28/11/11

वायदे टूट जाते हैं अक्सर

श्री राज भाटिया जी ने जर्मनी से आकर आप सबसे मिलने का कार्यक्रम बनाया है। कुछ मित्र कहते हैं कि कोशिश करेंगें। मेरा उनसे कहना है कि वादा मत कीजिये केवल कोशिश कीजियेगा, क्योंकि
वायदे टूट जाते हैं अक्सर, कोशिशें कामयाब होती हैं
तारीख - 24 दिसम्बर 2011
दिन - शनिवार
समय - सुबह 11:00 बजे से शाम 4:00 बजे 
स्थल -  पंजाबी धर्मशाला, रेलवे रोड, सांपला

देखिये निम्न पोस्ट

श्री राज भाटिया जी के ब्लॉग पराया देश से उद्धरित पंक्तियां -  
"मैं अकेला ही चला था, जानिबे मंजिल मगर, 
लोग साथ आते गये, कारवाँ बनता गया" 
हम और आप भी जुड हुये हैं इस कारवाँ से। लेकिन श्री राज भाटिया जी के शब्दों में इस ब्लॉगर मिलन का उद्देश्य केवल आभासी संसार से निकल कर आमने-सामने मिल बैठना है।

अन्तर सोहिल का प्रणाम स्वीकार करें

9 comments:

  1. मैं आपकी बात से सहमत नहीं हूँ कोशिश तो मन बहलाने या टरकाने के लिये दी जाती है जिसको विश्वास होता है वो ही वायदा करता है, जैसे मैं वायदा कर रहा हूँ कि हर हालात में आऊँगा।

    अब जिसकी जुबान ही ना हो उसका वायदा क्या व कोशिश क्या?

    ReplyDelete
  2. आदरणीय संदीप जी

    सबकुछ अपने हाथ में नहीं होता है। कई बार परिस्थितियां जुबान वालों को भी वायदा तोडने पर मजबूर कर देती हैं।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  3. जाट देवता जी
    आप तो जाट हैं जिससे शिव भी घबराते हैं :)
    आपका कहा हुआ ही वायदा होता है। आपसे मिलकर मेरे जैसा भीरु आदमी भी जीवटता महसूस करने लगता है।

    प्रणाम

    ReplyDelete
  4. कोई वायदा नहीं । लेकिन कोशिश पूरी की जाएगी ।
    और आए तो कविता भी सुनायेंगे ।

    ReplyDelete
  5. अरे कोशिश करो, वादा करो, टेक्सी करो, रेल करो, बस करो, साईकिल करो, रिक्क्षा करो, तांगा करो, हवाई जहाज करो या पेदल करो, चाहे बेल गाडी करो... लेकिन आओ जरुर, हम सब आंखे बिछाये बेठे हे, आप सब से मिलन की चाह मे...

    ReplyDelete
  6. mujhe to wo gana yaad aata hai
    milne ki tum koshish karna, waada kabhi na karna
    waada to toot jaata hai

    Rajan
    http://indiagetseverythingfree.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!यदि किसी ब्लॉग की कोई पोस्ट चर्चा मे ली गई होती है तो ब्लॉगव्यवस्थापक का यह नैतिक कर्तव्य होता है कि वह उसकी सूचना सम्बन्धित ब्लॉग के स्वामी को दे दें!
    अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete

नमस्कार, आप सब का स्वागत है। एक सूचना आप सब के लिये जिस पोस्ट पर आप टिपण्णी दे रहे हैं, अगर यह पोस्ट चार दिन से ज्यादा पुरानी है तो मॉडरेशन चालू हे, और इसे जल्द ही प्रकाशित किया जायेगा। नयी पोस्ट पर कोई मॉडरेशन नही है। आप का धन्यवाद, टिपण्णी देने के लिये****हुरा हुरा.... आज कल माडरेशन नही हे******

मुझे शिकायत है !!!

मुझे शिकायत है !!!
उन्होंने ईश्वर से डरना छोड़ दिया है , जो भ्रूण हत्या के दोषी हैं। जिन्हें कन्या नहीं चाहिए, उन्हें बहू भी मत दीजिये।