11/11/11

कहां है सांपला?

कवि सम्मेलन और ब्लॉगर्स मित्र मिलन

शनिवार, 24 दिसम्बर 2011 को सांपला में हास्य कवि सम्मेलन और ब्लॉगर मिलन के आयोजन की तैयारियां शुरु हो गई हैं। ब्लॉगर्स मिलन सुबह 11:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक और कवि सम्मेलन शाम 7:00 बजे से आरम्भ होगा। आप सबका स्वागत है। सांपला एक छोटा सा टाऊन है, जो दिल्ली - हिसार रोड  (NH-10) पर बहादुरगढ और रोहतक के बीच में बसा है। सांपला आने के लिये आपको दिल्ली करनाल बाईपास या पंजाबी बाग से पीरागढी चौक-नांगलोई-बहादुरगढ के रास्ते आना है। पूरा रास्ता बहुत बढिया बना हुआ है। पंजाबी बाग से सांपला की दूरी 40 किमी और रोहतक से 23 किमी है। रेलगाडी से आने वालों के लिये दिल्ली से शकूरबस्ती, नांगलोई, बहादुरगढ से आगे सांपला स्टेशन है। दिल्ली से सडक या रेल दोनों माध्यम द्वारा अधिकतम 1 घंटे का, 45 किमी का सफर है। 
ब्लॉगर्स मित्र मिलन में आने वाले चिट्ठाकारों की सूचि और सभी सूचनायें आपको यहां मिलती रहेंगी, जुडे रहियेगा। अपने उपस्थित होने की और किसी भी जानकारी के लिये आप मुझे 9871287912 पर फोन कर सकते हैं। श्री राज भाटिया जी, श्री अलबेला खत्री जी, श्री यौगेन्द्र मौदगिल जी, श्री संगीता पुरी जी, डॉO टी एस दराल जी, श्री नीरज जाट जी, श्री जाट देवता जी, श्री संजय भास्कर जी, श्री के डी सहगल जी के आने की  सूचना मिल चुकी है।

28 comments:

  1. भाई मैं तो अपनी सदाबहार नीली परी ही आऊँगा,

    ReplyDelete
  2. हास्य कवि सम्मलेन में कविता सुनोगे या सुनवाओगे ? :)

    ReplyDelete
  3. आदरणीय डॉO टी एस दराल जी

    सुनेंगें भी और सुनवायेंगें भी
    श्री अलबेला जी, श्री यौगेन्द्र जी और आपसे सुनेंगे और सांपला निवासियों को सुनवायेंगे :)

    प्रणाम

    ReplyDelete
  4. जाट देवता (संदीप पवाँर) भाई यह नीली परी क्या हे ? हम ने लाल परी तो सुन रखी हे...

    ReplyDelete
  5. शुभकामनायें!

    ReplyDelete
  6. अरे वाह बहुत खूब्………बधाइयाँ और शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  7. अनंत शुभकामनाएँ ।

    ReplyDelete
  8. मेरी सूचना भी स्‍वीकार लीजिए।

    ReplyDelete
  9. बहुत बहुत शुभकामनाएँ.
    घुघूतीबासूती

    ReplyDelete
  10. भाटिया जी, नीली परी है महाराज की मोटरसाइकिल जिसपर चढकर महाराज लेह-लद्दाख और पता नहीं कहां कहां तक घूमते फिरते हैं। रंग नीला है ना इसलिये नाम नीली परी रख रखा है।

    ReplyDelete
  11. बहुत बहुत शुभकामनाएँ.
    मैं भी आ रहा हूं हज़ूर

    ReplyDelete
  12. एक सीट रखना कवि भी हूं

    ReplyDelete
  13. अग्रिम शुभकामनाएं

    ReplyDelete
  14. वाह… हार्दिक शुभकामनाएं… ऐसे मिलन होते रहें…
    प्रायोजक कौन हैं?

    ReplyDelete
  15. शुभकामाएं !देखिए ऊँट किस करवट बैठाता है .वैसे उस वक्त में मुंबई में होवूंगा .दिल्ली आना होता रहता है .सांपला जाना पहचाना है .हरयाना(हरियाणा ) मेरी कर्म भूमि रहा है .

    ReplyDelete
  16. सोहिल भाई!
    हम कवि तो हैं नहीं. पर इतने सारे लोगों से एक साथ मिलने का लालच तो रहेगा ही। कोशिश करता हूँ।

    ReplyDelete
  17. आदरणीय सुरेश चिपलूनकर जी
    कवि सम्मेलन के प्रायोजक हैं सांपला सांस्कृतिक मंच और ब्लॉगर मिलन मैनें और श्री राजभाटिया जी ने रखा है।
    राजभाटिया जी वर्ष में एकबार भारत आते हैं तो इस बहाने कुछ ब्लॉगर रु-ब-रु हो जायेंगें।
    सांपला सांस्कृतिक मंच की नींव मैनें पिछले वर्ष रखी थी। मेरे 10-12 स्थानीय मित्र इसके सदस्य हैं और आपस में हम मिल बांट कर खर्च उठा लेते हैं। बाहर से किसी से दान-चंदा वगैरा नहीं लेते हैं।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  18. एक बात और ये है कि कवि सम्मेलन के लिये प्रोफेशनल कवि मंडली आमंत्रित की गई है।
    और ब्लॉगर अपनी इच्छा से भी कविता पाठ कर सकते हैं, मंच संचालक को नाम दे दि्ये जायेंगे।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  19. श्री दिनेश जी
    आपके दर्शन पिछली दो बार में भी नहीं हो पाये थे। आशा है इस बार दिल नहीं तोडेंगें।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  20. भाटिया जी,... नीरज भाई ने नीली परी के बारे में बता ही दिया है, अब साँपला में आकर आपको भी इस पर बैठाकर घुमाना है, नीरज जाट जी तो 1100 किमी का लम्बा सफ़र कर ही चुके है, वीरु जी, संजय जी भी इस पर घूम चुके है। अब आपकी बारी है। रही बात लाल परी की वो अपने से कई कोस दूर रहती है? उसे अन्तर सोहिल जी के लिये छोड दिया है।

    ReplyDelete
  21. ढेरों शुभकामनाएं सर!...पिछली बार की तरह इस बार भी ब्लोगर संमेलन सफलता ही अर्जित करेगा...लेकिन इस बार मै २४ नवंबर के रोज अहमदाबाद में हूँ इस वजह से नहीं आ पाउंगी!...फेब्रुआरी में जर्मनी आ रही हूँ...तब आपसे अवश्य मुलाक़ात होगी!... फिर एक बार हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  22. ढेरों शुभकामनाएं सर!...पिछली बार की तरह इस बार भी ब्लोगर संमेलन सफलता ही अर्जित करेगा...लेकिन इस बार मै २४ नवंबर के रोज अहमदाबाद में हूँ इस वजह से नहीं आ पाउंगी!...फेब्रुआरी में जर्मनी आ रही हूँ...तब आपसे अवश्य मुलाक़ात होगी!... फिर एक बार हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  23. आपके सौजन्य से बहुत लोगों से भेट हो जाएगी 24 दिसम्बर को!

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।