28/05/09

बूझो तो जाने?

नमस्कार, आप सभी को,
जब मै भारत आया तो यह पहेली मुझे सब्जी मण्डी मे मिली, मुझे बहुत सुंदर लगी, फ़िर मेने इन सब से पुछा चलो गे मेरे संग मेरे देश मै, बस चुप रहे कुछ नही बोले....
चलिये अब आप बताईये यह है कया ? कोई फ़ल, कोई फ़ूल, कोई सब्जी? या फ़िर कोई चित्र.....?
अब यह तो मै ने बता ही दिया कि यह शुद्ध भारतिया है, तो पहचानिये अपनी चीज को, यह चित्र मेने खुद खींचा है इस लिये गुगल बाबा के पास नही होगा, ओर इस का जबाब मै चित्र के रुप मै ही दुगां यानि पुरा चित्र दे कर, तो बूझे???

39 comments:

  1. केले का गुच्छा लग रहा है।

    ReplyDelete
  2. कटहल गवई भाषा में कटहर

    ReplyDelete
  3. कटहल ही है निश्चित तौर पर ।

    ReplyDelete
  4. ्मुझे तो केला ही लग रहा है..

    ReplyDelete
  5. dekho bhatiyaji,
    kahna mat kisi se par mere khyal me
    EK HAI TOH SEETAFAL AUR ANEK HAIN TOH AAM
    baki aap jano..HA HA HA HA

    ReplyDelete
  6. केले का गुच्छा होगा या फिर अननास!

    ReplyDelete
  7. मन्ने तो कटहल लागे है !

    ReplyDelete
  8. जबाब तो मिल गया है लेकिन कोन सा जबाब सही है यह कल बातऊगां तब तक आप लोग अपना अपना जबाब अदल बदल कर सकते है, है यह खाने की चीज, स्वादिष्ट, गुणो से भरपुर, पोष्टिक, ओर बहुत से विटामिनो के संग.
    तब तक राम राम जी की

    ReplyDelete
  9. अब आपसी में बदलना क्या??

    एक और दे देते हैं: कटहल!!

    ReplyDelete
  10. चलो, कटहल ही नक्की करो.

    ReplyDelete
  11. राज जी !
    कटहल ! १०००००००००.... (जितने भी गूग्ले मे होते हों ) %.

    कैसे भूल सकता हूं ? बचपन मे चाचियां काटने छीलने मे लगा देती थीं . फ़िर हाथ से दुद्धी गोन्द छुडाने मे बीत जते थे घन्टों .
    टिप्स !
    कटहल काटने के पहले हांथों मे तेल लगा लें .

    ReplyDelete
  12. चलते चलाते . कभी किसी को देर हो जाती थी किसी काम मे , तो ताना दिया जाता था " कहां थे ? कटहल छील रहे थे ? "

    राज जी थोडा सबर करिये . कटहल की ऐसी रसेदार करी और कोफ़्ते की रेसिपी दून्गा आपको कि अगर मान्साहारी होन्गे तो भी ,पिछला सब स्वाद भूल जायेन्गे . और जिन लोगों ने केला बताय है उनको इस गलती की सजा स्वरूप केले के कोफ़्ते की रेचिपी मिलेगी , ताकि खायेन और पछतायें !

    और अब ’ ताऊ ’ बहुमत सहित आपके कन्फ़र्म कर देने के बाद तो जो कुछ भी हो ये , हम लथैती कर लेन्गे . हम और आप समीर लाला थोडीये हैं कि एक लाटरी के दो तिकट खरीदें !

    राज भायी
    राम राम !

    ReplyDelete
  13. यह तो कटहल ही है ।

    ReplyDelete
  14. पहली नजर में कटहल.

    ReplyDelete
  15. फलों का राजा कटहल. एक किलो से 20 किलो तक के फल आम हैं.

    मुख्यतया दो प्रकार को होता है, एक जो बहुत नरम होता है और एक जिसमें फल कुछ कडक होता है. कडक वाली किस्म अधिक मीठी और स्वादिष्ठ होती है.

    कटहल केरल और उडीसा में बहुत पाया जाता है. तमिलनाडु में होता है, लेकिन कम. इन तीन प्रदेशों में इसे फल का दर्जा प्राप्त है तो मप्र और कई हिन्दीभाषी प्रदेशों में इसे सब्जी का दर्जा प्राप्त है.

    कई प्रकार के रोगों के लिये यह अच्छा माना जाता है.

    सस्नेह -- शास्त्री

    हिन्दी ही हिन्दुस्तान को एक सूत्र में पिरो सकती है
    http://www.Sarathi.info

    ReplyDelete
  16. आहा!!! आज दिल को करार आया है... कहाँ चले गए थे आप सब ठीक है न अब...??
    मन नहीं लगता था आपके बिना god को thanx की आप फिर से हम सबके बीच हो...
    मीत

    ReplyDelete
  17. हो न हो ये केले का का गुच्छा है... जो कहीं पकने के लिए रख छोडे हैं...
    मीत

    ReplyDelete
  18. नहीं यार केला नहीं है ये तो
    मीत

    ReplyDelete
  19. मिल गया यह सीताफल है...
    पर खाने में मुझे बिलकुल अच्छा नहीं लगता...
    सीताफल है...
    मीत

    ReplyDelete
  20. राज जी बहुत दिनों के बाद नजर आए। क्या बात? सब ठीक ठाक है ना।

    ReplyDelete
  21. बदल दें .. कटहल है !

    ReplyDelete
  22. इतने सारे कटहल विशेषज्ञों की बात की अवहेलना करने हिम्मत मुझमें तो है नहीं, इसलिए मैं भी यही कहती हूँ ये 'कटहल महाराज' ही हैं

    ReplyDelete
  23. सभी कटहल कह रहे है तो फिर मेरी क्या बिस्साद ? कि मै कटह्लल ना कहू? पर मै कुछ ओर सोच रहा था, है तो तह केला है पर इसे इलाइसी केला बोलेते है जो छोटे होते है एवम पाचनक्रिया के लिऐ उपयोगी होते है। बाकी तो भगवान मालिक है।

    ReplyDelete
  24. अरे भाईजी नया पता देख नयाग्राहक मत समझना यह तो मै हू आपका महावीर इस ब्लोग पर लोगो के दिमाग कि कसरत करने का विचार है। अभी कुछ समय है।

    हे प्रभु तेरापन्थ

    ReplyDelete
  25. कटहल-100% है आज मांसाहारि लोगो को खिला-खिला कर शाकाहरी बना दें

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।