28/02/11

ठग बंधन

मेरे प्यारे प्यारे साथियो, अभी देश के अगले चुनाव मे काफ़ी देर हे, लेकिन  उस चुनाव के लिये हमे अभी से तेयारी कर लेनी चाहिये, ओर हम चाहते हे कि हम भी सब मिल कर एक नयी पार्टी बनाये, जिस का नाम ऎसा हो कि लोग बाग नाम सुन कर खुद वा खुद आये, हमे वोट दे तो चार साल तक हमे रोय़े, ओर हम उन्हे पुरे चार सालो मे मन चाहे तरीके से लुटे, अब आप सोच रहे हे चार साल क्यो? अजी जेसे ही हम पांचवे साल मे दाखिल होंगे, जनता को सुंदर सुंदर सपने दिखायेगे, जिन वस्तुओ का भाव पिछले चार साल मे हम ने २००% बढा दिया हे, इस आखरी साल मे एक दम से २०% कम कर देगे( हमारे कोन सा जेब से जाना हे), ओर अगर जनता के दुर्भाग्या से दोबारा जीत गये तो, मेरे आप के ओर सभी चोर मवालियो के हाथो मे लड्डू ही लड्डू, ओर तो ओर हमारे सभी नाते रिश्ते दारो का भी जन्म सुधर जायेगा.

तो सज्जनो ओर सज्ज्नियो सोचो मत आज से ही हमारी बेईमान पार्टी के सद्स्य बने, हमारी इस पार्टी का नाम हे* ठगबंधन* ओर हमारा चुनाव चिन्ह होगा ठेंगा, यानि जो भी हमारे ठेंगे पर मोहर लगाये गा, वो दस बीस साल पश्चतायेगा.


आप सभी मेम्बर जी को ओर जो नये मेम्बर बनाना चाहे जल्द से जल्द हमारी इस महान पार्टी के सद्स्य बने, मेम्बर बने ओर लोगो को ठगे, सद्स्य फ़ीस हम ने थोडी कम रखी हे, तो इस का मतलब यह नही कि हमारी पार्टी भुखी नंगी हे, अजी फ़ीस तो दिखाने के लिये हे, बाकी काम तो हमारे अर्थशास्त्री जी समझा देगे, लेकिन डरे नही अगर एक रुपया डालोगे तो उस से १०० रुपये बना सकते हो.

हमारी पार्टी के झंडे का रंग विलकुल सफ़ेद होगा, ओर उस पर हमारा ठेंगा काले रंग मे होगा, जल्दी किजिये हमे हर राज्य मे हजारो सेवक( गुंडे बदमाश) चाहिये, हजारो सदस्य चाहिये(ठग) काम बहुत हे समय सिर्फ़ दो साल का, आज ही हमारी बेव साईट पर जा कर अपना अपना काम लिखवाये thaagbhandhan chor uchakk.ath.lot.pot
आप सब की सदस्यता के फ़ार्म हमे किसी भी तरह से ३२ मार्च से पहले पहले मिल जाने चाहिये, सब तरह की सिफ़ारिस भी चलेगी रिश्वत के संग,बदनाम, लुच्चे लफ़ंगो, कातिलो ओर दंगा फ़सादियो को इस पार्टी मे उच्च पद दिये जायेगे.

जोर से बोलो *ठगबंधन* मुरदा वाद

16 comments:

  1. यह ठगबन्धन ताऊ नीत गठबन्धन से बन्धन करले तो जीत पक्की है।:)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  2. हा-हा-हा-हा-हा मजा आ गया भाटिया साहब पढ़कर ! यही हो रहा है पिछले कुछ चुनाव से देश के भिन्न-बिण कोनो से दो-दो चार-चार चोर आकर पालियामेंट में गठबंधन बना देश को लूट रहे है !

    ReplyDelete
  3. हा हा हा ! अरे भाटिया जी , इस पार्टी का मेम्बर बनने के लिए क़ाबलियत कहाँ से लायें ।

    ReplyDelete
  4. अगर दूल्हे में दम हुआ तो बारात अपने आप बन जायेगी |

    ReplyDelete
  5. सच्चाई लिये तीक्षण व्यंग्य!!

    बधाई!! राज जी।

    ReplyDelete
  6. सही दिशा में जा रहे हैं... अच्छा है...हा हा

    ReplyDelete
  7. ताऊ आपकी पार्टी के अध्यक्ष पद के लिये अपने आपको प्रस्तुत करता है.

    रामराम.

    ReplyDelete
  8. जब सरकार बन जाये तो खबर कीजियेगा काहे की हम सीधे मंत्री बनने में विश्वास रखते है सिर्फ पार्टी का सदस्य नहीं |

    वास्तव में यह व्यंग्य नहीं है आज कल कई पार्टियों के सदस्य बनने का योग्यता यही है |

    ReplyDelete
  9. RAJ ji maine jila maha sachiv ke liye aavedan kar diya hai aap thodi sifarish kar dena.
    behtreen vayang

    ReplyDelete
  10. ई अंगुठा कहां लगाना एवं किसे दिखाना है स्पष्ट करें।

    और जहाँ बिना कुछ लगाए एक लाख सैंतिश करोड़ रुप्या अंदर कर लिया जाता हम तो उसी पार्टी में जाएगें। 1 लगा के 100 के चक्कर में क्यों पड़ें :)

    ReplyDelete
  11. sahi farmaya ,kursi ka nasha hota hi aesa jo hamse bahut kuchh karwa leta hai .sundar .

    ReplyDelete
  12. ..ठग गठबंधन के विचारक महोदय, इस में यही समस्या है बड़े-बड़े आ जाते हैं कुर्सी हथियाने। हमारे जैसे लोग तो उनका ही साथ देंगे न..! ताऊ को कुर्सी दो। अंतर सोहिल के मंतर पर तत्काल विचार करें नहीं तो कुर्सी गयी।
    ..प्यारा कटाक्ष।

    ReplyDelete
  13. अंतर सोहिल जी का समर्थन करते हैं जी हम भी.

    ReplyDelete
  14. हम तैयार हैं... शर्त यह है कि हमारी पार्टी का सारा काला धन स्विज़ बैंक में नहीं बल्कि स्टेट बैंक में रखा जाएगा और उसके पाई पाई का हिसाब कार्यकर्ताओं को दिया जाएगा :)

    ReplyDelete
  15. ताऊ के पीछे पीछे हम भी लाईन में हैं. अध्यक्ष न सही उपाध्यक्ष के लिए ही जुगाड बैठ जाये :)

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।