30/12/10

आईये गजरेला ( गाजर का हलवा) बनाये ओर फ़िर खाये....

मेरे छोटे बेटे का जन्म दिन २८ दिसम्बर को था, उस दिन उस की पसंद का खाना बना, ओर उसे तोहफ़ा नगद पेसो के रुप मे मिला,अब बडे हो गये हे, हां उस दिन उस की मनपसंद खीर मुख्या खाने मे बनी थी,
ओर  १ जनवरी को मेरे बडे बेटे का जन्म दिन हे, ओर आज उस की पसंद का खाना बना हे, ओर उस की पसंद का मुख्या गाजर का हलवा बना, क्योकि हम लोग सिर्फ़ मजबुरी मे ही होटल का खाना खाते हे, वर्ना भुखा रहना पसंद करते हे, तो आईये देखे हमारे गाजर के हलवे की रुप रेखा केसे बना यह गाजर का हलवा, ओर अगर आप को पसंद हो तो जरुर आये हमारे यहां, ओर खुब खाये गाजर का हलवा.

बाजार से करीब ४ किलो गाजर लाये....
फ़िर उन्हे अच्छी तरह से मैने पानी मे धोया, अजी यह देखे
  देखा मै सच बोल रहा था ना, ओर फ़िर मैने इन्हे आगे ओर पीछे से इस काले चाकू से काटा भी







फ़िर इन्हे एक बरतन मे डाल कर बीबी के हवाले कर दिया, ओर हमारी इकलोती बीबी ने इसे खुब अच्छी तरह से छीला.... जी यकीन नही आ रहा तो यह देखिये ..
अब यकीन आ गया ना, अरे आज हमारी रसोई मे बहुत काम था हमारा चुल्हा भी खराब हो गया हे इस लिये वो सामने रखा छोटा चुल्हा रोटी बनाने के लिये अलग से रखा हे. एक तरफ़ हम इस गाजरो को धो धो कर बीबी को देते रहे ओर बीबी ने सारी गाजरे छील दी. फ़िर हमे हुकम दिया कि अब इन्हे बारीक कद्दू कस यानि बारीक बारीक कर दे, तो जनाब हम ने भारत मे तो कई बार हाथ छीलवाया हे गाजर फ़िसल जाये ओर हमारा हाथ घिस जाता था, लेकिन इस बार हम ने कोई गलती नही की, बस अपनी मिक्सी निकाली अरे हां जी यह देखे.....
फ़िर इस का सारा समान सेट किया.















फ़िर इसे कस दिया, यानि इसे बंद कर दिया इस के सारे पुर्जे इस मे डाल कर, ओर फ़िर हम ने काफ़ी गाजरे इस मे डाल दी, लेकिन बाबा यह तो एक दम से चलेही ना, यानि मिक्सर तो चले लेकिन गाजरो का बाल भी बांका हुया जी, तभी बीबी ने बताया तो हम ने इसे वेसे ही चलाया... अजी हाथ कंगन को आरसी क्या खुद ही देख ले....
 




देखा ना बस यही मार खा गया हिन्दुस्तान, लेकिन हमारी बीबी ने बताया कि अजी ऎसे नही, फ़िर उस ने एक गाजर कद्दु कस कर के दिखलाई, ओर फ़िर हम लग गये लंगोट कस के अजी खुद ही देख ले....
देखा बिना नारी के नर बेकार हे जी, फ़िर तो हम ने जी फ़टा फ़ट गाजरे डालनी शुरु कर दी ओर एक परात( बडा बर्तन) नीचे भर गया, जब भी कुतरन नीचे आती हम दुसरी गाजर से उसे वहां से हटा देते, देख लो एक परात तो हम ने भर ही ली..





देखा ना यह परात हम ने भर ली, अजी अभी तो आधी गाजरे ओर पडी हे, इसे मैने एक बडे पतीले मे पलट लिया, ओर फ़िर शुरु....

हां जी फ़िर शुरु हो गया जी मै यह देखे....



देखा मै कितना काम करता हुं घर पर, बेचारा मर्द, फ़िर जब सारी गाजरे कुतर दी तो इस मशील को खोला, जिसे बीबी ने बाद मे साफ़ कर दिया, जी देख ले इस मशीन  को खोला, देख ले अंदर भी बहुत समान था जी....

बाबा अब तो थक गया हुं, लेकिन बीबी बोली अब इसे पतीले मे भी पलट दो ना, ता कि इस मे ताजा दुध डाल कर हलके सेक पर रख देगे, जब तक हम जाग रहे हे यह होता रहे गा, फ़िर बंद कर देगे... अरे अरे मै तो भुल ही गया आप को आगे दिखाना यह देखे, मैने कितना काम किया हे....
फ़िर इन दोनो को एक बर्तन( पतीले) मे डाल दिया, बच्चे किसान के घर से ताजा दुध ले आये थे, फ़िर दुध इस मे डाल कर.... अरे अरे आज ही सारी बात बता दी तो अगली पोस्ट मे क्या करुंगा, चलिये अब हम भी थक गये ओर आप भी बुरी तरह से  थक गये हे, अब इन्हे पकने दे. इस बारे अगली पोस्ट मे बात करेगे, कि आगे क्या ओर केसे हुआ, तब तक आप भी मेरी तरह से इस के पकने का इंतजार करे, अगर आप लोगो के पास कोई राय हो तो जरुर बताये कि इस मै क्या क्या मिलाना चाहिये हम तो इस मै दुध, चीनी, इलायची,काजू, बादाम, ओर खोया डालते हे, अजी नही डाला अभी तो बता रहा हुं, आप भी कुछ बताये.... चलिये आप सोचे कोई जल्दी नही... जब याद आये तो झट से टिपण्णी मे बता दे, वेसे हम सार एक दिन मै नही खायेगे, थोडा खाये गे, बाकी? किसी को नही खिलायेगे जी :) उसे फ़्रिजर मै रख देगे, फ़िर जब दिल किया निकाला गर्म किया ओर खाया, या कोई मेहमान आ गया तो उसे खिला दिया . पहली जनवरी तक यह बन जायेगा जी
चलिये इस राम कहानी को अगली पोस्ट मे पुरा करेगे ओर आप को दिखायेगे..... राम राम

24 comments:

  1. वाह !
    अच्छा बना गाजर का हलवा !
    उम्दा पोस्ट !
    सुन्दर प्रस्तुति..
    नव वर्ष(2011) की शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  2. किशमिश , पिस्ता भी डाल सकते हैं ..

    ReplyDelete
  3. आदरणीय अंतर सोहेल जी
    गाजर का हलवा मजा आ गया ...आपको और आपकी मित्र मण्डली ..तथा पूरे परिवार को नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें ...स्वीकार करें

    ReplyDelete
  4. सुबह - सुबह ही मुंह में पानी आ गया. इसे देखकर के. लेकिन क्या हैं कि मीठा कुछ ज्यादा न हो इसलिए में नहीं खा सकता.

    आप इसका आनंद लीजिये. और हाँ गाना जरुर सुनियेगा:- शीला कि जवानी...............

    ReplyDelete
  5. ओ हो
    ये 2010 जाता जाता कम्बख्ती का काम कर गया। हलवा भी नहीं खाने दिया।
    आजा भाई 2011, गाजर का हलवा तो खाने को मिलेगा।

    ReplyDelete
  6. हमारे लिए भी बचा लेना ...स्वाद अभी से महसूस कर रहे हैं ! नए वर्ष पर परिवार को मंगल कामनाएं अमित !

    ReplyDelete
  7. मिठास पकने से पहले ही आ गयी इस पोस्ट के माध्यम से........सुंदर प्रस्तुति..
    नूतन वर्ष २०११ की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई स्वीकार करें ...

    ReplyDelete
  8. चूँकि अब धीरे-धीरे हम सब एक बिलकुल नए-नवेले साल २०११ में पदार्पण करने जा रहे है,
    अत: आपको और आपके परिवार को मेरी और मेरे परिवार की और से एक सुन्दर, सुखमय और समृद्ध नए साल की शुभकामनाये प्रेषित करता हूँ ! भगवान् करे आगामी साल सबके लिए अच्छे स्वास्थ्य, खुशी और शान्ति से परिपूर्ण हो !!

    नोट: धडाधड महाराज की बेरुखी की वजह से ब्लोगों पर नजर रखने हेतु आपके ब्लॉग को मै आपकी बिना इजाजत अपने अग्रीगेटर http://deshivani.feedcluster.com/से जोड़ रहा हूँ, अगर कोई ऐतराज हो तो कृपया बताने का कष्ट करे !

    ReplyDelete
  9. सब का मुँह मीठा करा दिया आपने इस नये साल के शुरू में। अब साल बर मिठास भरी रहे। यही आशा है।

    नये साल की बहुत बहुत शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  10. नया साल भी इस गज़र के हलवे की तरह मीठा मीठा रहे ...यम्म्मी ...

    ReplyDelete
  11. अब पक गया होगा जी
    आंच से उतार लीजिये, वर्ना जल जायेगा
    वैसे आप हमें तो खिलायेंगे नहीं (आपने लिखा है) तो हम क्यों बतायें कि इसमें और क्या-क्या डाल सकते हैं :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  12. दोनों बच्चों को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें

    ReplyDelete
  13. बच्चों को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनायें | मै तो इस माल को देखा कर अभी से होठो पर जीभ फिरा रहा हू |

    ReplyDelete
  14. आहा , आहा , भाटिया जी , ज़र्मन गाजरों से बने हलवे की खुशबू यहाँ तक आ रही है जी ।
    अभी लाते हैं खरीद कर--मशीन ।

    नव वर्ष की मीठी मीठी शुभकामनायें ।

    ReplyDelete

  15. गजरेला बनकर तैयार है जी।
    कितनी मेहनत करते हैं आप।
    अब खाना शुरु किया जाए।
    नहीं तो ठन्डा हो जाएगा।
    नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनाएं

    चुड़ैल से सामना-भुतहा रेस्ट हाउस और सन् 2010 की विदाई

    ReplyDelete
  16. मुह में पानी आ गया सर जी.
    नव वर्ष मंगलमय हो.

    ReplyDelete
  17. नववर्ष आपके लिए मंगलमय हो और आपके जीवन में सुख सम्रद्धि आये…एस.एम् .मासूम

    ReplyDelete
  18. कल बनाया, चखा, आज गरम कर के खाएँगे।

    मुबारक हो नया साल, आप को और सब को!!!
    नए साल में आप कामयाबी की नई मंजिलें पाएँ!!!

    ReplyDelete
  19. कहानी छोडि़ये हलवा कहां है

    नये वर्ष में इंटरनेट से इंट्रेस्टिंग प्रवेश
    पेट्रोल पानी मिट्टी का तेल बचायेगा
    जो आयेगा ग्‍यारह में आशीष भरपूर पायेगा
    यह इंटरनेट है प्‍यारे
    सदा ही यूं गुदगुदायेगा
    10 का 11
    11 का 111

    ReplyDelete
  20. नव वर्ष 2011 की हार्दिक शुभकामनायें!

    पल पल करके दिन बीता दिन दिन करके साल।
    नया साल लाए खुशी सबको करे निहाल॥

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।