20/11/09

अन्ताक्षरी २ गीतो भरी

कल की आन्ताक्षरी मै आप सभी ने बहुत साथ दिया, लेकिन उस मै पहला दिन होने के कारण बहुत सी गलतिया मेरे से हुयी, कुछ गलतियां आप से हुयी, लेकिन सब मिला कर बहुत अच्छा लगा, ऎसा लगा जेसे हम सब बचपन मै दो तीन ग्रुपो मै बेठे एक दुसरे को हराने की ओर अपने अपने ग्रुप को जीताने की सोच रहे है, ओर सभी ने बढ चढ कर हिस्सा लिया.
अब पहले गलतियो की बात करते है, मेने ने पहले कोई नियम ठीक से नही बताये, क्योकि जितने मुझे पता था वो मेने लिख दिये बाद मै मेने देखा तो काफ़ी बाते समझ मै आई, तो आज हम फ़िर से नयी आन्ताक्षरी शुरु करे, उस से पहले आप को यह बता दे कि कई बार एक ही समय मै दो तीन साथी टिपण्णी मै अपना गीत दे देते है, तो उस समय उसी गीत को माना जायेगा जो सब से पहले आया, बाकी लोगो को दोवारा से ओर नये शव्द से गीत ढुढना होगा, दुसरी बात कई बार कोई नया साथी बीच मै बिना समझे ही अपनी तरफ़ से कोई गीत लिखे ओर एक दो लोग उसे फ़लो कर दे तो भी सही अक्षर से दोवारा आंतक्षरी उसी स्थान से चलेगी जहा से गडबडी शुरु हुयी, ओर हर गलती पर आप लोग भी टिपण्णी दे कर उस गलती को सुधार सकते है.

हर आन्ताक्षरी मै पहली अन्ताक्षरी के गीत दोवारा आ सकते है, लेकिन जो अन्ताक्षरी चल रही है उस मै एक गीत सिर्फ़ एक बार ही चलेगा, ओर जिस के जबाब सही ओर सब से अन्त मै होगे, वोही विजेता होगा, बाकी बाते अगली पोस्ट मै, जेसे जेसे हम आगे बढते रहे गे हमे अपनी गलतियो का पता चलता रहेगा, बीच बीच मै आप लोग भी साबधान करते रहे, ओर साथी लोगो की गलतिया भी सुधारते रहे, सही जबाब देने के लिये जबाब को जल्द टिप करे.

मेने पहले लिखा था कि जिस के जबाब सब से ज्यादा होगे, लेकिन हमारी बीबी ने कहा कि यह गलत है, जिस के जबाब सब से अन्त मै आयेगा, ओर भारतीय समय के अनुसार रात एक बजे तक आयेगा वोही विजेता होगा, ओर उसे लम्बा इंतजार भी करना होगा, जेसे आप कोई गीत छोड देते है, ओर काफ़ी समय तक कोई उस गीत के आखरी अक्षर से आगे नही बढता तो ओर रात के एक बजे या उस से पहले लम्बे समय तक कोई नही आता तो आप विजेता बन जायेगे, ओर अगर रात तक अन्ताक्षरी चलती रही तो रात एक बजे कुछ समय के लिये अन्ताक्षरी को रोक कर ओर आखरी अक्षर को दुसरे दिन की शुरु आत से फ़िर शुरु किया जायेगा..

मै कभी कभी आप लोगो का साथ देने आता हुं, इस लिये मै विजेता कभी नही बन पाऊगां, हा अगर आप लोगो को ऎतराज हो तो मै आप सब के संग गीत के बोल भी नही लिखूगां, वो सिर्फ़ इस लिये लिखता हुं कि कई बार कोई अकेला पड जाता है, बस इस लिये अगर मेरा जबाब आन्तिम हुया तो मेरे से पहले वाला विजेता कहलयेगा
कल की विजेता तो अल्पना जी बन गई, एक दम आई ओर विजेता बन गई,वेसे आप सब ने बहुत बहुत साथ दिया, ओर मजा भी खुब आया
ओर आज की अन्ताक्षरी का अक्षर है..... ल....... तो चलिये आज इस अक्षर से शुरु करे..... साथ मै अपनी राय भी दे... क्या अन्ताक्षरी का कोई निश्चित समय रखा जाये, अगर हा तो कब से कब तक. आप की राय की भी इंतजार है
कल जिन जिन लोगो के साथ दिया सब का बहुत बहुत धन्यवाद

89 comments:

  1. लड़ना झगड़ना झगड़ के अकड़ना
    छोड़ो छोड़ो इन बातों को इन से होगा क्या
    छोटी छोटी बातों पे चिढ़ना बिगड़ना
    समझो समझो इन बातों से कुछ भी नहीं मिलता


    Movie: Duplicate
    Singer(s): Kumar Sanu

    ReplyDelete
  2. लोकतन्त्र की बलिवेदी पर,
    इन्दिरा ने बलिदान दिया।
    महायज्ञ की आहुति बनकर,
    अपना जीवन दान दिया।।

    ReplyDelete
  3. लंका निश्चर निकट निवासा इहाँ कहाँ सज्जन क वासा

    ReplyDelete
  4. तेरी दुनिया से होके मजबूर चला
    मैं बहुत दूर बहुत दूर बहुत दूर चला

    ReplyDelete
  5. ऑनलाइन अन्ताक्षरी रोचक है ...
    कोशिश करेंगे इसका हिस्सा बनने की ..!!

    ReplyDelete
  6. अल्‍पना वर्मा जी को बधाई .. पर आपके इस निर्णय से दूसरे देश में रहनेवालों को फायदा हो जाएगा .. क्‍यूंकि हम चाहकर भी उतना नहीं जग सकते .. इस तरह आपका ये निर्णय भी गलत है !!

    ReplyDelete
  7. लाख छुपाओ छुप न सकेगा राज हो कितना गहरा
    दिल की बात बता देता है असली नकली चेहरा ...!

    ReplyDelete
  8. यूँ शाम को ५-६ का वक्त मेरे ख्याल से ज्यादा उचित है !

    ReplyDelete
  9. ye antakshari ka idea bahut badhiya laga,magar raat ke 1 baje ka samay antim ho ye jara behut der ho gayi.kuch pehle ka rakha jaye,ya jaise dusre din shaam tak ka samay bhi diya jaa sakta hai.baki sab jaisa thik samjhe.

    ReplyDelete
  10. रात ने क्या क्या ख्वाब दिखाए ...

    ReplyDelete
  11. एक बटा दो
    दो बटे चार
    छोटी-छोटी बातों में बंट गया संसार

    ReplyDelete
  12. रात के हमसफर थक के घर को चले /झूमती आ रही वो सुबह प्यार की ....

    ReplyDelete
  13. कोई ना कोई चाहिये
    प्यार करने वाला

    ReplyDelete
  14. लाख छुपाओ छुप ना सकेगा...राज हो कितना गहरा /दिल की बात बता देता है असली नकली चेहरा

    ReplyDelete
  15. रंजना जी
    रिपिट नही चलेगा

    ReplyDelete
  16. ये गाना आदरणीय गोदियाल जी पहले गा चुके हैं

    ReplyDelete
  17. लाखों है यहाँ दिल वाले, और प्यार नहीं मिलता
    आँखों में किसी की वफ़ा का, इक़रार नहीं मिलता

    ReplyDelete
  18. आप सब की राय से ही चलेगे , वेसे आप लोगो यहां जब रात का एक बजता है तो हमारे यहां रात के ९ बजते है, ओर अब आप सब की राय से ही अगली अन्ताक्षरी चलेगी, मुझे आप सब की राय की जरुरत है, कोई ब्लागं मै मेरी मदद करना चाहे तो मै उसे इस ब्लांग का सदस्य बना लुगां चलिये अगला गीत "त" से

    ReplyDelete
  19. तुम मिले दिल खिले और जीने को क्या चाहिये
    ना हो तो उदास तेरे पास-पास मैं रहूंगा जिन्दगी भर
    इस जीवन का प्यार मैनें तुझी से पाया
    तू मिले दिल खिले और जीने को क्या चाहिये

    ReplyDelete
  20. सुबह 10:30 बजे (भारतीय समयानुसार) से शाम 5:30 तक अगर मैं आपकी कुछ सहायता कर सकता हूं तो बताईयेगा

    कोशिश करुंगा कि कुछ काम आपका मैं भी कर सकूं

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  21. ये कौन आया, रोशन हो गई महफ़िल किसके नाम से
    मेरे घर में जैसे सूरज निकल है शाम से
    ये कौन आया
    य* अक्षर से
    अन्तर सोहिल भाई आप को मै अभी इस ब्लांग का सदयस बना देता हुं
    आप का धन्यवाद

    ReplyDelete
  22. याद आ रही है .. तेरी याद आ रही है !!

    ReplyDelete
  23. हर चेहरा यहाँ चाँद तो हर ज़र्रा सितारा
    ये वादी-ए-कश्मीर है
    फ़िर से ह* अक्षर

    ReplyDelete
  24. हमने तुमको देखा
    तुमने हमको देखा, कैसे
    हम-तुम सनम
    सातों जनम
    मिलते रहें हो जैसे

    "स" से बताईये

    ReplyDelete
  25. आदरणीय भाटीया जी धन्यवाद
    मगर यह तो बताईये कि मुझे क्या करना हो्गा??????

    ReplyDelete
  26. सारे जहां से अच्‍छा हिंदुस्‍तां हमारा .. हम बुलबुले हैं इसकी ये गुलसितां हमारा !!

    ReplyDelete
  27. रंगीला रे, तेरे रँग में
    यूँ रँगा है मेरा मन
    छलिया रे, न बुझे है
    किसी जल से यह जलन

    न अक्शर

    ReplyDelete
  28. अजी आप को मेल मै बता दुंगा,

    ReplyDelete
  29. ना-ना करते प्यार तुम्हीं से कर बैठे
    करना था इन्कार मगर इकरार तुम्हीं से कर बैठे

    "ठ" ले लो जी

    राज जी आपको भी इंतजार था ना "ठ" का :)

    ReplyDelete
  30. ठंडी में पसीना चले न भूख न प्यास लगे
    यार यही प्यार तो नहीं
    daddyसे पूछूंगा
    ग*

    ReplyDelete
  31. गाए जा गीत मिलन के तू अपने लगन के सजन घर जाना है !!

    ReplyDelete
  32. हंसते-हंसते कट जायें रस्ते
    जिंदगी यूं ही चलती रहे

    ReplyDelete
  33. हमें तुम से प्यार कितना, ये हम नहीं जानते
    मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना
    न*

    ReplyDelete
  34. नजर के सामने जिगर के पास कोई रहता है
    वो हो तुम

    ReplyDelete
  35. हाल कैसा है जनाब का .. क्‍या ख्‍याल है आपका !!

    ReplyDelete
  36. ओके म से देना था
    मां मुझे अपनी आंचल में छुपा ले गले से लगा ले कि और मेरा कोई नहीं !!

    ReplyDelete
  37. हमें तुम से प्यार कितना, ये हम नहीं जानते
    मगर जी नहीं सकते तुम्हारे बिना

    ReplyDelete
  38. न जाने क्यों होता है यह ज़िन्दगी के साथ ..अचानक यह मन किस के जाने के बाद करे फिर उसकी याद छोटी छोटी सी बात

    ReplyDelete
  39. तू इस तरह से मेरी ज़िंदगी में शामिल है
    जहाँ भी जाऊँ ये लगता है, तेरी महफ़िल है

    ReplyDelete
  40. कृपया देखें .. यह प्रयास आपको कैसा लगा ....

    http://khatrisamaj.blogspot.com

    ReplyDelete
  41. हैं सबसे मधुर वो गीत जिन्हें, हम दर्द के सुर में गाते हैं
    जब हद से गुज़र जाती है खुशी, आँसू भी छलकते आते हैं

    ReplyDelete
  42. है अगर दुश्‍मन जमाना हम किसी से कम नहीं कम नहीं !!

    ReplyDelete
  43. हाल कैसा है जनाब का?
    क्या खयाल है आप का?
    तुम तो मचल गये, हो हो हो
    यूँही फ़िसल गये, हा हा हा

    ReplyDelete
  44. हाल क्या है दिलों का ना पूछो सनम
    आपका मुस्कुराना गजब हो गया

    ReplyDelete
  45. ये मेरा दीवानापन है या मुहब्‍बत का सुरूर !!

    ReplyDelete
  46. रफ्ता-रफ्ता देखो आंख मेरी लडी है
    आंख जिससे लडी है वो सामने ही खडी है

    ReplyDelete
  47. आंख जिससे लडी है वो तेरी मां से भी बडी है :)

    just joking

    ReplyDelete
  48. हवाओं पे लिख दो हवाओं के नाम
    हम अनजान परदेसियों का सलाम

    ReplyDelete
  49. मानो तो मैं गंगा मां हूं ना मानों तो बहता पानी !!

    ReplyDelete
  50. न जाने दिल विच की आया
    एक प्रेम प्याला पी आया
    मैं जी आया, मैं जी आया

    ReplyDelete
  51. ये दूनिया ये महफिल मेरे काम की नहीं .. मेरे काम की नहीं !!

    ReplyDelete
  52. हौले-हौले चलो मेरे बालमा
    हम भी पीछे हैं तुम्हारे

    ReplyDelete
  53. रंग-बिरंगी राखी लेके आई बहना
    ओ राखी बँधवा ले मेरे वीर

    ReplyDelete
  54. भाटिया जी!
    क्या इस बोस्ट में फिल्मी गीत ही लिखने हैं?
    उनमें तो मैं माहिर नही हूँ!

    ReplyDelete
  55. शास्त्री जी आप फ़िल्मी भजन भी लिख सकते है, नये पुराने सभी, अजी अब हम सब मिल कर आप को भी माहिर कर देगे

    ReplyDelete
  56. रोते-रोते हंसना सीखो
    हंसते-हंसते रोना
    जितनी चाबी भरी राम ने
    उतना चले खिलौना

    ReplyDelete
  57. अब रेलगाडी पकडनी है जी, चलता हूं, घर भी जाना है
    सुबह 10:30 पर मुलाकात होगी
    आने-जाने वालों को सभी को प्रणाम

    ReplyDelete
  58. न किसी की आँख का नूर हूँ
    न किसी के दिल का क़रार हूँ
    जो किसी के काम न आ सका
    मैं वो एक मुश्त-ए-गुबार हूँ

    ReplyDelete
  59. होली के दिन दिल खिल जाते हैं .. रंगों में रंग मिल जाते हैं !!

    ReplyDelete
  60. हम ने जफ़ा न सीखी, उनको वफ़ा न आई
    पत्थर से दिल लगाया, और दिल ने चोट खाई

    ReplyDelete
  61. इन्साफ़ की डगर पे, बच्चों दिखाओ चल के
    ये देश है तुम्हारा, नेता तुम्हीं हो कल के

    दुनिया के रंज सहना और कुछ न मुँह से कहना
    सच्चाइयों के बल पे आगे को बढ़ते रहना
    रख दोगे एक दिन तुम संसार को बदल के

    ReplyDelete
  62. कहता है दिल तुम हो मेरे लिये, मेरे लिये, जी मेरे लिये
    हाँ दिल्रुबा हम हैं तेरे लिये, तेरे लिये, जी तेरे लिये

    ReplyDelete
  63. फ़िल्म मेम साहिब १९५६ मदन मोहन, तलत आशा मीनाकुमारी ओर शम्मी कपूर

    ReplyDelete
  64. ये प्यार की राहें है
    इन ज़ुल्फ़ों के साये में
    कुछ देर ठहर जायें

    ReplyDelete
  65. ये रातें, ये मौसम, नदी का किनारा, ये चंचल हवा
    कहा दो दिलों ने, की होंगे न मिल कर, कभी हम जुदा

    ReplyDelete
  66. देख तेरे संसार की हालत क्‍या हो गयी भगवान!
    कितना बदल गया इंसान कितना बदल गया इंसान !!

    ReplyDelete
  67. न ये चाँद होगा न तारे रहेंगे
    मगर हम हमेशा तुम्हारे रहेंगे

    ReplyDelete
  68. गीत गाता चल ओ साथी गुनगुनाता चल !!

    ReplyDelete
  69. लागा गोरी गुजरिया से नेहा हमार
    होइ गवा सारा चौपट मोरा रोजगार

    ReplyDelete
  70. रंगमहल के दस दरवाज़े -२
    ना जाने कौन सी खिड़की खुली थी
    सय्याँ निकस गये मैं ना लड़ी थी -२
    सर को झुकाये मैं तो चुपके खड़ी थी

    ReplyDelete
  71. थोडा रूक जाएगी तो तेरा क्‍या जाएगा !!

    ReplyDelete
  72. थोडा सा ठहरो, करती हुं तुम से वादा, पुरा होगा तुम्हारा इरादा, मै हुं सारी की सारी तुम्हारी काहेको जल्दी करो....

    ReplyDelete
  73. गुन गुना रहे हैं भौंरे खिल रही है कली कली !!

    ReplyDelete
  74. लागा, चुनरी में दाग, छुपाऊँ कैसे
    लागा, चुनरी में दाग
    चुनरी में दाग, छुपाऊँ कैसे, घर जाऊँ कैसे

    ReplyDelete
  75. सुन सुन दीदी तेरे लिए एक लडका आया है !!

    ReplyDelete
  76. होके मजबूर मुझे उसने भुलाया होगा
    ज़हर चुपके से दवा जानके खाया होगा

    ReplyDelete
  77. तेरा गांव बडा प्‍यारा मै तो गया मारा आके यहां रे आके यहां रे !!

    ReplyDelete
  78. रंग और नूर की बारात किसे पेश करूँ
    ये मुरादों की हंसीं रात किसे पेश करूँ, किसे पेश करूँ

    ReplyDelete
  79. राही मनवा दुख की चिंता क्‍यूं सताती है .. दुख तो अपना साथी है !!

    ReplyDelete
  80. स रे ग म तुम भी गाओ
    स रे ग म
    ये तो हुए सुर अब इन पे बिठाएं बोल तेरे नैना
    तेरे नैना
    तुम ऐसा करो ये गाओ मेरे नैना
    मेरे नैना
    हाँ तेरे नैना मेरे नैनों से मीठी मीठी बातें करते हैं
    जब नैना बातें करते तब दिल मुलाकातें करते हैं

    Movie: Bhrashtaachaar
    Singer(s): Anuradha Paudwal, Suresh Wadkar

    ReplyDelete
  81. हम भी अगर बच्चे होते -२
    नाम हमारा होता गबलू बबलू
    खाने को मिलते लड्डू
    और दुनिया कहती happy birthday to you
    happy birthday to you

    ReplyDelete
  82. ये चांद सा रोशन चेहरा, ज़ुल्फ़ों का रंग सुनहरा
    ये झील सी नीली आँखें, कोई राज़ है इनमें गहरा

    ReplyDelete
  83. आज की आंतक्षरी यही समाप्त हुयी ओर कल नयी आंतक्षरी भारतिय समय अनुसार सुबह १० बजे शुरु होगी. आप सभी का धन्यवाद

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।