplyDelete
  3. भाई इत्ती बडी दुनिया..अब कौन से कोने में जाकर ढूंढा जाए...ये तो बताईये कि कौन से मुलुक में है ये बिल्डिंग. अगर कहीं पाकिस्तान में हुई तो फिर तो जै राम जी की..हम नहीं जाने वाले खोजने :)

    ReplyDelete
  4. सादर !
    आपके ब्लाग पर खेली गयी हिंदी फ़िल्मी गीतों की अन्ताक्षरी की बात कर रहा हूँ जी ! फिर ये मौका कब हाथ लगेगा |
    रत्नेश

    ReplyDelete
  5. क्या बात है आप भी ताऊ की राह पर....

    ReplyDelete
  6. अजी यह १००% भारत मै है
    ओर बहुत प्रसिद्ध भी है,

    ReplyDelete
  7. कहीं ये मेरठ का वह गिरिजाघर तो नहीं जो किसी मुस्लिम महिला ने बनवाया था.

    ReplyDelete
  8. भाटिया जी ,... कुछ हिंट ज़रूर दिया करें ... खोजने की जिग्यासा बनी रहती है ... नही तो जवाब ना में ही रह जाता है ...

    ReplyDelete
  9. bhatia ji namaskar aur kaise hain padosi

    mera jawab bhi hai ye jagah hai lucknow ka imam bada

    इमाम बाड़ा लखनऊ

    ReplyDelete
  10. अजी यह ऊतर प्रदेश मै है, ओर इस पर डाक टिकट भी बने है

    ReplyDelete
  11. भाटिया जी, आज लग रहा है कि मुझे मैट्रिक में इतिहास-भूगोल में इत्ते कम अंक क्यों मिले?

    ReplyDelete
  12. अरे बाप रे अभी तक एक भी जबाब सही नही मिला... अरे सभी महा रथी कहां गये??

    ReplyDelete
  13. अगर पुराना है तो पता नहीं, लेकिन नया होगा तो पक्का बहन मायावती जी का बनवाया कांसीराम महल होगा, लखनऊ में |
    रत्नेश त्रिपाठी

    ReplyDelete
  14. अरे ये तो हमारे रामपुर की रज़ा लाइब्रेरी है
    रामपुरिया ताऊ कहाँ हैं?

    ReplyDelete
  15. सुन्दर चित्रकारी लग रही है ।

    ReplyDelete
  16. नेट पर खोजने की बहुत कोशिश की पर नहीं खोज पाये।

    आप इसे आसान कहते हैं? बहुत मुश्किल ये तो हमारे लिये।

    ReplyDelete
  17. रामपुर राजा लाईब्रेरी

    प्रणाम

    ReplyDelete
  18. The Rampur Raza Library is a treasure house of Indo Islamic learning and Art, founded by Nawab Faizullah Khan in 1774 AD. His descendants continued to enrich the collection after the attainment of independence and merger of Rampur State in the union of India, the library was brought under the management of trust till the Govt. of India took over the library on 1st July 1975 under the act of parliament and declared it as an institution of National importance. Its affairs are managed by the Rampur Raza Library Board whose Chairman is H.E Governor of U.P.

    ReplyDelete
  19. http://www.google.co.in/imgres?imgurl=http://upload.wikimedia.org/wikipedia/en/thumb/d/d0/Raza_Library.jpg/256px-Raza_Library.jpg&imgrefurl=http://www.viswiki.com/en/Raza_Library&usg=__nnhfuWOfFr8Op3d67B8Zv32fB_8=&h=192&w=256&sz=15&hl=en&start=9&itbs=1&tbnid=s9xRALpYoF752M:&tbnh=83&tbnw=111&prev=/images%3Fq%3Drampur%2Braza%2Blibrary%26tbnid%3Du9cGGYaLXpBk1M:%26tbnh%3D0%26tbnw%3D0%26hl%3Den%26sa%3DX%26gbv%3D2%26imgtype%3Di_similar%26tbs%3Disch:1

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।