17/11/11

ब्लॉगर मीट का प्रायोजक कौन है?

हम ब्लॉगर्स जिन्हें पढते हैं और जो हमारा ब्लॉग पढकर टिप्पणियां करते हैं, उनसे आमने-सामने मिलने की इच्छा कई बार होती रहती है। इसीलिये 24दिसम्बर 2011 को सुबह 11:00 बजे से शाम 4:00 बजे तक ब्लॉगर्स मित्र मिलन का आयोजन सांपला में किया जा रहा है।  कोई गंभीर विषय नहीं, कोई तर्क-बहसबाजी नहीं, बस मीठी बातें होंगीं, शुद्ध प्यार मोहब्बत से मिलना होगा। आप खुद आकर किसी भी विषय पर चर्चा कर सकते हैं और अन्य ब्लॉगर्स के विचार जान सकते हैं। इसके बाद 4:00 से 7:00 बजे तक आराम किया जायेगा (अजी सोफा- बिस्तर वगैरा सब तैयार है)। शाम 7:00 बजे से रात 12:00 बजे तक द्वितीय कवि सम्मेलन का आयोजन सांपला सांस्कृतिक मंच द्वारा किया जायेगा।

इस मीट के बारे में कईयों के मन में विचार उठ रहा होगा कि प्रायोजक कौन है? तो इस बारे में मैं आपको बता देना चाहता हूँ कि ऐसे प्रायोजन के लिये प्रायोजक की नहीं आप के आगमन की जरुरत होती है। आप सबसे एक-एक मीठी हंसी (बडी वाली स्माईल) का सहयोग जरुर लिया जायेगा। सुन रहे हो ना नीरज जाटजी (आप मुस्कुराने में बहुत कंजूसी करते हैं) इसके अलावा कोई खर्चा अगर आप करना चाहते हैं तो वहां हलवाईयों और खोमचे वालों की बहुत सी दुकाने हैं, जहां जाकर आप अपनी पसन्द की चाट पकौडी और पकवान खा सकते हैं। :-)

दिसम्बर की सर्दी में माहौल को अपनी कविताओं से गर्म करने के लिये कवि सम्मेलन में श्री अलबेला खत्री, श्री यौगेन्द्र मौदगिल, श्री कृष्णकांत "मधुर", सुश्री कीर्ति माथुर, श्री शभुसिंह मनहर और श्री जौगेन्द्र मोर प्रस्तुति देंगें। आगंतुक ब्लॉगर्स भी मंच पर प्रस्तुति देना चाहें तो खु्शी की बात होगी। 


आप भी अपने आगमन की सूचना (केवल ब्लॉगर मीट/ केवल कविसम्मेलन/ या दोनों के बारे में जरुर बतायें) टिप्पणी, ईमेल या फोन (9871287912) द्वारा जल्द से जल्द दें। ताकि आपके सोने, खाने, आराम आदि की व्यवस्था सामर्थ्यानुसार और बेहतर ढंग से की जा सके। अपने आने की सूचना देने वाले ब्लॉगर्स की सूची अभी तक इस प्रकार है -

15 comments:

  1. अच्छा लगता है ऐसे आयोजन के बारे में जानकार.शुभकामनायें आप सभी को.

    ReplyDelete
  2. कोशिश पूरी करेंगे आने की
    लिस्ट में
    दीपक डुडेजा - दीपक बाबा की बक बक
    कौशल मिश्र - जय बाबा बनारस
    आशुतोष तिवारी - आशुतोष की कलम से

    ९९% पक्का
    १% रामजी का ...

    ReplyDelete
  3. मैं खुद तो नहीं पहुँच सकता लेकिन मेरी शुभकामनायें आपके साथ हैं!

    ReplyDelete
  4. बहुत सुंदर रहेगा प्रोग्राम, भाई हमारी इकलोती धर्म पत्नी भी संग आयेगी...:) ओर दीपक बाबा ओर अन्य दोस्तो के नाम भी दर्ज कर ले, जिन जिन साथियो की सुचना आती रहे उन सब का नाम इसी लिस्ट मे लिखते रहे, फ़िर नयी पोस्ट मे इसी लिस्ट को दिखाये नये नाम को भी साथ साथ शामिल करते रहे, हमारी शुभकामनाऎ.

    ReplyDelete
  5. आदरणीय दीपक बाबा जी
    आपका प्रोफाईल, ब्लॉग लिंक, गूगल+ सबमें एरर आ रहा है।
    चैक कीजिये क्या मामला है?

    प्रणाम

    ReplyDelete
  6. खुशी होती है ऐसे आयोजनों के बारे मे जान कर जिसमें "अनदेखे-अपने" रुबरू हो एक दूसरे को जान समझ कर अनदेखापन खत्म करने का मौका पाते हैं। मेरे दिल्ली प्रवास और कार्यक्रम मे सदा समय अड़चन बन जाता है। पिछली बार भी चार-पांच दिन पहले मुझे लौटना था और इस बार तो करीब महीने का फर्क पड रहा है। अभी पिछली 10 नवम्बर को ही वापस आया हूं। खैर मेरी शुभकामनाएं सदा आपके साथ हैं।

    ReplyDelete
  7. मेरी शुभकामनायें आपके साथ हैं!

    ReplyDelete
  8. अच्‍छा तो मैं आ रही हूं यहां पे ....

    ReplyDelete
  9. आदरणीया संगीता पुरी जी
    आपकी पिछली पोस्ट पर आई टिप्पणी के आधार पर आपका नाम इस सूची में आया है।
    और हमें यकीन है कि आपके दर्शनों से सकारात्मक ऊर्जा की प्राप्ति इस बार भी अवश्य होगी।

    प्रणाम स्वीकार करें

    ReplyDelete
  10. बहुत शुबकामनाएं सभी को ... अगर उन्ही दिनों मन भी देल्ली हुवा तो आऊंगा ...

    ReplyDelete
  11. दिगम्बर नासवा जी आप भी आये तो बहुत अच्छा लगेगा... कोशिश करे..

    ReplyDelete
  12. @ हलवाईयों और खोमचे वालों की बहुत सी दुकाने हैं, जहां जाकर आप अपनी पसन्द की चाट पकौडी और पकवान खा सकते हैं-
    ’दोस्ती पक्की, खर्चा अपना अपना’ वाला उसूल अपन नहीं मानते, आयेंगे तो अपनी पसन्द का खायेंगे और तुम्हारे नाम लिखवायेंगे:)

    ReplyDelete
  13. आयोजन के कामयाब होने की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  14. ham jaise chhote nanhe munne blogger agar aana chahen to???:)

    ReplyDelete
  15. मुकेश जी स्वागत है आपका
    खुशी होगी आपसे मिलकर

    प्रणाम

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।