03/07/10

ब्लांगबाणी!!!! तेरे नाम से

हे ब्लांग बाणी तु जहां भी है, खुश रह.... लेकिन जाते जाते हम सब की बात सुनती जा....

23 comments:

  1. खुश रहे तू सदा ............यह दुआ है हमारी !

    ReplyDelete
  2. राज जी ब्लागवाणी के बन्द होने का राज भी हम सब ब्लागर ही है आपको बता दूँ कि ब्लागवाणी बन्द नही है केवल नऐ फिड अपडेट नही किये जा रहे हैँ
    पर ब्लागवाणी लौटेगी....?जरुर लौटेगी ।

    ReplyDelete
  3. दादा
    सादर अभिवादन
    ब्लागवाणी अब आई समझ में तेरी कहानी .... जाने तू ..जाने तू ...
    लगता ब्लागरों की तरह वो भी टंकी पर चढ़ गई है .... टंकी के ए. सी. रूम में पतासाजी करवा कर दिखवा लें शायद मिल जाए....

    ReplyDelete
  4. इतना मनाने पर तो प्रभु भी मान जाते हैं, ब्लोग्वानी तो छोटी चीज़ है, अवश्य मानेगी. हम बस मनाते रहें!

    ReplyDelete
  5. हमारी भी आरजू है कि ब्लॉगवाणी जल्दी से वापिस आ जाये!

    ReplyDelete
  6. बस इसी इन्तजार मे हैं कि कब वापिस आये ब्लागवाणी। तब तक यही गीत गुनगुनाते हैं धन्यवाद।

    ReplyDelete
  7. सटीक
    ब्लागवाणी अब वापस आ भी जाओ

    ReplyDelete
  8. माहौल ग़मगीन हो गया !

    ReplyDelete
  9. अब तो उनको वापस आ जाना चाहिए :)

    ReplyDelete
  10. ब्लागवाणी को अलविदा तो नहीं कहेंगें, क्यों कि हमें तो देर सवेर उसके लौटने की पूरी उम्मीद है....

    ReplyDelete
  11. इन्तजार लगा ही है फिर भी!

    ReplyDelete
  12. bahut sunder giit sunaya aapne.
    blagvaani ke liye aalogon ke mn men itna dard dekh kar mujhe yah lag raha hai ki maine hii shayad blagvaani se koi laabh nahin uthaya tha...!

    ReplyDelete
  13. ब्लोगवाणी के जाने से लेखन और पठन , दोनों पर असर पड़ा है ।
    दूसरे एग्रीगेटर्स इसका मुकाबला नहीं कर पा रहे ।

    ReplyDelete
  14. भगवान उन महानुभावों को भी सद्बुद्धि दे जो बैठे ठाले ही, अपने काम में निर्विकार भाव से लगे लोगों को यूं ही अपराधी घोषित कर दुःख देते हैं.

    ReplyDelete
  15. बहुत ही सुन्दर और मेरे पसन्द का गीत सुनाया आपने राज जी!

    ReplyDelete
  16. बिलकुल सही कहा ...ब्लोगवाणी को भी लौटना ही होगा....

    ReplyDelete
  17. रोज मनाते रहते हैं ..जाने किस दिन ब्लोगवाणी का मूड बदल जाए और वो वापसी कर जाए । कहीं नहीं गई है ..है तो यहीं ..। सोचते हैं कि एक दिन सब मिलकर चले चलते हैं डायरेक्टली उसे गले लगाने को .। शायद जादू की झप्पी कुछ काम कर ही जाए

    ReplyDelete
  18. आ लौट के आजा मेरे मीत .... ब्लोगवानी की कमी खल रही है ...

    ReplyDelete
  19. राज भाई !
    बड़ा पसंद रहा है यह गाना , बहुत दिन बाद सूना है , आपका शुक्रिया !

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।