25/12/10

आप क्या सब्जी खाते हैं?

गुप्ता जी के घर पर आयकर विभाग का छापा पडा है।

अरे! क्या वो रिश्वत लेते थे?

नहीं, वो तो व्यापार करते हैं।

तो क्या, आयकर भरने  में कोई धांधली करते थे?

पता नहीं, लेकिन कल सुबह ही उन्होंने आधा किलो प्याज खरीदी थी।

अन्तर सोहिल द्वारा लघु व्यंग्य कथा

16 comments:

  1. क्या सचमुच प्याज इतना जरूरी है?

    ReplyDelete
  2. बहुत खुब जी, मजा आ गया,

    ReplyDelete
  3. जबरदस्त व्यंग ! इतनी महंगी प्याज जो खरीदेगा वो शक के दायरे में आ ही जाएगा।

    ReplyDelete
  4. बहुत मजेदार है | अब तो ढूंढ़ ढूंढ़ कर वो सब्जिया लानी पड़ती है जिसमे प्याज टमाटर नहीं डाला जाता है |

    ReplyDelete
  5. भाव बढ़े है लेकिन अखबारो मे और मीडिया मे बढ़े है |हमारे यहाँ तो इस मूल्य वृद्धी का कोई खास असर नही पड़ा है |प्याज तीस रूपये और टमाटर 20 रूपये किलो मिल रहे है | प्याज महंगे होने से किस(चुंबन)सस्ता हो गया है |ये मै नही कह रहा हू अखबार की एक खबर कह रही ह |

    ReplyDelete
  6. नरेश जी ने सही कहा है .....क्या कहें ,,,,शुक्रिया भाई

    ReplyDelete
  7. आप क्या सब्जी खाते हैं?
    नहीं भाई, सब्जियां अब केवल दर्शनार्थ रह गई हैं ।

    ReplyDelete
  8. भाई आपने ये क्या प्याज कतरा कि आंखों में आंसू आ गए। बहुत अच्छी प्रस्तुति। हार्दिक शुभकामनाएं!
    एक आत्‍मचेतना कलाकार

    ReplyDelete
  9. प्याज ही क्यों , टमाटर और लहसुन भी रुला रहे हैं अब तो !

    ReplyDelete
  10. सटीक ....प्याज़ गरीबों का खाना रही है ...अब तो वो भी मयस्सर नहीं ..



    यहाँ आपका स्वागत है

    गुननाम

    ReplyDelete
  11. ई देखो अब प्याज खरीदना इतना महंगा पड़ेगा............... प्याज के लिए भी पैसे और आयकर वोलों को पटाने के लिए भी पैसे.अच्छी प्रस्तुति.
    फर्स्ट टेक ऑफ ओवर सुनामी : एक सच्चे हीरो की कहानी

    ReplyDelete
  12. दिल्ली के आयकर छापा विभाग, झंडेवालान में एक समय एक पोस्टर लगा मिलता था - "You might not know that you have become rich, but we do."

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।