22/10/10

मुझे शिकायत हे जी.....बात सिर्फ शराब की नहीं

बात सिर्फ शराब की नहीं
यह लेख मुझे मेल से आया पढ कर अच्छा लगा सोचा आप सब से बांट लू, ओर मैने जेसे का तेसा इसे यहां प्रकाशित कर दिया
Dainik Bhaskar, 20 Oct 2010 : एक ताजा सर्वेक्षण से पता चला है कि भारत के कुछ नगरों के 45 प्रतिशत नौजवानों को शराब की लत पड़ गई है। दिल्ली से इंदौर तक के ग्यारह शहरों के 2000 नौजवानों के सर्वेक्षण से ये आंकड़े मिले हैं। इन नौजवानों की उम्र 15 से 19 वर्ष है। पिछले 10 साल में इस लत का असर दुगुना हो गया है। कोई आश्चर्य नहीं कि अगले दस साल में देश के लगभग शत प्रतिशत नौजवान शराबखोर बन जाएं।


जरा सोचें कि अगर हालत यही हो गई तो 21वीं सदी के भारत का क्या होगा? हम गर्व करते हैं कि आज नौजवानों की जितनी संख्या भारत में है, दुनिया के किसी भी देश में नहीं है। भारत अगर विश्व-शक्ति बनेगा तो इस युवाशक्ति के दम पर, लेकिन अगर हमारी युवाशक्ति इन पश्चिमी लतों की शिकार बन गई तो भारत आज जिस बिंदु पर पहुंचा है, उससे भी नीचे खिसक जाएगा। यह मामला सिर्फ शराब का ही नहीं है, शराब जैसी अन्य दर्जनों लतों का है, जो भारत के भद्रलोक की नसों में मीठे जहर की तरह फैलती जा रही हैं।

शराब के बढ़ते चलन के पीछे जो तर्क दिख रहे हैं, वे सतही हैं। उनके पीछे छिपे रहस्यों को जानना जरूरी है। इन रहस्यों को हम अगर जान पाएंगे तो दूसरी आधुनिक बीमारियों के मूल तक पहुंचने में भी हमें आसानी होगी और उनका इलाज करना भी कठिन नहीं होगा।

हमारे नौजवान शराब इसलिए पी रहे हैं कि उनके हाथ में पैसे ज्यादा आ रहे हैं। वे अपना तनाव मिटाना चाहते हैं और माता-पिता उन पर समुचित ध्यान नहीं दे पाते हैं। ये तीनों तर्क अपनी जगह ठीक हैं, लेकिन ये ऊपरी हैं।

असली सवाल यही है कि हमारा नौजवान शराब को ही अपना एकमात्र त्राणदाता क्यों मान रहा है? और इस गंभीर भूल का पता चलने पर भी माता-पिता और समाज की तरफ से कोई उचित कार्रवाई क्यों नहीं होती?

इसका कारण यह है कि भौतिक विकास की दौड़ में पागल हुआ हमारा समाज बिल्कुल नकलची बनता चला जा रहा है। वह कहता है कि हर मामले में पश्चिम की नकल करो। अपना दिमाग गिरवी रख दो। अपने मूल्यमानों, आदर्शे, अपनी परंपराओं को दरी के नीचे सरका दो।

यदि शराब पीना, मांस खाना, व्यभिचार करना, हिंसक बनना, कर्ज लेकर ऐश करना आदि को पश्चिमी समाज में बुरा नहीं माना जाता तो हम उसे बुरा क्यों मानें? आधुनिक दिखने, प्रगतिशील होने, सेकुलर बनने, भद्र लगने के लिए जो भी टोटके करने पड़ें, वे हम करें। चूके क्यों? जरा गौर करें कि सर्वेक्षण क्या कहता है?

उसके अनुसार हमारे नौजवान ज्यादा शराब कब पीते हैं? क्रिसमस या वेलेंटाइन डे के दिन! ये दोनों त्योहार क्या भारतीय हैं? हमारे ईसाई भाई क्रिसमस मनाएं, यह तो समझ में आता है, लेकिन जो शराबखोरी करते हैं, उन आम नौजवानों का ईसा मसीह या क्रिसमस से क्या लेना-देना है? शराब पीना ही उनका क्रिसमस है और वह इसलिए है कि क्रिसमस पश्चिमी समाज का त्योहार है। होली और दिवाली पर उन्हें खुमारी नहीं चढ़ती, लेकिन क्रिसमस पर चढ़ती है, यह किस सत्य का प्रमाण है?

दिमागी गुलामी का! यही गुलामी वेलेंटाइन डे पर प्रकट होती है। जिन भारतीय नौजवानों को महात्मा वेलेंटाइन की दंत-कथा का भी सही-सही पता नहीं है, वे आखिर वेलेंटाइन डे क्यों मनाते हैं? वेलेंटाइन डे से भी सौ गुना अधिक मादक वसंतोत्सव है, लेकिन वे उससे अपरिचित हैं? क्यों हैं? इसीलिए कि वेलेंटाइन डे पश्चिमी है, आयातित है और ‘आधुनिक’ है।

शराब भी वे प्राय: विदेशी ही पीते हैं। ठर्रा पी लें तो उन्हें दारूकुट्टा या पियक्कड़ कहने लगेंगे। यह कड़वी बात उन्हें कोई कहता नहीं है, लेकिन सच्चई यही है कि इन नौजवानों को अपने भारतीय होने पर गर्व नहीं है। वे नकलची बने रहने में गर्व महसूस करते हैं।

अगर ऐसा नहीं है तो मैं पूछता हूं कि आज भारत के 90 प्रतिशत से अधिक शहरी नौजवान पेंट-शर्ट क्यों पहनते हैं? टाई क्यों लगाते हैं? उन्हें कुर्ता-पायजामा पहनने में शर्म क्यों आती है? स्कूल-कॉलेजों में कोई भी अध्यापक और छात्र धोती पहने क्यों नहीं दीखता?

कोई वेश-भूषा कैसी भी पहने, उसमें कोई बुराई नहीं है, लेकिन कोई अपनी स्वाभाविक वेश-भूषा, जलवायु के अनुकूल वेश-भूषा, पारंपरिक वेश-भूषा को तो हीन भाव से देखे और अपने पुराने मालिकों की वेश-भूषा को गुलामों की तरह दैवीय दर्जा देने लगे तो उसे आप क्या कहेंगे?

ठंडे देशों में शराब का प्रचलन है और टाई समेत थ्री-पीस सूट पहने जाते हैं, लेकिन भारत जैसे गर्म देश में भी इन चीजों से चिपके रहना कौन सी आधुनिकता है? खुद को असुविधा में डालकर नकलची बने रहना तो काफी निचले दर्जे की गुलामी है। यदि ऐसी गुलामी भारत में बढ़ती चली जाए तो उसके संपन्न होने, शक्तिमंत बनने और स्वतंत्र होने पर लानत है।

यहां मामला शराब और वेश-भूषा का ही नहीं है, सबसे गंभीर मामला तो भाषा का है। आजादी के 63 साल बाद भी अंग्रेजी इस देश की पटरानी बनी हुई है और हिंदी नौकरानी! किसी को गुस्सा तक नहीं आता। बुरा तक नहीं लगता। राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री से लेकर बाबुओं और चपरासियों ने भी अंग्रेजी की गुलामी का व्रत धारण कर रखा है।

शराब की गुलामी से भी ज्यादा खतरनाक अंग्रेजी की गुलामी है। विदेशी भाषाओं और ज्ञान-विज्ञान से फायदा उठाने का मैं जबर्दस्त समर्थक हूं, लेकिन अपनी मां पर हम थूकें और दूसरे की मां के मस्तक पर तिलक लगाएं, इससे बढ़कर दुष्टता क्या हो सकती है? यह दुष्टता भारत में शिष्टता कहलाती है।

यदि आप अंग्रेजी नहीं बोल पाएं तो इस देश में आपको कोई शिष्ट और सभ्य ही नहीं मानेगा। देखा आपने, कैसा सूक्ष्म सूत्र जोड़ रहा है शराब, पेंट-शर्ट और अंग्रेजी को। हम यह भूल जाते हैं कि शराब ने रोमन और मुगल जैसे साम्राज्यों की जड़ों में मट्ठा डाल दिया और विदेशी भाषा के जरिए आज तक दुनिया का कोई भी राष्ट्र महाशक्ति नहीं बना, लेकिन इन मिथ्या विश्वासों को हम बंदरिया के बच्चे की तरह छाती से चिपकाए हैं। दुनिया में हमारे जैसा गुलाम देश कौन सा है?

इस गुलामी को बढ़ाने में ‘कॉमनवेल्थ’ का योगदान अप्रतिम है। ‘कॉमनवेल्थ’ को क्या हमने कभी ‘कॉमन’ बनाने की आवाज उठाई? उसका स्थायी स्वामी ब्रिटेन ही क्यों है? हर दूसरे-तीसरे साल उसका अध्यक्ष क्यों नहीं बदलता गुट निरपेक्ष आंदोलन की तरह या सुरक्षा परिषद की तरह? उसकी भाषा अंग्रेजी क्यों है, हिंदी क्यों नहीं? कॉमनवेल्थ के दर्जनों देश मिलकर भी भारत के बराबर नहीं हैं। हिंदी दुनिया की सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है।

दुर्भाग्य तो यह है कि आज देश में हमारे राजनीतिक दल और यहां तक कि साधु-महात्मा भी शक्ति-संधान और पैसा-महान में उलझ गए हैं। दयानंद, गांधी और लोहिया की तरह कोई ऐसा आंदोलन नहीं चला रहे, जो भारत के भोजन, भजन, भाषा, भूषा और भेषज को सही पटरी पर लाए।
 

इस पंचभकार का आह्वान अगर भारत नहीं करेगा तो पंचमकार- मद्य, मांस, मीन, मुद्रा, मैथुन का मार्ग तो पश्चिम ने हमें दिखा ही रखा है। पश्चिम तो अब उठकर गिर रहा है, हम उठे बिना ही गिर जाएंगे।

18 comments:

  1. PK आता हूँ , फिर टिपण्णी करूंगा ! :)

    ReplyDelete
  2. दिक्कत तो यही है कि हम पश्चिम की कमियों को फ़ौरन एडाप्ट कर लेते हैं ,लेकिन जो सकारात्मक चीजें हैं उनकी तरफ़ ध्यान भी नहीं देते।

    ReplyDelete
  3. ..45 प्रतिशत नौजवानों को शराब की लत पड़ गई है।..
    ..यह सर्वेक्षण विश्वसनीय नहीं है लेकिन यह लेख महत्वपूर्ण है। बहुत सी बातें दमदार हैं..हम आधे-अधूरे हो के रह गए हैं...न पूरे भारतीय ही बन सके न अंग्रेज। विवेकानंद जैसी वैचारिक क्रांति के बिना अब सुधार संभव नहीं लगता।

    ReplyDelete
  4. ..45 प्रतिशत नौजवानों को शराब की लत पड़ गई है।..
    ..यह सर्वेक्षण विश्वसनीय नहीं है लेकिन यह लेख महत्वपूर्ण है। बहुत सी बातें दमदार हैं..हम आधे-अधूरे हो के रह गए हैं...न पूरे भारतीय ही बन सके न अंग्रेज। विवेकानंद जैसी वैचारिक क्रांति के बिना अब सुधार संभव नहीं लगता।

    ReplyDelete
  5. बात तो सही है जी मगर वगैर पिए नींद भी तो नहीं आती है .. चिंताहरनी है और वैतरणी पार लगावे है ... हा हा हा

    ReplyDelete
  6. मै तो सोची कुछ शराब की बुराई का ज्ञान मिलेगा पर बात को कही की कही चली गई |

    ReplyDelete
  7. `दुर्भाग्य तो यह है कि आज देश में हमारे राजनीतिक दल और यहां तक कि साधु-महात्मा भी शक्ति-संधान और पैसा-महान में उलझ गए हैं। '

    जब देश शराबी नेताओं और शराब के पैसे से चलता है तो शराब को कौन रोक सकता है भला :(

    ReplyDelete
  8. हम तो अभी ही दो पैग लगा आए
    अब क्या कहें, क्या टिप्पणी करें।:)

    ReplyDelete
  9. बुराई शराब में नहीं , शराबियों में होती है । पीकर होश खोना , होश खोकर दंगा करना , गली गलौच करना , नाली में पड़े रहना या फिर बड़ी बड़ी कारें ड्राइव करते हुए फुटपाथ पर सोने वालों को कुचल देना --इनमे बुराई है । हम नक़ल तो कर रहे हैं , लेकिन अक्ल से नहीं ।

    ReplyDelete
  10. बिलकुल सही सवाल उठाये हैं मगर मुझे लगता है कि सब से बडे दोशी हम हैं जो अपने बच्चों को अच्छे संस्कार नही देते। जीवन की भागम भाग मे बहुत से सुनहरे ख्वाब देखते हुये केवल उन्हें पूरा करने मे लगे हैं। कुछ तो इसका असर है ही। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  11. निर्मला जी से सहमत.

    ReplyDelete
  12. 6/10

    सामाजिक सरोकार से जुड़ी एक आवश्यक पोस्ट.
    हमारी स्थिति आधा तीटर--आधी बटेर जैसी है

    इस मामले में सरकार ने भी समाज का बहुत ख्याल रखा है. ऐसी-ऐसी जगहें जहाँ अनिवार्य दिनचर्या से सम्बंधित वस्तुएं नहीं मिलेंगी, राशन का सामान नहीं मिलेगी किन्तु मधुशाला अवश्य मिल जायेगी.

    ReplyDelete
  13. सच मुच विचारणीय विषय है |

    ReplyDelete
  14. इस दर्दनाक स्थिति के लिए अयोग्य व्यक्तियों का देश के राष्ट्रपति और प्रधानमंत्री के पदों पर बैठा होना जिम्मेवार है जिससे देश में कुव्यवस्था,जनविरोधी नीतियाँ और भ्रष्टाचार का बोलबाला है..सरकार की छवि एक दलाल और लूटेरों सी बन गयी है और इससे निपटने के लिए हर कोई शराबी बनने को आतुर है ...सरकार भ्रष्ट और कुकर्मियों को पोषण देने वाली हो गयी है ...शर्मनाक अवस्था है ...

    ReplyDelete
  15. हम पश्चिम की की नकल में इतने डूब गये हैं की ये पता नही कि जा कहाँ रहे हैं..युवा पीढ़ी को समझने की ज़रूरत है..शराब के आदी लोग आधुनिकता बता कर अपने को धोखे में रख रहें है..कुछ अच्छा नही होने वाला यदि कुछ बदलाव ना हुआ तो
    जानकारी भरी एवं लोगों को आगाह करती एक बढ़िया पोस्ट ....धन्यवाद राज जी

    ReplyDelete
  16. बहुत ही उत्तेजक लेख है ... एक एक शब्द सचाई बयान कर रहा है .... अफ़सोस की बात तो ये है की इस अंधाधुंध दौड़ में हमारा समाज, सरकारी तंत्र और परिवार कुछ ख़ास नही कर रहा है ....

    ReplyDelete
  17. खुद को असुविधा में डालकर नकलची बने रहना तो काफी निचले दर्जे की गुलामी है।
    सही कहा है . एक नायब पोस्ट, मैंने २-३ बार पढ़ा. धन्यवाद्

    ReplyDelete
  18. सचमुच, चिंता की बात है यह। पर आजका आदमी पढा लिखा होकर भी जाहिलों वाली हरकतें कर रहा है। क्‍या कहा जाए।

    ---------
    सुनामी: प्रलय का दूसरा नाम।
    चमत्‍कार दिखाऍं, एक लाख का इनाम पाऍं।

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।