02/01/11

आईये आज आप को गजरेला (गाजर का हलवा) खिलाये

लिजिये जनाब देख लिजिये यह जीभ भी कितना काम करवाती हे, बाप रे... जब सब गाजरो को पतीले मे डाल दिया तो इस मे दुध भी खुब डाला ओर इसे चुल्हे पर चढा दिया, ओर  बहुत कम तापमान पर इसे दो दिन तक काडते (पकाते) रहे, साथ साथ मे कडसी से इसे हिलाते भी रहे, कही नीचे ना लग जाये, आप खुद देख ले....










अजी आप खुद लेख ले हम लोग यहां कितनी मेहनत करते हे, आप लोग तो झट से दुकान से मंगवा लेते हे, बना बनाया, फ़िर दो दिन तक यह धीरे धीरे पकता रहा, बीच बीच मे इस मे दुध, मेवे ओर इलायची पाऊडर डाला गया, ओर जब यह अच्छी तरह से पक गया तो, कल रात को हमारी बीबी ने थोडे से हलवे को  देसी घी मे अच्छी तरह से भुना, ओर फ़िन नीचे देखे....

जी इसे फ़िर प्लेटो मे डाल कर सब ने मजे से खाया, आप लोग भी आये ओर जरुर इस का स्वाद चखे, घर का बना हलवा मेहनत जरुर मांगता हे, लेकिन साफ़ सुधरा होता हे, यही कारण हे कि हम होटल के खाने को पसंद नही करते, बाकी मिठ्ठाईयां भी जेसे भी बने वेसी बना कर घर पर ही दिल पुरा कर लेते हे,अब गोलगप्पे बनायेगे, कुछ समय के बाद.
तो आप सब भी आये ओर हमारे संग खाने मे हिस्से दार बने,

19 comments:

  1. हमने तो परसों ही खा लिया था।
    हां गोल गप्पे का ध्यान रखेंगे।

    ReplyDelete
  2. दो दिन तक ? इतनी छोटी कड़ाही में दो दिन तक पकायेंगे तो जल जायेगा। दो घंटे होगा भाई साहब!

    ReplyDelete
  3. दो दिन तक ? इतनी छोटी कड़ाही में दो दिन तक पकायेंगे तो जल जायेगा। दो घंटे होगा भाई साहब!

    ReplyDelete
  4. अजी यह पतीला फ़ोटो मे छोटा नजर आ रहा हे बहुत बडा हे. ओर दो दिन सही हे, धन्यवाद

    ReplyDelete
  5. राज जी,
    जब पिछली पोस्ट पढ़ी तब शोभा गाजर का हलवा बनाने में जुटी हुई थी। उस से कुछ देर पहले मैं गाजर कद्दूकस कर के लौटा ही था। शाम को गाजर का हलवा बना। कल खा कर भी देखा। वाकई घर के केवल दूध के साथ बने गाजर के हलवे का स्वाद अलग ही है। हम भी उतनी ही मेहनत करते हैं जितनी आप। बाजार वाले कुछ तो दूध में उबालते हैं बाद में मावा डाल कर स्वाद बढ़ाते हैं। पर वह मूल स्वाद नहीं।
    हाँ आप का मिक्सर-जूसर शोभा को पसन्द आया, और हमें भी। कद्दूकस से बचने का अच्छा साधन है।

    ReplyDelete
  6. वाह दो-दो बार गाजर का हलवा !
    अभी कल ही मैंने एक पोस्ट अंतर सोहिल के यहां भी पढ़ी थी :)

    ReplyDelete
  7. शुक्रिया , गरमा गरम हलवे के लिए ।

    ReplyDelete
  8. गाजियाबाद से एक यलो एक्सप्रेस चल रही है जो आपके ब्लाग को चौपट कर सकती है, जरा सावधान रहे।

    ReplyDelete
  9. हलवा देख कर मुँह मे पानी आ गया। पिछला बना कल खत्म किया आज फिर चढा देते हैं पतीला। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  10. दो दिन पकाते रहे!तब तो बहुत अच्छे से भून गया होगा और खूब टेस्टी भी होगा.
    इसी मिठास के साथ नए साल की शुभकामनाएँ और आप के दोनों बेटों को Belated Happy birthday!!!!

    ReplyDelete
  11. गाजर का हलवा तो खा लिया..अब इन्तजार
    है..गोलगप्पों का ..नववर्ष की बधाईयाँ !

    ReplyDelete
  12. राजीव जी मुंह मे पानी आ रहा है हलवा देखकर।
    आप जितनी मेहनत तो नही कर सकता इसलिए मै चला दुकान पर

    ReplyDelete
  13. अजी कुक तो हम पहले से ही थे । अब आपने हलवाई भी बना दिया । हा हा हा । मज़ा आ गया जी ।

    ReplyDelete
  14. यम्मी यम्मी! मज़ेदार!!

    ReplyDelete
  15. @ स्वाद चखें ...
    खुद खा रहे हो और हमें तरसा रहे हो :-(

    ReplyDelete
  16. halwe ka ramg-rup dekh kar hi lag raha hai ki behad swaadist hogaa!...jaldi jaldi pleten khaali kijiye!

    ReplyDelete
  17. अप्रिय परिस्थितिवश दस दिनों के लिए बाहर था। पर आते ही नये साल में आपने मधुर रसपान करवाया।
    धन्यवाद।

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।