06/05/10

छाज तो बोले, छलनी भी क्या बोले, जिसमें सत्तर छेद

आज मैं अन्तर सोहिल शिकायत लेकर आया हूं, श्री नवीन जोशी जी के लिये। 

राज भाटिया जी तकरीबन 30 वर्षों से विदेश में रह रहे हैं। उनको जर्मनी की नागरिकता मिली हुई है। फिर भी हिन्दी भाषा के प्रति उनका प्रेम और लगाव देखकर मन उनके लिये श्रद्धा से झुक जाता है। सच कहूं तो हिन्दी ब्लागरों को गर्व होना चाहिये। वरना आज भारत में रहने वाले ही काफी लोग हिन्दी में बात करना अपनी तौहीन समझते हैं। अपने बारे में ईमानदारी से कहूं तो शायद मैं भी केवल हिन्दी में ही ना लिख रहा होता, अगर मुझे हिन्दी के अलावा अंग्रेजी या दूसरी किसी भाषा का ज्ञान होता।

राज जी की पिछली पोस्ट पर आयी इन ब्लागर की टिप्पणी देखिये :

SnapShotआपने हिन्दी की ऐसी की तैसी कर दी है. क्या ब्लॉग भी इसी काम के रह गए हैं कि वहां पेशाब और शौचालय जाने जैसी बातें साझा की जाएँ ? कम से कम 'पूरा' को 'पुरा' लिखने जैसी गलतियाँ तो न करैं. गलत कहा तो माफ़ कीजियेगा... हिंदी की यूँ बुरी गत देख चुप न रह सका..

यह टिप्पणी श्री नवीन जोशी जी की है। इनकी टिप्पणी को पढकर मैं इनके ब्लाग मन कही पर गया। पहले ही पृष्ठ पर सबसे ऊपर वाली पोस्ट पहाड की बेटी ने छुवा आसमान पर ही हिन्दी की कुछ गलतियां दिखाई दी।  मेरे विचार से "छुवा" नहीं "छुआ" होना चाहिए था। आप भी देख लीजिये।

मैं तो अल्पशिक्षित हूं, ज्यादा ज्ञान नही है। हो सकता है इनकी हिन्दी सही हो और मैं गलत हूं। इसलिये आप सबसे इस बारे में सलाह और राय देने की आशा रखता हूं कि कु्छ ऐसी यादें जो बरबस ही मुस्कुराहटें ला देती है में क्या गलत लिखा है। ममगाई और ममगई यह शब्द मैनें पहली बार पढा है, मगर दोनों बार अलग-अलग तरीके से लिखा गया है, इसलिये इसे हाईलाईट किया है।

एक बात और मैं यह भी प्रबुद्ध ब्लागरों खासतौर से श्री नवीन जोशी जी से जानना चाहता हूं कि ब्लाग किसलिये है।

मैनें उनकी टिप्पणी पर टिप्पा भी किया था, वह भी आपने पढा होगा।

18 comments:

  1. Bahut khoob, kuch log doosron kee galtiyaan to khoob nikalte hai lekin apne girevaan mein bnahee jhaankte .

    ReplyDelete
  2. इससे पहले भी राज जी की एक पोस्ट को डिलीट करवा दिया गया था। वह पोस्ट मैंनें नहीं पढी थी, मगर मुझे नहीं लगता कि राज जी के द्वारा कोई आपत्तिजनक पोस्ट प्रकाशित की गई होगी।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  3. अरे दूसरों का दोष देख रहे हैं खुद अपना नहीं ? भाटिया जी ने उत्तरोत्तर अपनी हिन्दी में सुधार किया है -मुझे आश्चर्यमिश्रित प्रसन्नता होती है !

    ReplyDelete
  4. अंतर सोहिल जी आपके इस पोस्ट को पढ़कर मैं इतना ही कहना चाहूँगा की ,किसी की कमियों को अगर सुधारने की दिशा में सार्थक प्रयास के तहत उजागर किया जाय,तब तो ठीक है ,लेकिन अगर दुर्भावना से ग्रसित होकर ,अगर किसी की कमियों को सिर्फ किसी की निंदा या किसी के अपमान के लिए उजागर किया जाय, तो मेरे समझ से ऐसा करने वाला सबसे मुर्ख व्यक्ति ही कहलायेगा / रही बात राज जी के पोस्ट को हटाने की तो मैं, इस विषय पर राज जी से ही आग्रह करूंगा की वह ही आपको बताएं की किस भावना और सार्थकता के लिए उन्होंने अपनी पोस्ट बदल दी थी / रही गलतियों की बात तो इन्सान गलतियों का पुतला है ,लेकिन अपनी गलती सहर्ष स्वीकार करने वाला ही ,असल इन्सान बन पाता है /

    ReplyDelete
  5. हम आपके साथ हैं ।

    ReplyDelete
  6. हम सभी को अपनी मातृभाषा लेखन में निरंतर सुधार करते रहना चाहिए।

    ReplyDelete
  7. @honesty project democracy
    आदरणीय
    कृप्या श्री नवीन जोशी जी की टिप्पणी को फिर से पढें, उनके शब्दों की कठोरता ने मुझे यह लिखने पर मजबूर किया है। मेरे मन में किसी के प्रति कोई दुर्भावना नहीं है जी।
    अगर वे किसी की भी गलती को नरम शब्दों में बतलाते हैं तो उनका स्वागत है। मुझे तो अच्छा लगेगा अगर मैं उनसे कुछ सीख सकूं।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  8. कल अन्तर सोहिल जी ने मेल कर के इस पोस्ट के बारे पुछा था, तो मेने कहां कि इसे प्रकाशित कर दो कोई बात नही, क्योकि जितना यह ब्लांग मेरा है उतना ही अन्तर सोहिल जी का भी है , इस कारण मैने उन्हे पहले भी कहा कि जो भी चाहो लिखो ओर प्रकाशित करो मुझ से पुछने की जरुरत नही.
    श्री नवीन जोशी जी की टिपण्णी पढ कर मुझे भी थोडा अजीब लगा, अगर यही बात मुझे वो साधारण ढंग से कहते तो मुझे अच्छा लगता, लेकिन इस के वाजूद भी मैने उन्हे कुछ नही कहा, ओर ना ही उन की टिपण्णी को ही हटाया, बस यही मै आप न्सब से कहना चाहता हुं जब भी कोई ऎसी टिपण्णी आये उसे हटाये मत, फ़िर मुझे बहुत से मित्रो के मेल आये जो मुझे बहुत चाहते है, मैने सब को कहा कोई बात नही, अन्तर जी से शायद थोडा ज्यादा प्यार है ओर यह मेरी बहुत इज्जत करते है, इस लिये इन्हे बहुत बुरा लगा इस तरह की टिपण्णी, ओर इन्होने यह लेख लिख दिया, ओर मै भी इन के प्यार के आगे झुक गया गया, वेसे इन्होने इस पोस्ट मै कुछ भी गलत नही लिखा.
    दुसरी बात मैने एक पोस्ट हटाई थी,honesty project democracy जी के एतराज के कारण, वैसे तो उस पोस्टर मै ओर उस पोस्ट मै ऎसा कुछ भी नही था, ओर ना ही अशीलता थी,ओर मै ऎसी पोस्टे सिर्फ़ मनोरंजन के लिये ही डालता हुं, ओर मैने उसे हटा लिया, क्योकि मेरी एक पोस्ट से किसी अन्जाने को दुख पहुचे, जिसे मै जानता तक नही, तो उस का क्या लाभ, ओर जब मैने उस पोस्ट को हटाया तो भी बहुत से लोगो ने कहा कि आप को वो पोस्ट नही हटानी चाहिये थी, तो मैने बस इअतना ही कहा कि मुझे किसी भी बहस मै नही पडना, तमाशा नही बनाना, फ़िर honesty project democracy का मेल भी आया तो मैने इन्हे भी कहा कि मुझे अच्छा लगा कि आप ने मेरी गलत बात पर मुझे टोका, वरना ब्लांग जगत मै रोजाना ही इतने झगडे चल रहे है, उन्ही से मन खराब होता है, तो चलिये जिन्हे संदेश देना था उन्हे मिल गया...
    वेसे मेरी पहली पहली पोस्टे देखो तो एक ही लाईन मै २० २० गलतियां होती थी, तो मैने तो हिन्दी कुछ ही समय पढी है, फ़िर बीच मै ३० सालो का फ़ासला... लेकिन अब सुधार हो रहा है

    ReplyDelete
  9. इतने ख़फा न हो भाई । हिंदी में त्रुटियाँ कंप्यूटर और ट्रांसलिट्रेशन की वज़ह से भी होती हैं ।
    फिर बंदा कोशिश तो कर ही रहा है न हिंदी में लिखने की ।
    आज मेरे लेख पर भी किसी ने ऐसा ही तीर छोड़ा है।
    गलत बात है।

    ReplyDelete
  10. कैसे कैसे लोग भरे हैं बाबा !
    देख कर हैरानी होती है.........
    दूसरे की पतलून का छेद दिखाई देता है
    ख़ुद की पूरी फटी पड़ी है मगर देखने की फुर्सत नहीं..........

    ReplyDelete
  11. अरे दूसरों का दोष देख रहे हैं खुद अपना नहीं ?

    ReplyDelete
  12. यहाँ कुछ लोग बिना मतलब में इंटेलिजेंट बनते हैं.... कमियाँ वही निकालता है.... जिसमें एहसास-ऐ-कमतरी होता है... यहाँ तो मिस्टेक होती ही है... क्यूंकि ... Transliteration की प्रॉब्लम है....

    ReplyDelete
  13. राज जी,
    अलबेला खत्री जी ने सौ बातों की एक बात कह दी है...ये पढ़ कर ही शायद उन्हें अक्ल आ जाए...

    जय हिंद...

    ReplyDelete
  14. हमारा ब्लॉग, हमारी पोस्ट, हमारी भाषा... भाई किसी को क्या पड़ी है.. गल्ती है मानेगे सुधारेगें आपको धन्यवाद देगें.. पर तहजीव से तो पेश आओ.. देखो तो सही किससे बात कर रहे हो...

    ReplyDelete
  15. reader may i draw your attention to archives of this blog of april / may 2008 where a naari blog was made a soft target and mr balvinder who pointed mistakes was appreciated by mr raj bhatia for what antar is critising naveen

    can we have same rules for everyone please !!!!!!!!!!

    ReplyDelete
  16. अमित जी,
    आपने जो भी किया है, सही किया है। अब कुछ लोग इस बात को अखाडा बनाने पर लगे हैं, तो इनसे मत उलझिये। आपको जो कुछ लिखना था, पोस्ट में लिख दिया है, दूसरे टिप्पणी में क्या लिख रहे हैं, आपके साथ हैं या खिलाफ हैं; ये मत सोचिये। काम खत्म।
    और हां, उनसे कह दीजिये कि नीरज जाट की किसी भी पोस्ट में वर्तनी सम्बन्धित गलती ढूंढ कर दिखाये। सबको पता है कि कौन कितने पानी में है।

    ReplyDelete
  17. @प्रिय मित्र नीरज जाट जी
    आपकी बात से शत-प्रतिशत सहमति है। यह कोई विवाद नहीं है। मैं तो आप सबसे यह पूछना चाहता था कि क्या ब्लागिंग की कोई नियमावली भी है या होनी चाहिये, जिससे हमें पता लग सके कि क्या लिखा जाये और क्या नहीं।

    @ बंधु श्री मिथिलेश दुबे जी
    यहां साथ और विरोध की कोई बात ही नही है जी। श्री नवीन जोशी जी या किसी से भी मेरा कोई विरोध हो ही नहीं सकता हैं। मैं खुद इस लायक नही हूं।

    ReplyDelete
  18. क्या ब्लागिंग की कोई नियमावली भी है या होनी चाहिये, जिससे हमें पता लग सके कि क्या लिखा जाये और क्या नहीं।

    blog ki sabsey baddi niyamavali haen soch mae visangati

    dusro par prahaar karo aur apane par aaye to dikhyao ki ham kitnae susanskrit haen

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।