23/07/08

यह केसी शिकायत

यह गीत नही मेरे दिल की आवाज हे,ओर इसे समझने वाले बहुत कम हे


6 comments:

  1. बहुत बढिया गीत सुनवाया-

    बस यही अपराध मैं हर बार करता हूँ
    आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ।

    आभार।

    ReplyDelete
  2. bhut badhiya gaana. aadmi hun aadmi ko pyar karta hun. sahi hai isko samjhane vale bhut kam hai.

    ReplyDelete
  3. भाई भाटिया जी क्यों उस जमाने की याद दिलाण लाग रे हो ! भाई यो सनीमा हमने देख्या था तब हम नए नए जवान होण लाग रे थे !
    और कलकत्ता के राक्शी सिनेमा हाल में डेढ़ रु. की
    बालकनी की टिकट ५ रु. में ब्लेक में खरीदी थी !
    और उस बार हम पकडे गए थे और म्हारे बाबू (पिताजी) नै म्हारे और म्हारे दोस्त के हाड कूट दिए थे ! इस करके आज भी याद सै यो फ़िल्म तो !
    और शायद हिरोइन थी मम्मीजी ( मेरी नही
    करीना करीश्मा की ) !
    पहचान कौन ?

    ReplyDelete
  4. आदमी हूँ आदमी से प्यार करता हूँ।

    ---वाह, ऐसी शिकायत तो रोज हो..!!

    ReplyDelete
  5. मनोज जी से मुझे शिकायत है. आदमी से प्यार करने को वह अपराध कह रहे हैं. अगर यह बाकई अपराध है तब यह अपराध मैं हर पल करता हूँ.

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।