13/02/10

मुझे तो मजबूरी में करना पडता है

एक कहावत है -
"अपने बच्चे और पडोसी की घरवाली सबको अच्छे लगते हैं"
एक बार फत्तू चौधरी घर आये तो देखा की उनका मित्र रलदू उनकी पत्नी का आलिंगन किये हुए है। फत्तू को देखते ही दोनों घबरा गये और सकपका कर अलग-अलग खडे हो गये। 
फत्तू चौधरी - अरे रलदू, तू भी
रलदू - नहीं नहीं॥…………
फत्तू चौधरी - अरे मुझे तो यह करना पडता है, क्योंकि यह मेरी पत्नी है, मगर तू भी इसे आलिंगन कर रहा है, तेरी क्या मजबूरी है???

26 comments:

  1. सचमुच मजबूरी जो न कराए :)

    ReplyDelete
  2. सही बात है! मजबूरी में तो हम किसी को करना पड़ता है पर जो बिना मजबूरी के करे वही महान है!

    ReplyDelete
  3. यह वेलेंटाइन का प्रभाव लगता है---

    आन कs लगे सोनचिरैया आपन लगे डाइन.

    ReplyDelete
  4. बेचारा,, जाने क्या मजबूरी होगी.

    ReplyDelete
  5. मौसम का ही असर दिख रहा है।हा हा हा हा।

    ReplyDelete
  6. हा हा हा !सचमुच खतरा है यहाँ तो।
    यदि पड़ोसन अच्छी लगे तो बच्चे भी ---? :)

    ReplyDelete
  7. दुसरे की थाली में घी ज्यादा ही दिखता है|

    ReplyDelete
  8. सचमुच मजबूरी जो न कराए :)

    ReplyDelete
  9. वंसती प्रभाव है जी.

    ReplyDelete
  10. आजकल मित्र-धर्म का पालन
    ऐसे ही किया जाता है जी!

    ReplyDelete
  11. शाश्त्री जी की बात में दम है..

    ReplyDelete
  12. अरे बाप रे इतना सच,इतना सच तो फ़त्तू ही बोल सकता है

    ReplyDelete
  13. मुझे शिकायत है...
    कि इस पोस्ट को इस शिकायत वाले ब्लोग मे क्यों डाला? क्या यह भी कोई शिकायत है?

    ReplyDelete
  14. कितनी अच्छी मजबूरी है ... मज़ा आ गया भाटिया जी ...

    ReplyDelete
  15. मुझे आपका ब्लॉग बहुत अच्छा लगा! बहुत बढ़िया लिखा है उम्दा रचना

    ReplyDelete
  16. बहुत अच्छा ।

    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानियां, नाटक मुफ्त डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर से डाउनलोड करें । इसका पता है:

    http://Kitabghar.tk

    ReplyDelete
  17. सर ये फ़त्तू चौधरी जी के घर पता मिल सकता है क्या ?
    हा हा हा

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।